Friday , May 24 2019
Home / कॉर्पोरेट / जानें, ट्रांजैक्शन बढ़ने के बाद भी क्यों घट रहे ATM

जानें, ट्रांजैक्शन बढ़ने के बाद भी क्यों घट रहे ATM

नई दिल्ली

एक तरफ भारत में कैश पर निर्भरता लगातार बढ़ रही है तो वहीं दूसरी तरफ देश में एटीएम की संख्या में कमी आ रही है। इसकी वजह एटीएम मशीनों के संचालन के लिए नियमों में सख्ती होना है। शनिवार को भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से जारी किए गए आंकड़ों के मुताबिक देश में ट्रांजैक्शंस में इजाफा होने के बावजूद एटीएम की संख्या में कमी आई है। अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष की रिपोर्ट के मुताबिक ब्रिक्स देशों में प्रति एक लाख व्यक्ति पर एटीएम की संख्या के मामले में भारत सबसे पीछे है।

ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक रिजर्व बैंक की ओर से सुरक्षा नियमों को सख्त करने के आदेशों के चलते बैंकों और एटीएम को जरूरी बदलाव करने पड़ रहे हैं। इसके चलते एटीएम और बैकों को बड़ी राशि खर्च करनी पड़ रही है। ऐसे में एटीएम की संख्या कम करने में ही बैंक अपनी भलाई समझ रहे हैं। मोदी सरकार की ओर से नोटबंदी किए जाने के बाद भी अब भी भारत में कैश ही कारोबार और लेनदेन में प्रमुख है।

हिताची पेमेंट सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड की मैनेजिंग डायरेक्टर रुस्तम इरानी के मुताबिक एटीएम की लगातार घटती संख्या के चलते सामाजिक और आर्थिक रूप से कमजोर तबके के लोगों को मुसीबत होगी।

जानकारों के मुताबिक एटीएम संचालन की लागत बढ़ी है, जबकि बैंकों को जिस फीस के चलते रेवेन्यू मिलता है, वे उसे बढ़ाने की स्थिति में नहीं हैं। आरबीआई के डेप्युटी गवर्नर आर. गांधी के मुताबिक एटीएम ऑपरेटर उन बैंकों से इंटरचेंज फीस वसूलते हैं, जिनका कार्ड इस्तेमाल किया जाता है। इस फीस का इजाफा न होने के चलते एटीएम की संख्या में कमी आ रही है। यही जमीनी सच्चाई है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

अंबानी, अडानी के लिए मोदी बेहतर कि मनमोहन

नई दिल्ली देश के अग्रणी कारोबारी घरानों के लिस्टेड शेयरों ने मोदी शासन के पिछले …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)