Wednesday , June 26 2019
Home / राजनीति / एकला चलो की राह पर बसपा, तीन राज्यों में मायावती ने तोड़ा गठबंधन

एकला चलो की राह पर बसपा, तीन राज्यों में मायावती ने तोड़ा गठबंधन

नई दिल्ली,

लोकसभा चुनाव 2019 की सियासी जंग फतह करने के लिए बहुजन समाज पार्टी अध्यक्ष मायावती ने देश के अलग-अलग राज्यों में विभिन्न क्षेत्रीय दलों के साथ गठबंधन के फॉर्मूले को आजमाया था, लेकिन उनकी यह कोशिश पूरी तरह से फेल हो गई. उत्तर प्रदेश से बाहर किसी और राज्य में बसपा कुछ खास असर नहीं दिखा सकी है. इसी का नतीजा है कि बसपा ने एक-एक कर सारे दलों के गठबंधन तोड़ दिया है. इसकी शुरुआत यूपी में सपा के साथ हुई और अब छत्तीसगढ़ में अजीत जोगी की पार्टी से बसपा ने गठबंधन खत्म कर लिया है.

यूपी में सपा से अलग हुई बसपा
मायावती ने देश के सबसे बड़े सूबे यूपी में अपने राजनीतिक वजूद को बचाने और नरेंद्र मोदी के विजय रथ को रोकने के लिए 24 साल पुरानी दुश्मनी को भुलाकर सपा के साथ गठबंधन किया था. अखिलेश-मायावती ने जमकर सूबे में रैलियां की, लेकिन नतीजे आए तो सपा-बसपा के सारे समीकरण ध्वस्त हो गए. मोदी के प्रचंड लहर में सपा-बसपा गठबंधन महज 15 सीटें ही जीत सकी, जिसमें से बसपा 10 और सपा को 5 सीटें मिली हैं. जबकि 2014 में बसपा को एक भी सीट नहीं मिली थी.

हार से हताश मायावती ने सारा ठीकरा सपा पर फोड़ते हुए कहा था कि गठबंधन होने के बाद जैसे नतीजों की उम्मीद थी वह नहीं मिल पाए हैं. ऐसे में सूबे के उपचुनाव में बसपा अकेले चुनाव लड़ेगी. जबकि इससे पहले मायावती इस गठबंधन को वोटर का गठबंधन बता रही थी.

हरियाणा में मायावती ने छोड़ा सैनी का साथ
यूपी के बाद बसपा ने हरियाणा में भी अपने गठबंधन साथी लोकतंत्र सुरक्षा पार्टी (एलएसपी) से नाता तोड़ लिया है. मायावती ने एलएसपी के अध्यक्ष राजकुमार सैनी के साथ चुनावी तालमेल किया था. गठबंधन के तहत हरियाणा की 10 सीटों में से 8 पर बसपा ने अपने प्रत्याशी उतारे थे और एलएसपी ने 2 सीटों पर चुनाव लड़ा था. मोदी लहर में दोनों पार्टियों को बुरी तरह से हार का मुंह देखना पड़ा है.

विधानसभा के लिए तय हुआ था ये फॉर्मूला
लोकसभा चुनावों से पहले हुए बसपा-एलएसपी गठबंधन में 55-35 का फार्मूला विधानसभा चुनावों के लिए तय किया गया था. बसपा को 55 और एलएसपी को 35 सीटों पर चुनाव लड़ना था, लेकिन लोकसभा चुनाव के नतीजों के बाद मायावती ने अपने कदम पीछे खींच लिए हैं. हालांकि, मायावती ने पहले हरियाणा में इंडियन नेशनल लोकदल के साथ गठबंधन किया था, लेकिन इनेलो की पारिवारिक टूट का हवाला देकर बसपा ने यह गठबंधन तोड़ा और राजकुमार सैनी की पार्टी एलएसपी के साथ दोस्ती का हाथ बढ़ाया और अब उसे खत्म कर दिया.

छत्तीसगढ़ में बसपा ने जोगी से तोड़ी दोस्ती
लोकसभा चुनाव में मिली करारी हार का असर छत्तीसगढ़ में भी देखने को मिल रह है. छत्तीसगढ़ में पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की पार्टी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के साथ बसपा ने गठबंधन तोड़ दिया है. अब आगामी निकाय और पंचायत चुनावों में दोनों ही पार्टियां अलग-अलग चुनाव लड़ेंगे. ऐसे में पार्टी सुप्रीमो मायावती ने बसपा के अपने कैडर वोट को मजबूत करने के निर्देश दिए हैं.

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 से पहले सितंबर में अजीत जोगी की पार्टी ने बसपा के साथ गठबंधन किया था. इस चुनाव में प्रदेश की कुल 90 में से 35 सीटों पर बसपा और 55 सीटों पर गठबंधन में अजीत जोगी की पार्टी ने चुनाव लड़ा था. दोनों के गठबंधन को सात सीटें मिली थीं, जिनमें दो बसपा की थीं. इसके बाद लोकसभा चुनाव में सभी 11 सीटों पर बसपा ने अकेले चुनाव लड़ा, लेकिन सफलता नहीं मिली. इसके बाद अब दोनों की राह जुदा हो गई है.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

21 महीने मंत्री रहे अल्फोंस, आज पहली बार बोले

नई दिल्ली राज्यसभा में पूर्व टूरिज्म मिनिस्टर केजे अल्फोंस के लिए बुधवार को जमकर टेबल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)