Wednesday , June 26 2019
Home / Featured / डेंगू पर चौंकाने वाला दावा- 600 करोड़ से ज्यादा लोग होंगे शिकार

डेंगू पर चौंकाने वाला दावा- 600 करोड़ से ज्यादा लोग होंगे शिकार

मच्छरों से पैदा होने वाला खतरनाक डेंगू वायरस करीब 100 से ज्यादा देशों में अपना आंतक फैला रहा है. पूरी दुनिया में करीब तीन अरब से ज्यादा लोगों पर डेंगू का खतरा मंडरा रहा है. हर साल डेंगू के करीब 40 करोड़ से ज्यादा मामले सामने आते हैं. जबकि 22 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हर साल होती है.

एक तरफ जहां दुनियाभर में इस बीमारी के नियंत्रण और रोकथाम के बारे में सोचा जा रहा है, वहीं दूसरी तरफ शोधकर्ताओं ने हालिया आंकड़े जारी करते हुए बताया कि जलवायु परिवर्तन और वैश्विक ताप की वजह से डेंगू का खतरा हर साल तेजी बढ़ेगा. साल 2080 तक डेंगू की चपेट में 600 करोड़ से ज्यादा लोगों के आने की संभावना है.

साइंस मैग्जीन नेचर माइक्रोबायोलॉजी में पब्लिश एक रिपोर्ट के अनुसार वातावरण में अत्यधिक गर्मी मच्छरों की एडीज इजिप्टी प्रजाति को फलने-फूलने में मदद करेगी. मच्छरों की यह प्रजाति उन घनी आबादी वाले इलाकों में ज्यादा पहुंचेगी जहां तापमान में ज्यादा गर्मी होगी. दक्षिणपूर्वी अमेरिका, चीन व जापान के तटीय इलाके और ऑस्ट्रेलिया के कई बड़े हिस्से इन मच्छरों के पनपने की वजह बने हुए हैं.

कैसे बढ़ेगा खतरा-
इंसान की जरूरतों ने उसे गावं-ग्राम से निकलकर शहरों की तरफ रुख करने पर मजबूर कर दिया है. शहरीकरण और आर्थिक विकास की वजह लोग शहरों में रहना पसंद करने लगे हैं. वनों को काटकर वहां बड़ी फैक्ट्रियां और मकान आदि बनाए जा रहे हैं. इन सभी कारणों से वायुमंडल पहले से ज्यादा गर्म होने लगा है. अगर वैश्विक ताप इसी रफ्तार से गर्म होता रहा तो निश्चित ही 2080 तक डेंगू का खतरा ज्यादा बढ़ जाएगा.

इन बीमारियों का भी खतरा-
डेंगू के अलावा चिकुनगुनिया और जीका वायरस से होने वाली बीमारियां भी मच्छर के काटने से ही होती हैं. ये बीमारियां मादा एडीज इजिप्टी मच्छर के कारण फैलती हैं. अन्य प्रजाति के मच्छर किसी भी जीव को काट लेते हैं, लेकिन एडीज मच्छर का मुख्य शिकार इंसान ही होते हैं.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

कांग्रेस से मोदी का सवाल- वायनाड और रायबरेली में हिंदुस्तान हार गया क्या?

नई दिल्ली, संसद के दोनों सदनों में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के अभिभाषण पर चर्चा बीते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)