Wednesday , October 23 2019
Home / राज्य / मायावती अकेले चुनाव लड़ें तो चार विधानसभा सीटों पर ही सिमट जाएंगी

मायावती अकेले चुनाव लड़ें तो चार विधानसभा सीटों पर ही सिमट जाएंगी

ई दिल्ली,

बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने सोमवार को ऐलान कर दिया कि आगे आनेवाले सभी चुनाव उनकी पार्टी अकेले ही लड़ेगी. समाजवादी पार्टी के शासन में दलितों के साथ हुए कथित अन्याय को दोषी ठहराते हुए उन्होंने साफ कर दिया कि आगे आने वाले चुनावों में वे सपा संग हाथ नहीं मिलाएंगी.

सोमवार को ट्विटर पर मायावती ने अपना बयान पोस्ट किया और कहा, ‘वैसे भी जगजाहिर है कि सपा के साथ सभी पुराने गिले-शिकवों को भुलाने के साथ-साथ सन् 2012-17 में सपा सरकार के बीएसपी व दलित विरोधी फैसलों, प्रमोशन में आरक्षण विरुद्ध कार्यों एवं बिगड़ी कानून व्यवस्था आदि को दरकिनार करके देश व जनहित में सपा के साथ गठबंधन धर्म को पूरी तरह से निभाया, परंतु लोकसभा आम चुनाव के बाद सपा का व्यवहार बीएसपी को यह सोचने पर मजबूर करता है कि क्या ऐसा करके बीजेपी को आगे हरा पाना संभव होगा? जो संभव नहीं है. अतः पार्टी व मूवमेंट के हित में अब बीएसपी आगे होने वाले सभी छोटे-बड़े चुनाव अकेले अपने बूते पर ही लड़ेगी.’

बसपा और सपा ने 2019 लोकसभा चुनावों के ठीक पहले ही एक दूसरे से हाथ मिलाया था और रुझान आने के कुछ दिन बाद ही गठबंधन भंग कर दिया. इन चुनावों में यह जरूर साफ हो गया कि सपा बसपा के इस गठबंधन से फायदा मायावती को ही पहुंचा. उन्हें यादवों के वोट तो जरूर प्राप्त हुए, लेकिन वे गठबंधन को दलितों के संपूर्ण वोट नहीं दिला सकीं.

2014 लोकसभा चुनावों में जहां बसपा एक सीट भी नहीं जीत पाई थी. सपा के साथ 2019 में पार्टी ने 10 लोकसभा सीटें जीतीं. समाजवादी पार्टी को 2014 की भांति इस बार भी 5 सीटों से ही संतोष करना पड़ा. अब जब बसपा ने अकेले चुनाव लड़ने का फैसला कर लिया है, तो सवाल उठता है कि क्या मायावती अकेले चुनाव लड़कर सत्ता हासिल कर पाएंगी?

इंडिया टुडे की डाटा इंटेलिजेंस यूनिट (DIU) ने 2019 लोकसभा और 2017 विधानसभा के रुझानों की तुलना की. यदि 2022 के होने वाले विधानसभा चुनाव 2019 के लोकसभा चुनाव के रुझानों का अनुसरण करते हैं तो सपा के साथ के बिना बसपा विधानसभा में मात्र चार सीटों पर ही सिमट जाएगी.

गठबंधन का अंकगणित
2019 लोकसभा चुनाव के रुझानों का विधानसभा सीटों के हिसाब से वोट शेयर देखें तो पता चलता है कि बसपा 65 विधानसभा सीटों पर जीत रही है, सपा 40 सीटों पर, राष्ट्रीय लोक दल- जिसने बाद में गठबंधन से हाथ मिलाया- चार विधानसभा सीटों पर जीत रही है.

इससे यह साफ है कि बसपा का ग्राफ ऊपर ही गया है- 2017 में बसपा को 19 सीटें मिलीं. 2019 में बसपा 19 सीटों से 65 सीटों पर आगे आई, जबकि सपा 2017 में मिली 47 सीटों से गिरकर 40 सीटों पर सिमट गई.

जिन 65 सीटों पर मायावती आज जीत दर्ज कर रही हैं उनमें से 55 सीटें ऐसी थीं जिस पर सपा और बसपा 2017 उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों में अलग-अलग लड़े थे. बची हुई 10 सीटों पर सपा की जगह कांग्रेस पार्टी ने चुनाव लड़ा था, क्योंकि उस समय कांग्रेस का सपा के साथ गठबंधन था.

इन 10 सीटों पर समाजवादी पार्टी के वोटों का हिस्सा जानने के लिए हमने 2017 से लेकर 2019 तक के चुनावों में बसपा और कांग्रेस के वोट शेयर में आए बदलाव को आंका. इस आकलन से यह पता चला कि इन दस में से 8 सीटें ऐसी थीं जहां पर कांग्रेस के वोटों का गिराव बसपा की बढ़त के लगभग बराबर था. हमने इनके न्यूनतम अंतर को सपा का वोट शेयर माना.

बिना गठबंधन के बसपा
उन सभी 65 सीटों पर जहां बसपा पहले स्थान पर आई, भाजपा दूसरे स्थान पर विराजमान थी. DIU ने 2019 में जीती गई बसपा की सभी 65 विधानसभा सीटों में से 2017 में सपा को प्राप्त हुए वोट शेयर को घटाया. इन नंबरों को घटाने के बाद पता चला कि बिना सपा के सहयोग से बसपा केवल 4 विधानसभा सीटों पर ही जीत दर्ज कर पाई, और ज्यादा वोट शेयर होने की वजह से 61 सीटों पर भाजपा जीत दर्ज कर गई.

सहारनपुर, फूलपुर पवई, पुरकाजी और अमरोहा यह चार सीटें थीं जहां पर बसपा अकेले लड़े तो जीत जाएगी, लेकिन इन चार सीटों पर भी बसपा कोई भारी भरकम जीत नहीं दर्ज कर पा रही. बिना सपा के साथ के सहारनपुर में बसपा 31.9 प्रतिशत वोट प्राप्त हुए. भाजपा को 29.54 प्रतिशत, जिससे इनके बीच का अंतर 2.36 प्रतिशत ही रह गया. ऐसे ही बसपा और भाजपा के बीच फूलपुर पवई, पुरकाजी और अमरोहा में यह अंतर क्रमशः 3.34, 5.32 और 7.71 प्रतिशत था.

सपा भी कोई बड़ी विजेता नहीं
यदि 2022 के विधानसभा चुनाव 2019 के लोकसभा चुनाव जैसे ही रुझान दें, तो ऐसा नहीं है कि गठबंधन टूटने से मायावती को ही नुकसान होगा, सपा को भी भारी चोट लग सकती है. जिस तरीके से हमने बसपा के वोटों में से सपा के वोट घटाए, यदि वैसे ही सपा के वोटों में से बसपा के वोट घटा दें तो सपा भी 40 सीटें नहीं जीत पाएगी. बसपा का साथ हटने से सपा केवल 8 विधानसभा सीटों पर ही आगे आ पाएगी. इस बंटवारे से भाजपा को 31 सीटों पर बढ़त मिलेगी और अपना दल(सोने लाल) को 1 सीट प्राप्त होगी.

कुल मिलाकर यदि 2022 विधानसभा चुनाव 2019 लोकसभा की तरह रंग दिखाएं और सपा-बसपा अलग-अलग चुनाव लड़ें तो बसपा के हाथ 4 और सपा के हाथ में 8 विधानसभा सीटें हाथ आएंगी. इन दोनों पार्टियों के अलग होने से भाजपा को विधानसभा में 368 प्राप्त हो सकती हैं.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

कमलेश मर्डर केस: ऐसे एटीएस के जाल में फंसे मुख्य आरोपी

लखनऊ लखनऊ स्थित नाका हिंडोला के खुर्शीद बाग में शुक्रवार को हिंदू समाज पार्टी के …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)