Monday , August 26 2019
Home / Featured / आरटीआई से खुलासा : पार्टियों ने दिल्ली में भुनाया 5,814 Cr का गुप्त दान

आरटीआई से खुलासा : पार्टियों ने दिल्ली में भुनाया 5,814 Cr का गुप्त दान

इंदौर

सियासी दलों को चंदा देने के लिए मार्च 2018 से मई 2019 के बीच कुल 5,851.41 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड खरीदे गए। यह खुलासा सूचना के अधिकार (RTI) के तहत एक सवाल के जवाब से हुआ है। गौर करने वाली बात यह है कि इनमें से 80.6 प्रतिशत बॉन्ड सिर्फ नई दिल्ली में भुनाए गए, जहां प्रमुख सियासी दलों के राष्ट्रीय मुख्यालय स्थित हैं। मध्य प्रदेश के नीमच निवासी आरटीआई कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ ने दो अलग-अलग अर्जियों पर सूचना के अधिकार के तहत भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) से मिले आंकड़े रविवार को साझा किए। यह जानकारी चुनावी बॉन्डों की बिक्री और इन्हें भुनाए जाने के शुरुआती 10 चरणों पर आधारित है।

दिल्ली में 874.50 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड बिके
उन्होंने बताया कि आलोच्य अवधि में नई दिल्ली में कुल 874.50 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड बिके, जबकि राष्ट्रीय राजधानी में इस रकम के मुकाबले पांच गुना से भी ज्यादा 4,715.58 करोड़ रुपये के बॉन्ड भुनाए गए। मुंबई में 1,782.36 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड खरीदे गए, लेकिन वहां इनमें से केवल 7% यानी 121.13 करोड़ रुपये के बॉन्ड ही भुनाए गए। इसी तरह कोलकाता में करीब 1,389 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्डों की बिक्री हुई और वहां 167.50 करोड़ रुपये के बॉन्ड (12%) भुनाए। बेंगलुरु में करीब 195 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड खरीदे गए, लेकिन उनमें से वहां इनमें से महज 1.5 करोड़ रुपये यानी एक प्रतिशत बॉन्ड ही भुनाए गए।

5,851.41 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड खरीदे गए
हैदराबाद में 806.12 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड बिके और 512.30 करोड़ रुपये के बॉन्ड भुनाए गए। भुवनेश्वर में 315.76 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड बिके और 226.50 करोड़ रुपये के बॉन्ड भुनाए गए। चेन्नई में 184.20 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड बिके और 51.55 करोड़ रुपये के बॉन्ड भुनाए गए। आलोच्य अवधि के दौरान देशभर में मार्च 2018 से मई 2019 के बीच 5,851.41 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड खरीदे गए।

20.25 करोड़ के बॉन्ड की वैधता खत्म हुई
कुल 10 चरणों में बंटी इस अवधि के दौरान 5,831.16 करोड़ रुपये के बॉन्ड भुनाए गए। यानी 20.25 करोड़ रुपये के शेष बॉन्ड तय समय-सीमा में भुनाये नहीं जा सके और नियमानुसार इनकी वैधता समाप्त हो गई। आलोच्य अवधि में गांधीनगर, गुवाहाटी, जयपुर, रायपुर, पणजी, तिरुअनंतपुरम और विशाखापत्तनम में कुल 279.70 करोड़ रुपये के चुनावी बॉन्ड बिके। लेकिन सातों शहरों में एक भी बॉन्ड नहीं भुनाया गया। शुरुआती 10 चरणों के दौरान 13 शहरों-अगरतला, आइजोल, बादामी बाग (श्रीनगर), भोपाल, देहरादून, गंगटोक, इम्फाल, ईटानगर, कोहिमा, पटना, रांची, शिलॉन्ग और शिमला में एक भी चुनावी बॉन्ड नहीं बिका। लेकिन बादामी बाग, पटना, रांची और गंगटोक में कुल 17.5 करोड़ रुपये के बॉन्ड भुनाए गए।

चंदा देने वालों के नाम का खुलासा नहीं
बहरहाल, आरटीआई के तहत इस बात का ब्योरा सामने नहीं आया है कि चुनावी बॉन्ड खरीदने वाले चंदादाता कौन थे और इन बंधपत्रों से किन-किन सियासी पार्टियों के खजाने में कितनी रकम जमा हुई। लेकिन नियमों के मुताबिक वे ही सियासी दल चुनावी बॉन्ड के जरिये चंदा लेने की पात्रता रखते हैं, जो लोक प्रतिनिधित्व कानून की धारा 29-ए के तहत पंजीबद्ध हैं और जिन्हें लोकसभा या विधानसभा के पिछले आम चुनाव में पड़े वोटों में से कम से कम एक प्रतिशत वोट मिले हों।

एसबीआई की शाखाओं से भुनाए गए ये बॉन्ड
गौरतलब है कि आलोच्य अवधि में देशभर में एसबीआई की विभिन्न अधिकृत शाखाओं के जरिए एक हजार रुपये, दस हजार रुपये, एक लाख रुपये, दस लाख रुपये और एक करोड़ रुपये के मूल्य वर्गों वाले चुनावी बॉन्ड बिक्री के लिए जारी किए गए थे। ये बॉन्ड चंदा पाने वाले सियासी दलों द्वारा एसबीआई की अधिकृत शाखाओं में चालू खाते खोलकर भुनाए गए।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

पुलिस कार्रवाई न होने से खफा जवान ने कहा- बन जाऊंगा पान सिंह तोमर

भोपाल, चंबल के बीहड़ों में इंसाफ न मिलने से खफा लोगों के बंदूक उठाकर बागी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)