Monday , August 26 2019
Home / Featured / श्रद्धांजलि सभा:’370 की खुशी, कृष्ण के चरणों में पहुंचीं सुषमा’ : मोदी

श्रद्धांजलि सभा:’370 की खुशी, कृष्ण के चरणों में पहुंचीं सुषमा’ : मोदी

नई दिल्ली

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को आयोजित श्रद्धांजलि सभा में पूर्व विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को याद करते हुए कई बातें बताईं। PM ने सुषमा स्वराज के स्वभाव, कृष्ण भक्ति, अनुशासन, अनुच्छेद 370 पर खुशी, सख्त फैसले, प्रोटोकॉल समेत कई बातों का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि सुषमा जी सबके लिए प्रेरणा का स्रोत थीं। व्यवस्था के तहत, अनुशासन के तहत, जो भी काम मिले उसे जी जान से करना और व्यक्तिगत जीवन में ऊंचाई प्राप्त करने के बाद भी करना, कार्यकर्ता के लिए इससे बड़ी प्रेरणा कोई हो नहीं सकती है।

जब चुनाव न लड़ने का लिया फैसला
पीएम ने कहा कि इस बार उन्होंने (सुषमा) चुनाव न लड़ने का फैसला किया। एक बार उन्होंने पहले भी ऐसा किया था। तब मैं और वेंकैया जी उनसे मिले। उन्होंने मना किया, लेकिन जब उनसे कहा गया कि आप कर्नाटक जाइए और विशेष परिस्थिति में इस चुनाव में लड़िए। परिणाम करीब-करीब निश्चित था, लेकिन यह चुनौती भरा काम था, पार्टी के लिए उन्होंने यह काम किया। इस बार मैं उनको समझाता था कि सब संभाल लेंगे, लेकिन इस बार उन्होंने किसी की नहीं सुनी। वह अपने विचारों की पक्की थी।

नतीजे आते ही मकान किया खाली
पीएम ने कहा कि कोई सांसद जब सांसद नहीं रहता है, लेकिन सरकार को उसका मकान खाली कराने के लिए सालों तक नोटिस भेजना पड़ता है। सुषमा जी ने सब कुछ समेटने का तय कर लिया था। चुनाव परिणाम आए, उनका दायित्व पूरा हुआ तो उन्होंने पहला काम यह किया कि मकान खाली करके अपने निजी निवास पर चली गईं। मोदी ने कहा कि सार्वजनिक जीवन में ये सब चीजें बहुत कुछ कहती हैं।

पीएम से जय श्रीकृष्ण कहती थीं सुषमा
पीएम मोदी ने कहा कि उनका भाषण प्रभावी होने के साथ प्रेरक भी होता था। वे कृष्ण भक्ति को समर्पित थीं। हम जब भी मिलते थे वह मुझे जय श्रीकृष्ण कहती थीं, मैं उन्हें जय द्वारकाधीश कहता था, लेकिन कृष्ण का संकेत वह जीती थीं। उनके जीवन को देखें तो पता चलता है कि कर्मण्येवाधिकारस्ते क्या होता है।

पीएम ने कहा कि अब जीवन की विशेषता देखिए, उन्होंने सैकड़ों फोरम में जम्मू-कश्मीर की समस्या पर बोला होगा। आर्टिकल 370 पर बोला होगा, एक तरह से उसके साथ वह जी जान से जुड़ी थीं। जब जीवन का इतना बड़ा सपना पूरा होता है और खुशी समाती न हो… सुषमा जी के जाने के बाद जब मैं बांसुरी से मिला तो उन्होंने कहा कि इतनी खुशी-खुशी वह गईं हैं कि उसकी कल्पना करना मुश्किल है। एक प्रकार से उमंग से भरा मन नाच रहा था और उस खुशी के पल को जीते-जीते वह श्री कृष्ण के चरणों में पहुंच गईं।

सुषमा जी का हरियाणवी टच…
पीएम ने कहा कि सुषमा जी की एक खासियत थी, लेकिन यहां उसे बोलने की कोई हिम्मत नहीं कर रहा है शायद। वह मृदु थीं, नम्र थीं, ममता से भरी थीं, सब था, लेकिन कभी-कभी उनकी जुबान में हरियाणवी टच भी रहता था। हरियाणवी टच के साथ बात को फटाक से कहना और उससे टस से मस न होना भीतर से कन्विक्शन के रूप में प्रकट होता था। ये सार्वजनिक जीवन में बहुत कम होता है। अच्छी-अच्छी बात करने वाले लोग बहुत मिल जाते हैं लेकिन जब जरूरत पड़े तो कठोरतापूर्वक बोलना भी जरूरी है। मेरे लिए कोई क्या सोचेगा, यह सोचने की जगह सही निर्णय होना चाहिए, यह जरूरी है। इसके लिए कड़ाई के साथ हरियाणवी बोली का प्रयोग करना पड़े तो वह पीछे नहीं हटती थीं।

प्रोटोकॉल पर मोदी ने बताई अहम बात
पीएम ने कहा कि आम तौर पर विदेश मंत्रालय मतलब कोट-पैंट, प्रोटोकॉल इसी के आसपास घूमता है। विदेश मंत्रालय की हर चीज में प्रोटोकॉल सबसे पहले होता है। उन्होंने कहा कि सुषमा जी ने प्रोटोकॉल की परिभाषा को पीपल्स कॉल में परिवर्तित कर दिया। दुनिया में रह रहे किसी भी भारतीय की समस्या मेरी समस्या है, यह विदेश मंत्रालय के चरित्र में परिवर्तन लाना बहुत बड़ा काम था और बेहद कम समय में उन्होंने ऐसा किया।

उन्होंने बताया कि एक समय था, आजादी के 70 साल में देश में करीब-करीब 77 पासपोर्ट ऑफिस थे। सुषमा जी के समय में पांच साल में 505 पासपोर्ट ऑफिस उन्होंने शुरू कराए। ये काम सुषमा जी सहज रूप से करती थीं। PM ने कहा कि उम्र में मुझसे छोटी थीं, लेकिन मैं सार्वजनिक रूप से कहना चाहूंगा कि मुझे उनसे बहुत कुछ सीखने को मिलता था।

श्रद्धांजलि सभा में पीएम मोदी के अलावा गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, बीजेपी के सीनियर नेता मुरली मनोहर जोशी और कांग्रेस नेता आनंद शर्मा समेत कई दिग्गज नेताओं ने शिरकत की। आपको बता दें कि सुषमा स्वराज का छह अगस्त को रात में दिल का दौरा पड़ने से 67 वर्ष की उम्र में निधन हो गया था। स्वराज ने दिल्ली के एम्स अस्पताल में आखिरी सांस ली। कुछ साल पहले उनका किडनी ट्रांसप्लांट भी हुआ था।

पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि 6 अगस्त को कांग्रेस की बैठक चल रही थी तभी सूचना मिली कि सुषमा जी गंभीर हैं। बैठक में सभी लोगों ने कहा कि पहले उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेनी चाहिए। शर्मा ने बताया कि कुछ समय बाद ही निधन की सूचना मिली। पूरा देश शोक में था, पूरी दुनिया ने श्रद्धांजलि दी। उनका कद भले ही छोटा था, लेकिन उनका व्यक्तित्व और ह्रदय बहुत बड़ा था। मेरी उनके साथ तीखी बहस भी होती थी, लेकिन उनकी बातों में कभी अहंकार और कटुता नहीं होती थी।

बीएसपी नेता सतीश चंद्र मिश्रा ने कहा कि जोहानिसबर्ग में नेल्सन मंडेला की श्रद्धांजलि थी। मैं भी सुषमा जी के साथ गया था। उस समय उनके साथ बातचीत का मौका मिला। उनका व्यवहार बड़ी बहन जैसा था। आज उनके लिए श्रद्धांजलि कर रहे हैं, इसका भरोसा नहीं होता है। मिश्रा ने कहा कि बीएसपी प्रमुख ने खास तौर पर यहां पार्टी की तरफ से श्रद्धांजलि देने मुझे भेजा है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

‘राहुल को J&K इंजॉय करने जाना है तो फिर…’

नई दिल्ली जम्मू कश्मीर दौरे से लौटाए गए राहुल गांधी ने अब ट्वीट कर केंद्र …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)