Wednesday , October 23 2019
Home / Featured / सरकारी बैंकों के निजीकरण के ख‍िलाफ खड़े हुए पीयूष गोयल, गिनाईं वजहें

सरकारी बैंकों के निजीकरण के ख‍िलाफ खड़े हुए पीयूष गोयल, गिनाईं वजहें

नई दिल्ली,

बैंकों के निजीकरण को जरूरी बताने के सवाल पर केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री पीयूष गोयल सामने आए और उन्होंने सरकारी बैंकों का जमकर बचाव किया. उन्होंने कहा कि सच तो यह है कि निजी बैंकों में भ्रष्टाचार के मामले ज्यादा सामने आए हैं और देश में आज जो इतना विकास हुआ है वह सार्वजनिक बैंकों की वजह से है. मुंबई में आयोजित इंडिया टुडे कॉन्क्लेव 2019 में शुक्रवार को पीयूष गोयल ने यह बात कही.

‘थर्मोस्टैट रीडिंग्स: 5 रीजन्स फॉर कॉन्सर्न ऐंड 5 सेलिब्रेशन इन इंडियाज इंडस्ट्र‍ियल क्लाइमेट’ सत्र का संचालन इंडिया टुडे एवं आजतक के न्यूज डायरेक्टर राहुल कंवल ने किया. इकोनॉमी के बारे में एक सवाल पर क्रेडिट सुइस के मैनेजिंग डायरेक्टर नीलकंठ मिश्रा ने कहा कि पब्लिक सेक्टर बैंकों के निजीकरण की जरूरत है. सरकारी बैंकों में बैड लोन की समस्या है, लेकिन 60 फीसदी लोन अब भी सरकारी बैंक देते हैं, इसे बदलना होगा. उन्होंने कहा कि ग्रोथ में समस्या यह है कि बैंक अब कर्ज नहीं देना चाह रहे, लोग डरे हुए हैं, इसलिए खर्च नहीं कर रहे, कंपनियां नया निवेश नहीं करना चाह रहीं.

सरकारी बैंकों से हुआ विकास
सार्व‍जनिक बैंकों पर पड़ी चोट से केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने एक तरह से नाराजगी दिखाते हुए कहा कि सच तो यह है कि सबसे ज्यादा भ्रष्टाचार और स्कैंडल केस निजी बैंकों, कंपनियों, एनबीएफसी से सामने आए हैं. यह सरकार इस सिस्टम की सफाई करना चाहती है. उन्होंने कहा, ‘निजीकरण हर समस्या का हल नहीं है. पब्लिक सेक्टर बैंक की वजह से आज देश में इतना विकास हुआ है, इन्फ्रास्ट्रक्चर का विकास हुआ है. युवा कारोबारियों को निजी बैंक लोन नहीं देते, यह काम सरकारी बैंक करते हैं, सरकारी बैंकों की भूमिका की सराहना करनी होगी.’

उन्होंने कहा, ‘हमें इस गर्व है कि आज सरकारी बैंकों की ही मदद से सीमांत क्षेत्र में बैंकिंग मिल रही है जहां निजी बैंक नहीं जाते. इन्फ्रास्ट्रक्चर, पावर सेक्टर, मैन्युफैक्चरिंग का विकास सब सरकारी बैंकों की बदौलत हुआ है. खुद मुझे सरकारी बैंकों का फायदा हुआ है.’ पीयूष गोयल ने कहा कि सरकारी बैंक जोखि‍म लेकर लोन दे रहे हैं, लेकिन निजी बैंक बहुत सुरक्षि‍त लोन देना चाहते हैं. भारत को आगे बढ़ना है तो हमें पब्लिक सेक्टर बैंक को सपोर्ट करना होगा.

एनआरआई को आकर्ष‍ित किया जाए
हिंदुजा समूह के प्रकाश हिंदुजा ने कहा कि एनआरआई के लिए टैक्सेशन फ्लेक्स‍िबिलिटी जैसा दूसरे देशों में है यहां नहीं है, इसलिए दूसरे देश निवेश आकर्ष‍ित कर लेते हैं. पीएम को मेरा सुझाव है कि एनआरआई को रेड कारपेट वेलकम देना चाहिए ताकि चीन जैसी सफलता भारत में भी NRIs को मिले. उन्होंने कहा कि एनआरआई आधा ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी हैं. पहले इंडिया का ग्रोथ एनआरआई की बदालैत होती रही है.

कॉरपोरेट टैक्स कट का स्वागत
प्रकाश हिंदुजा ने कॉरपोरेट टैक्स में कटौती के वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के कदम का स्वागत किया. भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि कॉरपोरेट टैक्स में कटौती एक साहसिक कदम है. इससे टैक्स चोरी करने वाली पैरलल इकोनॉमी भी कम होगी. इस पैमाने पर इतना ज्यादा टैक्स कट करने का निर्णय बहुत कम हुआ है. दूसरे देशों में व्यक्तियों पर ज्यादा टैक्स होता है कॉरपोरेट पर कम, लेकिन यहां अभी भी उलटा है.

कोटक महिंद्रा म्यूचुअल फंड के एमडी नीलेश शाह ने कहा कि यह एक महत्वपूर्ण कदम है, लेकिन अभी इकोनॉमी की समस्या की जड़ पर काम करना होगा. हमारे देश में भूमि अधि‍ग्रहण कठिन है, श्रम कानून लचीले नहीं है, पूंजी हासिल करना मुश्किल है और बुनियादी ढांचा विकास पर्याप्त नहीं है. इस पर काम करना होगा.

जेपी मॉर्गन के इकोनॉमिस्ट साजिद चिनॉय ने कहा कि मीडियम टर्म में इससे भारतीय कंपनियां दुनिया में प्रतिस्पर्धी होंगी, नजदीकी अवधि में अर्थव्यवस्था का सेंटिमेंट सुधरेगा, लेकिन इसमें फिस्कल चैलेंज है. सरकार को लॉन्ग टर्म में डिसइनवेस्टमेंट को आगे बढ़ाना होगा और मीडियम टर्म में फिस्कल टारगेट को पूरा करना होगा. अगले दो तीन साल महत्वपूर्ण हैं. लैंड, लेबर पावर, एजुकेशन को सुधारना होगा. आज की शुरुआत अच्छी है, लेकिन बाकी चीजों पर भी ध्यान देना होगा.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

झारखंड: चुनाव से पहले 6 विपक्षी विधायक बीजेपी में शामिल

रांची झारखंड में विधानसभा चुनाव से पहले सत्ताधारी बीजेपी ने विपक्षी दलों को बड़ा झटका …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)