Tuesday , November 12 2019
Home / राज्य / सुप्रीम फैसले से पहले छावनी में बदली अयोध्‍या

सुप्रीम फैसले से पहले छावनी में बदली अयोध्‍या

लखनऊ

अयोध्या मामले में सुनवाई पूरी होने के बाद शनिवार सुबह 10.30 बजे सुप्रीम कोर्ट की संवैधानिक पीठ अपना फैसला सुनाएगी। एक ओर जहां पूरे देश की निगाहें इस फैसले पर टिक गई हैं, वहीं दूसरी ओर अयोध्या समेत प्रदेश के सभी जिलों में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम कर दिए गए हैं। प्रदेश के सभी जिलों को हाई अलर्ट पर रखते हुए प्रदेश के सभी शैक्षिक संस्थानों को 9 से 11 नवंबर तक बंद रखने का आदेश जारी किया गया है। सुरक्षा के क्रम में अयोध्या जिले की सभी सीमाओं को सील कर दिया गया है।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले यूपी के वाराणसी, प्रयागराज, आगरा, मेरठ, लखनऊ, मथुरा, मेरठ, मुरादाबाद, गोरखपुर और अलीगढ़ समेत तमाम अन्य जिलों में सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं। इन जिलों में अधिकारियों को पूरी सतर्कता बरतने और संवेदनशील स्थानों पर पुख्ता सुरक्षा इंतजाम कराने के निर्देश जारी किए गए हैं। यूपी में आईजी जेल आनंद कुमार ने शुक्रवार शाम सभी जिलों के जेल अधिकारियों प्रशासन के साथ संपर्क में रहने और कानून व्यवस्था की स्थितियों के लिए जरूरी हर इंतजाम सुनिश्चित करने के लिए कहा है।

डीजीपी ने प्रदेश के लोगों से की अपील
यूपी के डीजीपी ओपी सिंह ने प्रदेश के लोगों से अपील करते हुए कहा है कि प्रदेश के लोग सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे किसी भी मेसेज की सत्यता जांचे बगैर इसे फॉरवर्ड ना करें। डीजीपी ने अपनी अपील में कहा है, ‘उत्तर प्रदेश पुलिस सोशल मीडिया की पूरी निगरानी कर रही है। बावजूद इसके अगर कोई यह सोचकर कि पकड़ा नहीं जाऊंगा और गलत मैसेज फॉरवर्ड करता है तो यह उसकी गलतफहमी होगी। पुलिस आपके सहयोग और सहायता के लिए तत्पर है और आप से भी अपेक्षा करती है कि पुलिस का पूरा सहयोग करेंगे। हम यह भी अपेक्षा करते हैं कि अफवाह फैलाने वालों के खिलाफ 112 नंबर, ट्विटर सेवा अथवा निकटतम थाने के थाना अध्यक्ष या प्रभारी निरीक्षक को सूचना देंगे।’

सीएम योगी ने भी दिया है निर्देश
फैसले से पहले गुरुवार को देर रात सीएम योगी आदित्यनाथ ने विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए प्रदेश के डिविजनल कमिश्नरों, डीएम और अन्य उच्चाधिकारियों से बात कर सुरक्षा का जायजा लिया था। वहीं शुक्रवार रात फैसले की तारीख तय होने के बाद सीएम योगी ने लखनऊ में मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक के साथ बैठक की। इसके अलावा सीएम योगी ने प्रदेश के लोगों से फैसले के बाद शांति और सौहार्दपूर्ण माहौल बनाए रखने एवं पूरी सतर्कता बरतने के निर्देश दिए हैं।

अयोध्या में पुख्ता सुरक्षा बंदोबस्त
फैसले के मद्देनजर उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से कई जिलों में पुख्ता सुरक्षा इंतजाम कर दिए गए हैं। फैसले से पहले अयोध्या में सुरक्षा चाक-चौबंद कर दी गई है। शहर के हर मुख्य चौराहे पर पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाई है और किसी भी अज्ञात वाहन और संदिग्ध लोगों पर पैनी नजर रखी जा रही है। कोर्ट के फैसले से पहले अयोध्या में प्रशासन ने 500 लोगों को अरेस्ट किया है, जबकि 12000 लोगों पर नजर रखी जा रही है। अयोध्या में स्थितियों को काबू में रखने के लिए रैपिड ऐक्शन फोर्स के 4000 जवानों के साथ पुलिस बल की तैनाती की गई है। इसके साथ ही खुफिया एजेंसियों के अधिकारी भी हर गतिविधि पर नगर रख रहे हैं।

चीफ जस्टिस से मिले शीर्ष अधिकारी
शुक्रवार को ही चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने यूपी के मुख्य सचिव राजेंद्र कुमार तिवारी और डीजीपी ओपी सिंह से प्रदेश के सुरक्षा इंतजामों पर एक लंबी बैठक की थी। इसके बाद शुक्रवार शाम को यह खबर सामने आई की शनिवार सुबह कोर्ट इस केस का फैसला सुनाएगा। सूत्रों के अनुसार उत्तर प्रदेश के शीर्ष अधिकारियों ने सीजेआई को अयोध्या केस पर फैसले के बाद कानून और व्यवस्था की स्थिति को संभालने की तैयारियों के बारे में जानकारी दी। यूपी के अधिकारियों ने CJI को जानकारी दी कि अयोध्या के फैसले के बाद पूरा प्रशासन यूपी के सभी जिलों में हर तरह की स्थिति से निपटने के लिए तैयार है। CJI ने यूपी के अधिकारियों को सभी कदम उठाने और यह सुनिश्चित करने के लिए कहा है कि अयोध्या पर फैसले के बाद पूरे यूपी में किसी भी जगह कोई अप्रिय घटना न हो।

आईजी रेंज ने की अपील
उधर, आईजी अयोध्या रेंज डॉ. एस गुप्ता ने लोगों से शांति बनाए रखने की अपील की है। उन्होंने कहा, ‘मैं लोगों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि उन्हें घबराने की जरूरत नहीं है। कुछ भी फैसला आए, किसी को भड़काऊ भाषण नहीं देना चाहिए। सोशल मीडिया पर गलत पोस्ट ना डालें। हम अलर्ट हैं और नजर रख रहे हैं।’

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

महाराष्ट्र में किसकी सरकार: अजब स्थिति में फंस गई शिवसेना

मुंबई महाराष्ट्र में चल रहे नाटकीय सियासी घटनाक्रम ने मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए बीजेपी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)