Sunday , December 8 2019
Home / Featured / आसन ने पुकारा संबित पात्रा का नाम, सदस्य बोले- उन्होंने कोशिश तो बहुत की मगर…!

आसन ने पुकारा संबित पात्रा का नाम, सदस्य बोले- उन्होंने कोशिश तो बहुत की मगर…!

नई दिल्ली,

संसद के उच्च सदन (राज्यसभा) में बुधवार को सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री थावर चंद गहलोत ने उभयलिंगी व्यक्ति (अधिकारों का संरक्षण) विधेयक, 2019 चर्चा के लिए पेश किया गया. राज्यसभा में जब ट्रांसजेंडर पर्सन्स बिल पर चर्चा हो रही थी, उस वक्त आसन पर मौजूद कहकशां परवीन से एक गलती हो गई.

बीच चर्चा आसन से हुई गलती
बिल पर चर्चा के दौरान जब यूपी से राज्यसभा सांसद और सपा नेता जया बच्चन अपना पक्ष रख रही थीं तो उसके बाद कहकशां परवीन को ओडिशा से बीजेडी सांसद सस्मित पात्रा को बुलाना था लेकिन जल्दबाजी में वे बीजेपी नेता संबित पात्रा का नाम ले बैठीं. उन्होंने कहा, “श्री संबित पात्रा जी…” हालांकि उनको तुरंत ही अपनी गलती का अहसास हो गया और उन्होंने उसे सुधारते हुए सस्मित पात्रा का नाम पुकारा.

आसन की इस गलती ने सांसदों को हंसाया
संबित पात्रा का नाम सुनते ही चर्चा के दौरान राज्यसभा में मौजूद सांसदों के मुंह से हंसी निकल पड़ी. लोगों ने उन्हें करेक्ट करने की भी कोशिश की. किसी सांसद ने कहा, ”संबित इज देयर, सस्मित इज हेयर”. किसी ने कहा, “संबित ने ट्राई बहुत किया लेकिन नहीं हो पाया.” जया बच्चन ने भी इस पर टिप्पणी करते हुए कहा, “वो वैसे ही हैं जैसे आपका नाम बुलाया जाता है.”

कौन हैं कहकशां परवीन
राज्यसभा के पीठासीन अधिकारियों के पैनल में शामिल कहकशां परवीन बिहार से राज्यसभा सांसद हैं. वे जनता दल (युनाइटेड) की नेता हैं. 27 जुलाई 2018 को कहकशां पैनल में शामिल हुई थीं. कहकशां का राज्यसभा का कार्यकाल अप्रैल 2014 से अप्रैल 2020 तक है.

जया बच्चन बोलीं- वे लोग भी हम जैसे होते हैं
यूपी से सपा सांसद जया बच्चन ने कहा कि जिस रफ्तार से यहां सेंसेटिव बिल को लोग सपोर्ट कर रहे हैं उससे मैं आश्चर्य में हूं. सर्टिफिकेशन इज आलसो ए डिस्क्रिमिनेशन. वे बिलकुल हम जैसे होते हैं. आपने सर्टिफिकेट की बात की. हमें उन्हें ह्यूमिलिएट करने का अधिकार नहीं है. आपने पहले तो उन्हें सेगरेट कर दिया. इसमें टेक्निकल प्वाइंट बहुत हैं जिस पर ध्यान नहीं दिया गया. इसके तरफ ध्यान देकर फिर से थिंकिंग के लिए जाना चाहिए. एक आदमी बल पूर्वक भी ट्रांसजेंडर बनाया जा सकता है, उसकी बात बिल में नहीं हैं. इस पर और सोचने की जरूरत है.

इस बिल के मुताबिक ट्रांसजेंडर कौन हैं?
ट्रांसजेंडर व्यक्ति वो है, जिसका जेंडर उसके जन्म के समय निर्धारित हुए जेंडर से मैच नहीं करता. इनमें ट्रांस-मेन, ट्रांस-विमन, इंटरसेक्स या जेंडर-क्वियर और सोशियो-कल्चर आइडेंटिटी जैसे हिजड़ा और किन्नर से संबंध रखने वाले लोग भी शामिल हैं.

आइडेंटिटी के लिए सर्टिफिकेट
इस बिल के मुताबिक, हर ट्रांसजेंडर के पास खुद को आदमी, औरत या थर्ड जेंडर (ट्रांसजेंडर) के तौर पर पेश करने का अधिकार होगा. हालांकि, खुद को ट्रांसजेंडर की पहचान दिलाने के लिए, ट्रांस-पर्सन को सर्टिफिकेट बनवाना होगा. इसके लिए डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट के पास अप्लाई करना होगा. एक रिवाइज्ड सर्टिफिकेट भी मिल सकता है. ये केवल तब होगा, जब एक व्यक्ति जेंडर कन्फर्म करने के लिए सर्जरी करवाता है. उसके बाद सर्टिफिकेट में संशोधन होगा.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

उन्नाव गैंगरेप पर फूटा गुस्सा, इंडिया गेट पर पुलिस से भिड़ीं लड़कियां

नई दिल्ली हैदराबाद से लेकर उन्नाव तक बेटियों के साथ गैंगरेप और जलाने की दर्दनाक …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)