Home भेल न्यूज़ सोलर प्लांट की स्थापना और कर्मचारियों की मांगों को लेकर इंटक लड़ेगी...

सोलर प्लांट की स्थापना और कर्मचारियों की मांगों को लेकर इंटक लड़ेगी लड़ाई

 9 अगस्त को फाउन्ड्री गेट क्रांति स्थल पर होगा विशाल सत्याग्रह

भोपाल

देश को राजनीतिक आजादी मिली है लेकिन आर्थिक आजादी के लिए राजनीति पेटर्न पर संघर्ष करना पड़ेगा। भेल की जमीन पर सोलर प्लांट की स्थापना और कर्मचारियों की मांगों को लेकर भेल इंटक लड़ार्ह लड़ेगी। यह बात भेल इंटक के अध्यक्ष आरडी त्रिपाठी ने एक प्रेस विज्ञप्ति में कही। उन्होंने कहा कि आजाद भारत की भारी विद्युत उपकरण बनाने वाली भेल को अब कठिन संघर्ष करना पड़ेगा। सरकार का रवैया सार्वजनिक उपक्रमों के प्रति ठीक नहीं है।

भेल भोपाल की जमीन पर पहले एनटीपीसी और भेल के कॉलेब्रशन में बनने वाले उद्योग को अनुमति नहीं दी गई और अब मप्र सरकार यहां लगने वाले 58 करोड़ रूपये के सोलर प्लांट मेें बाधा बना हुआ है। इससे सस्ती बिजली के साथ 10 करोड़ के अनुदान का नुकसान भी इस यूनिट को भुगतना पड़ा है। इसके लिए इंटक व्यापक रूप से जन आंदोलन छेड़ेगी। श्री त्रिपाठी का कहना है कि भेल के कर्मचारियों को पीपी बोनस की घोषणा आज तक नहीं की गई जबकि घाटे वाले महारत्न उद्योग को इन्हीं कर्मचारियों ने प्राफिट में लाकर खड़ा कर दिया। कावासाकी के समझौते के अनुसार भेल भोपाल यूनिट मैट्रो का काम करने पूरी तरह सक्षम है।

इंटक की मांगे
-पीपी बोनस का जल्द भुगतान
-आर्टिजन का पद नाम परिवर्तन
-2009 से 2012 तक के आर्टिजनों को ढाई इंक्रीमेंट
-पुराने पे-एनावली का निपटारा
-गोविन्दपुरा की जमीन पर भेल कर्मियों को भूखण्ड आवंटन
-कवर्ड केम्पस टाउनशिप का निर्माण
-रिटायर्ड कर्मचारियों को 10000 रूपये का ईएनएम का भुगतान
-ठेका श्रमिकों के वेतन मेेंं बढ़ोतरी
-कारखाने में कर्मचारियों को मुफ्त भोजन

दोस्तों के साथ शेयर करे.....