Home भेल न्यूज़ भेल भोपाल यूनिट ने पहली तिमाही ने कमाया 58 करोड़ से ज्यादा...

भेल भोपाल यूनिट ने पहली तिमाही ने कमाया 58 करोड़ से ज्यादा का मुनाफा

0 412 views

भोपाल

पिछले वित्तीय वर्ष की तिमाही में 42 करोड़ का मुनाफा कमाने वाली भेल भोपाल यूनिट ने इस वित्तीय वर्ष की तिमाही में 58 करोड़ का रिकार्ड मुनाफा कमाया है,जबकि कंपनी की अन्य यूनिटों ने मुनाफे में कम ही योगदान दिया है। इसमें रानीपेट और हैदराबाद यूनिट भी मुनाफे में रही है। भेल दिल्ली कार्पोरेट ने कंपनी के इस तिमाही में मुनाफे 80.82 करोड़ मुनाफे कमाने की घोषणा की है,जबकि 2.5 करोड़ की अन्य आय बताई है। भोपाल यूनिट ने इस बार तिमाही लक्ष्य का पीछा करते हुए 800 करोड़ का टर्न ओवर पूरा किया। अकेले जुलाई माह में यूनिट ने करीब 214 करोड़ का टर्न ओवर किया है। ऐसे में यूनिट ने अब तक 1014 करोड़ का टर्न ओवर पूरा कर लिया है।

खबर है कि भेल और जापान की कावासाकी हैवी इंडस्ट्रीज एक संयुक्त उद्यम लगाना चाहती है यदि यह उद्यम लगता है तो भोपाल यूनिट को 2000 करोड़ तक का काम मिल सकता है। यहां सभी संसाधन मौजूद हैं। कहा जा रहा है कि कन्ट्रौल पैनल अल्टरनेटर और प्रोपल्सन सिस्टम बनाने में इस यूनिट को महारथ हासिल है। इससे काम में काफी बढ़ौतरी होगी। इधर बिजली के भारी उपकरण बनाने वाली सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड (भेल) को इस वित्तीय वर्ष की 30 जून को समाप्त हुए पहली तिमाही में एकल आधार पर 80.82 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा हुआ है जो पिछले वित्तीय वर्ष की समान तिमाही के 77.77 करोड़ रुपये की तुलना में 3.92 फीसदी अधिक है। कंपनी के मुताबिक तिमाही में उसकी कुल आय पिछले वित्तीय वर्ष के 6070.21 करोड़ रुपये की तुलना में इस वित्तीय वर्ष में बढ़कर 6194.21 करोड़ रुपये पर पहुंच गयी है। इस दौरान उसने कुल 5607 करोड़ रुपये का कारोबार किया। पिछले वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में भी उसने करीब इतना ही कारोबार किया था।

कंपनीकी माने तो निदेशक मंडल ने शेयरधारकों को दो रुपये मूल्य के प्रति दो शेयरों पर दो रुपये मूल्य का एक शेयर बोनस देने को मंजूरी भी दी है। प्रबंधन द्वारा रणनीतिक मुहिमों तथा खर्च में कटौती के कदम उठाने से वृद्धि की रफ्तार को जारी रख पाना संभव हुआ है। उन्होंने कहा कि कंपनी विद्युत क्षेत्र में अग्रणी स्थान बरकरार रखने के साथ ही गैर-तापीय विद्युत क्षेत्र एवं अन्य क्षेत्रों को बढ़ानेे पर ध्यान दे रही है। इसके अलावा कंपनी सौर ऊर्जा तथा पर्यावरण से संबंधित अत्याधुनिक तकनीक के क्षेत्र में आभियांत्रिकी खरीद और निर्माण संसाधनों के जरिये समावेशी ऊर्जा के विकास पर भी ध्यान दे रही है।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....