Home राज्य J&K: नाबालिग से रेप के दोषियों को होगी फांसी, अध्यादेश को राज्यपाल...

J&K: नाबालिग से रेप के दोषियों को होगी फांसी, अध्यादेश को राज्यपाल ने दी मंजूरी

0 19 views
Rate this post

श्रीनगर

जम्मू-कश्मीर में महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों को रोकने के लिए सख्त कानून लागू करने का रास्ता साफ हो गया है। राज्य में महिला अपराधों पर लगाम कसने के लिए राज्यपाल एन एन वोहरा ने गुरुवार को दो बेहद महत्वपूर्ण अध्यादेशों को मंजूरी दी है। इनमें 12 वर्ष से कम उम्र की बच्चियों के साथ बलात्कार करने वाले अपराधियों को मौत की सजा दिए जाने का प्रावधान शामिल है।

स्वीकृत अध्यादेशों को बारे में जानकारी देते हुए गुरुवार को सरकार के प्रवक्ता ने कहा, ‘गवर्नर एन एन वोहरा ने जम्मू कश्मीर बाल यौन हिंसा रोकथाम अध्यादेश , 2018, और जम्मू – कश्मीर आपराधिक कानून ( संशोधन ) अध्यादेश , 2018 को मंजूरी दे दी है।’ राज्यपाल की मंजूरी के बाद यह दोनों कानून तत्काल प्रभाव से राज्य भर में लागू भी कर दिये गए हैं। प्रवक्ता ने बताया कि जम्मू कश्मीर समेत देश के विभिन्न हिस्सों में महिलाओं के खिलाफ हिंसा की घटनाओं में बढ़ोतरी के कारण केन्द्रीय आपराधिक कानून 2018 के अनुरूप राज्य के भी कानूनों में संशोधन की जरूरत थी, जिसके बाद सरकार ने इन अध्यादेशों को लागू कराने का निर्णय लिया।

12 साल से कम उम्र की बच्ची से रेप पर फांसी
प्रवक्ता ने कहा कि राज्यपाल द्वारा गुरुवार को स्वीकृत जम्मू कश्मीर आपराधिक कानून ( संशोधन ) अध्यादेश , 2018 के तहत 12 वर्ष से कम आयु की लड़की के साथ बलात्कार के दोषी को मौत की सजा दी जा सकती है। अधिकारी ने बताया कि इस अध्यादेश में 16 वर्ष से कम आयु की किशोरियों के साथ बलात्कार के लिए 20 वर्ष की कैद की सजा का प्रावधान है। इसके साथ ही इस कानून के लागू होने के बाद बलात्कार के किसी मामले की जांच को दो महीने के भीतर पूरा करना होगा। इसके अलावा कोर्ट में मामले की सुनवाई को भी 6 महीने के भीतर खत्म करना होगा और अगर कार्रवाई में ज्यादा समय लगता है तो उच्च न्यायालय को इसकी जानकारी भी देनी होगी।

केंद्र ने भी अध्यादेश को दी थी मंजूरी
बता दें कि देश के कई हिस्सों में नाबालिग बच्चियों के साथ बलात्कार की घटनाओं के सामने आने के बाद केंद्र सरकार ने पिछले दिनों पॉक्सो ऐक्ट में संशोधन के लिए एक अध्यादेश को मंजूरी दी थी। इस अध्यादेश की मंजूरी के बाद नए नियमों के तहत 12 साल से कम उम्र के मासूमों के साथ रेप करने के दोषियों को मौत की सजा देने का प्रावधान किया गया था। इसके साथ ही 16 साल से कम उम्र की लड़कियों के साथ रेप के दोषी पाए जाने वाले लोगों के लिए 20 साल की सजा देने का प्रावधान भी किया गया था। इतना ही नहीं, अध्यादेश में 12 साल से कम उम्र की लड़की से रेप के दोषी को न्यूनतम 20 साल की जेल या उम्रकैद या मौत की सजा देने का प्रावधान भी किया गया था।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....