Home अंतरराष्ट्रीय राष्ट्रपति की दावेदारी में टेड क्रूज से पिछड़े डॉनल्ड ट्रंप

राष्ट्रपति की दावेदारी में टेड क्रूज से पिछड़े डॉनल्ड ट्रंप

0 226 views
Rate this post

अयोवा

Donald Trumpटेक्सस सीनेटर टेड क्रूज ने अयोवा का रिपब्लिकन कॉकस जीत लिया है। राष्ट्रपति पद के लिए रिपब्लिकन दौड़ में सबसे आगे चल रहे डॉनल्ड ट्रंप के लिए यह करारा झटका है। सोमवार को उन्होंने अयोवा में रिपब्लिकन कॉकस में अरबपति डॉनल्ड ट्रंप और फ्लोरिडा के सीनेटर मार्क रुबियो को हरा दिया। डेमोक्रेटिक पार्टी में हिलरी क्लिंटन और बर्नी सैंडर्स में मामूली अंतर है।

क्रूज टेक्सस से कंजर्वेटिव सीनेटर हैं। उन्होंने ट्रंप के 24 पर्सेंट वोट के मुकाबले 28 पर्सेंट वोट हासिल किया। फ्लोरिडा से यूएस सीनेटर मार्को रुबियो 23 पर्सेंट वोट के साथ तीसरे नंबर पर रहे। जाहिर है क्रूज की इस जीत के बाद रिप्बलिकन कैंडिडेट के बीच उनकी दावेदारी मजबूत हुई है। डेमोक्रेटिक पार्टी में अमेरिका की पूर्व विदेश मंत्री हिलरी क्लिंटन अपने प्रतिद्वंद्वी बर्नी सैंडर्स से मामूली आगे हैं। हिलरी क्लिंटन 49.9 पर्सेंट वोट के साथ सैंडर्स को 49.4 पर्सेंट वोट को चुनौती दे रही हैं। मैरीलैंड के पूर्व गवर्नर मार्टिन ओ’मैली डेमोक्रेटिक रेस में खुद को नहीं रख पाए और उन्हें अपना कैंपेन वापस लेना पड़ा। इन्हें 0.6 वोट मिला है।

क्रूज की ट्रंप पर जीत के बाद साबित हो गया है कि अयोवा में इस कंजरवेटिव नेता का समर्थन था। क्रूज ने इस राज्य में महीनो बिताया था। यह अपने आप में ट्रंप के लिए कड़ा झटका है। ट्रंप कुछ ज्यादा ही आत्मविश्वास से भरे दिख रहे थे। ट्रंप ने अपने बयानों के जरिए अपनी पार्टी को ही अजीब स्थिति में लाकर छोड़ दिया था। ट्रंप ने मुसलमानों को लेकर आपत्तिजनक बयान दिया था। अयोवा कॉकस से अमेरिका में 2016 के राष्ट्रपति पद के चुनाव की शुरुआत हुई थी। इस अप्रत्याशित प्रतियोगिता में रिपब्लिकन और डेमोक्रेट अपनी-अपनी दावेदारी पेश कर रहे हैं।

कॉकस चुनाव में भाग लेने वाले मतदाता स्कूलों, चर्चों और अन्य स्थानों पर कॉकस या बैठकें करते हैं। इस चुनाव की प्रक्रिया आयोवा से शुरू हुई है, जो अगले कुछ हफ्तों तक अमेरिका के बाकी के 49 राज्यों और अमेरिका शासित इलाकों में जारी रहेगी। मतदान स्थानीय समय के अनुसार शाम सात बजे शुरू हुआ। आयोवा में चुनाव प्रणाली दिलचस्प है। इसमें लोग राज्य भर में किसी के घर, स्कूल या अन्य जगहों पर स्थानीय समयानुसार शाम सात बजे जमा होते हैं।

डेमोक्रेटिक पार्टी के समर्थक अपने पसंदीदा उम्मीदवारों के आधार पर गुटों में बंट जाते हैं। वहीं रिपब्लिकन पार्टी के कॉकस में बैलट पेपर का इस्तेमाल होता है। आयोवा की रिपब्लिकन पार्टी के मुताबिक 2012 के चुनाव में एक लाख 20 हजार मतदाताओं ने हिस्सा लिया था। इस बार उससे अधिक मतदाताओं के भाग लेने की संभावना है। डेमोक्रेटिक पार्टी ने भी अधिक मतदान की संभावना जताई है। लेकिन उसे 2008 की तरह मतदान की उम्मीद नही है, जब दो लाख 40 हजार मतदाताओं ने मतदान किया था। मतदान के नतीजे कुछ घंटे बाद ही घोषित कर दिए जाते हैं।

राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनने के लिए डेमोक्रेटिक और रिपब्लिकन पार्टियों के दावेदारों की महीनों की चुनाव प्रचार मुहिम के बाद इस मध्य पश्चिमी राज्य में मतदाता कॉकस में अपनी पसंद व्यक्त करने के लिए चर्च के बेसमेंटों, स्कूलों की जिमों और लाइब्रेरी में लाइन खड़े दिखे। डेमोक्रेटिक पार्टी के दावेदारों की बात की जाए तो हिलरी 2008 में मिली असफलता को पीछे छोड़ने की तैयारी में हैं लेकिन इसके लिए उन्हें बर्नी सैंडर्स की कड़ी चुनौती से पार पाना होगा ताकि वह अमेरिका की पहली महिला राष्ट्रपति बनकर इतिहास रचने की दिशा में आगे बढ़ सकें। उन्हें आयोवा में मौजूदा राष्ट्रपति बराक ओबामा के हाथों हार का सामना करना पड़ा था।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....