Home मिर्च- मसाला मुंबई ईएमआरपी में साहब के बल्ले-बल्ले

मुंबई ईएमआरपी में साहब के बल्ले-बल्ले

0 865 views

भोपाल

भेल भोपाल यूनिट से जुड़ी मुंबई ईएमआरपी में एक साहब के बल्ले-बल्ले हैं। वह इसी यूनिट से तबादले पर मुंबई पहुंचे। चर्चा है कि यह साहब सिविल के हेड बनकर गये थे आजकल एचआर की जवाबदारी भी संभाल रहे हैं। इनके साथ एक एचआर एक्जीक्युटिव की भूमिका भी अहम बताई जा रही है कभी भोपाल यूनिट के गेस्ट हाउस कांड में चर्चाओं में रहे एक तत्कालीन ईडी के खास माने जाने वाले मुंबई के एचआर के हेड उनके अहसानों के तले कुछ इस तरह दबे हुए है कि जब भी वह मुंबई पहुंचते है तो एचआर साहब उनकी सेवा में पूरी तरह लग जाते हैं। वह भी उन पर कुछ इस तरह खर्च करते है कि यह पता भी न चले कि यह सारा खर्च भेल जैसी महारत्न कंपनी से हो रहा है।

यहां चर्चा इस बात की है कि जब भी तत्कालीन ईडी मुंबई पहुंचते है तो चार पहिया वाहन और अन्य सुविधायें पूरी तरह मुहैया कराई जाती हैं। मुंबई के एचआर साहब यह भी देखने की जरूरत महसूस नहीं करते कि तत्कालीन ईडी के साथ कौन आया है। खबर है कि सारा खर्चा भेल किसी और के नाम से होता है। यदि ट्रेवल्स ड्राईवर से ही पता कर लिया जाये तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जायेगा। चर्चा है कि इस मामले में वहां के केशियर ने बिल पास करने पर आपत्ति भी दर्ज कराई थी। लेकिन बेचारे केशियर की कोई सुनने वाला ही नहीं है। अब तत्कालीन ईडी के अहसान तले दबे एचआर साहब भोपाल के सीआईएम का काम भी ईएमआरपी बुलाने लगे है। चर्चा है कि एक सप्लायर जो यहां वर्षो से जमा है उसे भरपूर लाभ पहुंचाया जा रहा हैं। इसमें तत्कालीन ईडी का लाभ शुभ व शौक जुड़े हुए है।

अब एजीएम प्रमोशन लिस्ट की बारी

प्रमोशन के मामले में पहली बार धीमी रफ्तार से चल रहा है भेल कार्पोरेट प्रबंधन सीनियर डीजीएम की प्रमोशन लिस्ट निकालने के बाद अब एजीएम की लिस्ट जारी करने की तैयारी में लगा है इसके चर्चा है कि अपर महाप्रबंधक से महाप्रबंधक पद के लिए तीन यूनिटों में साक्षात्कार न होने के कारण यह लिस्ट लंबी खिच सकती है। इसलिए इस पद के दावेदार इस बात के लिए तैयार रहे कि कब किसका पत्ता कट जाये और कब किसी का नाम जुड़ जाये ऐसी चर्चाएं सुनी जा रही हैं। भोपाल यूनिट में वैसे ही महाप्रबंधकों की कमी देखी जा रही हैं इसका असर भी प्रोडक्शन पर दिखाई दे रहा है। भले ही अकेले मुखिया कितनी ही मेहनत कर ले । इधर इस यूनिट में महाप्रबंधकों की कमी के चलते बाहर की यूनिट के कुछ भोपाल आने की जुगाड़ में लगे हुए हैं। अपर महाप्रबंधक की प्रमोशन में कुछ अफसरों के नाम के चर्चाएं हैं बीबी कंदीर, मीनी नायडू, एके गुप्ता, अजय धोटे, शरद मेहरोत्रा, एसके गुप्ता, डॉ पी वसंत हर्ले, आरके कनोदिया, निशीथ खरे, एआर राजीव, नरेश सिंह, श्रीनिवास राव ,जय चटर्जी, एसके विश्वास,हीरालाल बरानी, प्रीति गुप्ता, दीपा प्रभाकर, राजेश अग्रवाल, आकाश दाणी,डॉ श्रीमती एन डींगरोचा और सपन सुहाने को वरिष्ठ उप महाप्रबंधक से अपर महाप्रबंधक पद पर प्रमोशन मिल सकता है।

भेल में महाप्रबंधकों के पद खाली

भेल भोपाल यूनिट में कई महाप्रबंधकों के पद खाली होने से यूनियन नेता भी परेशान हैं। पहाड़ जैसा टारगेट पूरा करना यहां के लिए चुनौती भरा है। अकेले मुखिया सात प्रोडक्ट मैनेजर की दम पर पूरा काम संभाले हुए हैं। चर्चा है कि इस यूनिट से महाप्रबध्ंाक ईएम के माथुर, मनोज वर्मा और संजय गुलाटी का तबादला बाहर की सूनिट में कर दिया गया हैं। महाप्रबंधक संजय गुप्ता सितम्बर में रिटायर होने वाले हैं। महाप्रबंधक डीडी पाठक को दो विभाग, एम हलदर को दो, एमएस किनरा को दो, एच के निगम को चार विभाग का काम सौंप रखा है। जीएम थर्मल का प्रभार एजीएम पीके मिश्रा संभाल रहे है ऐसे में कारखाने में महाप्रबंधकों की कमी महसूस की जा रही हैं। चर्चा है कि जीएम एचआर के लिए भी अभी से कुछ नाम चल पड़े है। लेकिन कोर एचआर कौन होगा या फिर बाहर की यूनिट से लायेंगे इस पर गंभीर चिंतन चल रहा है। कारखाने में नेताओं के जन्म दिन मनाने को लेकर कर्मचारी परेशान हैं और प्रशासन सुस्त। इससे घंटो उत्पादन प्रभावित हो रहा है। प्रबध्ंान मूक दर्शक बना हुआ है इसको लेकर मेहनतकश कर्मचारी शीर्ष प्रबंधन को शिकायत करने से भी कतरा रहे हैं। प्रबंधन महाप्रबध्ंाक की नई प्रमोशन लिस्ट जारी होने के इंतजार में बैठा है। कौन होगा महाप्रबध्ंाक मानव संसाधन या श्री किनरा ही बने रहेंगे इसको लेकर कारखाने मेें चर्चाओं का बाजार गर्म है।

दोस्तों के साथ शेयर करे.....