Friday , July 10 2020
Home / Featured / गुजरातः भरूच में केमिकल फैक्ट्री में धमाका, 5 की मौत, 57 घायल

गुजरातः भरूच में केमिकल फैक्ट्री में धमाका, 5 की मौत, 57 घायल

भरूच ,

गुजरात के भरूच में एक केमिकल फैक्ट्री में भीषण आग की घटना घटी है. भरूच के दाहेज में स्थिति केमिकल फैक्ट्री के टैंक में धमाके से 5 लोगों की मौत हो गई है, जबकि 57 लोग घायल बताए जा रहे हैं. घटना बुधवार दोपहर में हुई. फायर ब्रिगेड टीम ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया है. घायलों को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

भरूच के कलेक्टर एमडी मोदिया ने बताया कि बुधवार दोपहर एक एग्रो-केमिकल कंपनी के बॉयलर में विस्फोट की घटना घटी थी. सभी घायलों को भरूच के अस्पतालों में ले जाया गया है और आग पर काबू पा लिया गया है. उन्होंने बताया कि आग पूरी फैक्ट्री में लगी थी. एहतियात के तौर पर केमिकल प्लांट के पास के दो गांवों को खाली कराया गया है. फैक्ट्री में काफी तरह केमिकल रखे गए थे. इस घटना की पूरी जांच होगी.

20 किलोमीटर दूर भी सुनाई दी धमाके की आवाज
धमाके के बाद लगी आग बुझाने के लिए घटनास्थल पर दमकल की कम से कम 15 गाड़ियां मौजूद हैं। स्थानीय लोगों के मुताबिक, धमाका इतना जोरदार था कि लगभग 20 किलोमीटर दूर के गांवों और भावनगर जिले में भी आवाज सुनाई दी। घटना के बाद धुएं का गुबार भावनगर में भी दिखाई दे रहा था। सूत्रों के मुताबिक, धमाके के कारण आसपास के कुछ एलएनजी पेट्रोनेट के ऑफिसों की खिड़कियों के शीशे भी चकनाचूर हो गए।

एहतियात के तौर पर जिला प्रशासन ने कंपनी के पास के लुवारा और लखिगाम गांव और अदानी पोर्ट और पेट्रोनेट एलएनजी के दफ्तरों का खाली करा दिया है। अधिकारियों ने बताया कि आग के कारण हाइड्रोजन, सल्फर डाई ऑक्साइड, जायलीन और एथेनॉल को स्टोर करना खतरे से खाली नहीं है। वहीं जीपीसीबी के मेंबर सेक्रेटरी ए वी शाह ने बताया कि ऑर्गैनिक कार्बन का उत्सर्जन निश्चित मात्रा से ज्यादा हो गया था, अब स्थिति काबू में है।

बीते महीने में आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम में एक फार्मा कंपनी में गैस लीकेज का मामला सामने आया था. इस हादसे में करीब 12 लोगों की मौत हो गई थी और सैकड़ों लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे. एलजी पॉलिमर्स कंपनी की लापरवाही के चलते स्टाइरीन गैस रिसाव हुआ था. यह खुलासा मॉनिटरिंग कमेटी ने नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के समक्ष दाखिल अपनी रिपोर्ट में किया.

मॉनिटरिंग कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि एलजी पॉलिमर्स कंपनी की लापरवाही और ट्रेनिंग के अभाव में गैस रिसाव हुआ, जिसमें 12 लोगों की मौत हो गई. इस हादसे में 22 जानवर भी मारे गए थे. मॉनिटरिंग कमेटी ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि एलजी पॉलिमर्स कंपनी ने स्टाइरीन गैस प्लांट में बुनियादी सुरक्षा मानकों का पालन नहीं किया था. साथ ही 800 टन से ज्यादा स्टाइरीन गैस को प्लांट से निकाला गया. आंध्र प्रदेश हाईकोर्ट के पूर्व जस्टिस बी. शेषासायण रेड्डी के नेतृत्व वाली जॉइंट मॉनिटरिंग कमेटी ने फैक्ट्री सेफ्टी इंस्पेक्टर्स और सेफ्टी स्टैंडर्ड के पैन इंडिया ऑडिट की भी जांच की.

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

यूपी कोरोना: जब से हुए हजार पार, बढ़ने लगी टेंशन

लखनऊ पिछले एक हफ्ते में उत्तर प्रदेश में कोरोना की रफ्तार बढ़ गई है। चार-पांच …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
204 visitors online now
39 guests, 165 bots, 0 members
Max visitors today: 222 at 12:09 am
This month: 222 at 07-10-2020 12:09 am
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm