Thursday , July 2 2020
Home / राजनीति / राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस के लिए BJP का चक्रव्यूह

राज्यसभा चुनाव: कांग्रेस के लिए BJP का चक्रव्यूह

नई दिल्ली

राज्यसभा की 18 सीटों के लिए 19 जून को होने वाले चुनाव में कांग्रेस को घेरने के लिए बीजेपी ने चक्रव्यूह रच दिया है। गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान में बीजेपी ने एक-एक अतिरिक्त उम्मीदवार उतारकर चुनाव को हाई-वोल्टेज बना दिया है। 2017 में इसी तरह बीजेपी ने गुजरात में एक अतिरिक्त उम्मीदवार उतारकर कांग्रेस के दिग्गज अहमद पटेल की सीट फंसा दी थी। कांग्रेस के 6 विधायकों ने तब चुनाव से ठीक पहले इस्तीफा दे दिया था। एक वोट निरस्त होने की वजह से किसी तरह अहमद जीत पाए थे लेकिन इसके लिए कांग्रेस को चुनाव आयोग से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक लड़ाई लड़नी पड़ी थी।

इस बार गुजरात में राज्यसभा की 4 सीटें खाली हुई हैं। बीजेपी और कांग्रेस दोनों ही 2-2 सीटें जीत सकती हैं। लेकिन बीजेपी ने नरहरि अमीन को तीसरे उम्मीदवार के तौर पर उतार दिया है। खास बात यह है कि कांग्रेस के 5 उम्मीदवार इस्तीफा दे चुके हैं। फिलहाल गुजरात विधानसभा में बीजेपी के 103 विधायक हैं। कांग्रेस के 68, भारतीय ट्राइबल पार्टी (बीटीपी) के 2 और एनसीपी का एक विधायक है।

बीजेपी की इस घेरेबंदी के बावजूद कांग्रेस को भरोसा है कि गुजरात में 2 सीटों को जीतने के लिए उसके पास पर्याप्त विधायक हैं। कांग्रेस उम्मीदवार शक्ति सिंह गोहिल कहते हैं, ‘BJP अनैतिक हथकंडे अपना रही है और उसने हमारे 5 विधायकों से इस्तीफा दिलवा दिया है। लेकिन हम 2 सीटें जीतने के लिए पूरी तरह आश्वस्त हैं।’ उन्होंने कहा, ‘हमें एक सीट जीतने के लिए 35.01 वोट की दरकार होगी जो हमारे पास हैं।’

कांग्रेस बीटीपी के 2 विधायकों और एक निर्दलीय के साथ अपनी संख्या को 71 के रूप में देख रही है। इस तरह वह 2 सीटें आसानी से जीत जाएगी। दूसरी तरफ बीजेपी को 3 सीटें जीतने के लिए 106 विधायकों के साथ की जरूरत पड़ेगी। इसका मतलब है कि बीजेपी को अपने तीनों उम्मीदवारों को जिताने के लिए 3 और वोटों की जरूरत होगी।

इसी तरह मध्य प्रदेश में कांग्रेसके लिए 2 और बीजेपी के लिए 1 सीट जीतना आसान होता। हालांकि, ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी के साथ आने और 22 कांग्रेस विधायकों से इस्तीफा दिलवाने के बाद यहां भी राज्यसभा की लड़ाई दिलचस्प हो गई है। नए समीकरणों से सूबे में कांग्रेस का संख्या बल 92 तक सिमट गया है। बीजेपी के पास 107 विधायक हैं। बीएसपी के 2 तो समाजवादी पार्टी का एक विधायक है। 4 विधायक निर्दलीय हैं। एमपी में 3 राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव होने हैं। एक सीट को जीतने के लिए 52 वोटों की जरूरत होगी।

बीजेपी के पास 107 सीटें हैं जो ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुमेर सिंह सोलंकी दोनों को जिताने के लिए जरूरी 104 सीटों से ज्यादा है। कांग्रेस उम्मीदवार फूल सिंह भरैया की राह मुश्किल दिख रही है। एमपी बीजेपी अध्यक्ष वीडी शर्मा कहते हैं, ‘हम चुनाव के लिए तैयार हैं। हमारे दो उम्मीदवार तो आसानी से जीत जाएंगे। कांग्रेस के दिग्विजय सिंह के भी जीतने के आसार हैं लेकिन फूल सिंह भैरया का रास्ता कठिन है।’

बात राजस्थान की करें तो यहां भी एमपी की तरह राज्यसभा की 3 खाली सीटों के लिए 19 जून को चुनाव है। कांग्रेस ने केसी वेणुगोपाल और नीरज डांगी को तो बीजेपी ने राजेंद्र गहलोत और ओएस लखावत को मैदान में उतारा है। अगर समीकरणों की बात करें तो 200 सदस्यीय राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस के 107 विधायक हैं, जबकि बीजेपी के 72 एमएलए। निर्दलीय और अन्य मिलाकर 21 विधायक हैं। राजस्थान में एक सीट जीतने के लिए 51 वोटों की जरूरत पड़ेगी। कांग्रेस आसानी से 2 सीट और बीजेपी 1 सीट जीत सकती है। लेकिन कांग्रेस की मुश्किल बढ़ाने के लिए बीजेपी ने एक अतिरिक्त उम्मीदवार खड़ा किया है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

चीनी ऐप्स बैन पर बोले रविशंकर, ड्रैगन पर किया ‘डिजिटल स्ट्राइक’

नई दिल्ली लद्दाख के गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के धोखे और ड्रैगन संग तनातनी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
63 visitors online now
32 guests, 31 bots, 0 members
Max visitors today: 98 at 05:12 pm
This month: 98 at 07-02-2020 05:12 pm
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm