Monday , July 6 2020
Home / Featured / चीखें रुला देंगी…डॉक्टरों ने छुआ नहीं, बच्चे के शव से लिपटा पिता

चीखें रुला देंगी…डॉक्टरों ने छुआ नहीं, बच्चे के शव से लिपटा पिता

कानपुर

कोरोना के बीच उत्तर प्रदेश की कई सरकारी व्यवस्थाएं पत्थर के बुत में तब्दील हो गई हैं। न जाने कितनों ने इनसे मदद की गुहार लगाई, बार-बार सिर टकराया लेकिन सुनवाई नहीं हुई। सुपरपावर देशों से जिस यूपी की तुलना हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की थी, वहां की एक तस्वीर सत्ता (Yogi Government) पर बैठे हर शख्स को देखनी चाहिए। मामला है उत्तर प्रदेश के कन्नौज जनपद का, जहां पर माता-पिता अपने एक साल के बच्चे को लेकर पहुंचे।

जब वे अस्पताल पहुंचे तो बच्चा बुखार से तप रहा था, गले में सूजन थी। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, दंपती का आरोप है कि वे डॉक्टरों के सामने बच्चे के इलाज को गिड़गिड़ाते रहे लेकिन बुत में तब्दील व्यवस्थाएं भी भला किसी की कहां सुनती हैं। माता-पिता कहते हैं, ‘डॉक्टरों ने बच्चे को छूने से मना कर दिया, वे कहने लगे कि इसे कानपुर ले जाओ, जो कि तकरीबन 90 किलोमीटर दूर था। डॉक्टरों ने कहा कि कानपुर में बड़े अस्पताल हैं, कई अच्छे सरकारी अस्पताल हैं। कुछ देर बाद बच्चे की मौत हो गई।’ हालांकि, कन्नौज जिला प्रशासन और अस्पताल की ओर से इन आरोपों का खंडन किया गया है।

बेटे के शव से लिपटकर रोता रहा पिता
रविवार शाम तकरीबन 5 बजे मृतक बच्चे का पिता अपने 1 साल के बेटे के शव के साथ चिपककर फूट-फूटकर रोता हुआ नजर आया। वहीं, कुछ दूरी पर बच्चे की मां भी रोती रही। लोगों ने इस घटना का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर दिया, जिसके बाद यह देखते ही देखते वायरल हो गया।

‘…मानवता मानो खत्म हो गई है’
इस वीडियो को ट्वीट करते हुए सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) के नेता अरुण राजभर ने लिखा है, ‘यूपी की स्वास्थ्य सेवाओं से संवेदना और मानवता मानो खत्म हो चुकी है। कन्नौज में तेज बुखार से पीड़ित बच्चे को इलाज न मिलने से अपनी जान गंवानी पड़ी। अत्यंत दुखद। गंभीर हालत के बावजूद चिकित्सकों पर भर्ती न करने का आरोप। शोकाकुल परिवार के प्रति सांत्वना। दोषियों पर सख्त कार्रवाई हो।’

प्रशासन की ओर से आरोपों का खंडन
मृतक बच्चे के पिता प्रेमचंद का कहना है, ‘जब मीडिया वाले आए तो बच्चे को भर्ती किया गया तभी उसकी मौत हो गई।’ उधर, अस्पताल के साथ-साथ जिला प्रशासन का कहना है, ‘बच्चे को तुरंत भर्ती कर इलाज किया जा रहा था। उसे गंभीर हालत में यहां लाया गया था। प्रयास के बावजूद उसकी मौत हो गई। इसमें किसी की भी कोई लापरवाही नहीं है।’

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

ताज के दीदार को अभी और करना पड़ेगा इंतजार

आगरा ताजमहल की खूबसूरती सहित अन्य स्मारकों का दीदार करने के लिए अभी पर्यटकों को …

55 visitors online now
24 guests, 31 bots, 0 members
Max visitors today: 68 at 07:13 am
This month: 112 at 07-03-2020 08:06 pm
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm