Monday , August 3 2020
Home / कॉर्पोरेट / रामदेव की कंपनी का शेयर दो सप्ताह में 30% डाउन

रामदेव की कंपनी का शेयर दो सप्ताह में 30% डाउन

जब रूचि सोया का पतंजलि ने अधिग्रहण किया था तो इसके शेयर का भाव काफी कम था। शेयर के परफॉर्मेंस पर ध्यान दें तो NSE पर 20 जनवरी 2020 को इसके शेयर का भाव मात्र 16.20 रुपये था। छह महीने के भीतर 26 जून को इसके शेयर का भाव 1519 रुपये पर पहुंच गया तो अब तक का उच्चतम स्तर है। BSE पर उपलब्ध जानकारी के मुताबिक, 24 जुलाई 2019 को इसके शेयर का भाव 3.28 रुपये पर पहुंच गया था। 29 जून को इसके शेयर का भाव 1535 रुपये पर पहुंच गया जो अब तक का उच्चतम स्तर है।

29 जून से शेयर में गिरावट की शुरुआत
29 जून से इसके शेयर में गिरावट की शुरुआत हुई। NSE पर 26 जून को इसके शेयर का भाव 1519 रुपये था। पिछले आठ कारोबारी सत्र में इसके शेयर का भाव 511 रुपया गिरकर 1000 के करीब पहुंच गया। रोजाना इसका शेयर लोअर सर्किट पर बंद हो रहा है। पिछले दो सप्ताह (आठ कारोबारी सत्र) में इसके शेयर के रेट में 30 फीसदी से ज्यादा की गिरावट दर्ज की गई है।

शेयर होल्डिंग पैटर्न
वर्तमान में रूचि सोया का कुल 29.6 करोड़ शेयर है। पब्लिक में इसका केवल 0.97 फीसदी शेयर है और बाकी 99.03 फीसदी शेयर प्रोमोटर के पास है। मतलब प्रोमोटर के पास कुल 28.6 करोड़ शेयर है। रुचि सोया में पतंजलि आयुर्वेद का शेयर 48.20 फीसदी, दिव्य योग मंदिर का शेयर 20.30 फीसदी , पतंजलि परिवहन का शयेर 16.90 फीसदी और पतंजलि ग्रोमोद्योग का शेयर 13.50 फीसदी है।

भारत की टॉप 100 कंपनियों की लिस्ट में शामिल
जब रुचि सोया का शेयर टॉप पर था तो यह भारत की टॉप 100 कंपनियों की लिस्ट में शामिल हो गई थी। इसका मार्केट कैप 45 हजार करोड़ के करीब पहुंच गया था। मार्केट कैप के लिहाज से यह कंपनी टाटा मोटर्स और टाटा स्टील जैसी दिग्गज कंपनियों के बराबर पहुंच चुकी थी, लेकिन दो सप्ताह के भीतर इसमें भारी गिरावट आई है।

शेयर में गिरावट की वजह क्या है?
दरअसल रुचि सोया में शेयर होल्डिंग पैटर्न ही इसके लिए मुसीबत बन गई है। वर्तमान में लिस्टिंग गाइडलाइन्स के मुताबिक, एक कंपनी को कम से कम 25 पर्सेंट शेयर पब्लिक में रखना होगा। लेकिन इसके साथ ऐसा नहीं है। पिछले दिनों पतंजलि आयुर्वेद को लेकर रिवर्स मर्जर की बात सामने आई थी। रिवर्स मर्जर के तहत एक प्राइवेट कंपनी लिस्टेड कंपनी का टेकओवर कर लेती है। पतंजलि अभी लिस्टेड नहीं है। हालांकि इस तरह की खबरों का रुचि सोया ने खंडन किया था। कंपनी के ताजा परफॉर्मेंस की बात करें तो मार्च तिमाही में इसे 41 करोड़ का नुकसान हुआ है। टोटल रेवेन्यू 3190 करोड़ रहा।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

अब आपके हेलमेट पर होगी सरकार की नजर, नो-लोकल, केवल BIS

अक्सर चालान से बचने के लिए बाइक चालक या फिर पीछे बैठे लोग किसी भी …

121 visitors online now
14 guests, 106 bots, 1 members
Max visitors today: 240 at 12:48 pm
This month: 242 at 08-01-2020 10:14 am
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm