Tuesday , August 11 2020
Home / भेल न्यूज़ / बीना में भेल ने पहली बार सोलर पीवी प्लांट चालू किया

बीना में भेल ने पहली बार सोलर पीवी प्लांट चालू किया

भारतीय रेलवे को सीधी बिजली देगा यह प्लांट

बीना

भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड भेल ने भारतीय रेलवे के लिए मध्य प्रदेश के बीना में 1.7 मेगावाट के सोलर पीवी प्लांट को सफलतापूर्वक चालू किया है। यह प्लांट सीधे भारतीय रेलवे के ट्रैक्शन सिस्टम को बिजली देगा। परियोजना सौर ऊर्जा के इतिहास में एक ऐतिहासिक उपलब्धि है क्योंकि यह पहली बार है कि सौर ऊर्जा का उपयोग सीधे कर्षण अनुप्रयोगों के लिए किया जा रहा है। इसके साथ भेल ने भारतीय रेलवे के कर्षण सबस्टेशन के लिए सिंगल फेज 25 केवी बिजली का सप्लाई किया है।

इस परियोजना को संयुक्त रूप से भेल और भारतीय रेलवे द्वारा विकसित किया है। परियोजना में भेल का दायरा भारतीय रेलवे द्वारा प्रदान किए गए इनपुट के आधार पर डिजाइन, इंजीनियरिंग, निर्माण, आपूर्ति, निर्माण, निर्माण परीक्षण, कमीशन और ओएंडएम की परिकल्पना की गई है। भारतीय रेलवे के साथ संयुक्त भूमि सर्वेक्षण की तारीख से केवल 4-5 महीने में भेल द्वारा परियोजना स्थापित और चालू की है।

यह भारतीय रेलवे की खाली पड़ी जमीन पर टर्न के आधार पर विकसित की गई कंपनी का एक पायलट प्रोजेक्ट है। डिजाइन और इंजीनियरिंग की अवधारणा डेढ़ महीने से भी कम समय में की गई। आरएंडडी विकास और विनिर्माण पूरी तरह से भेल के बेंगलुरु, हैदराबाद, झांसी और भोपाल में पूरा किया गया था।

गौरतलब है कि पहली बार सिंगल-फेज 850 किलो वॉट सोलर इनवर्टर का विकास और आउटडोर ड्यूटी के लिए 400 वी 25 केवी ड्राई टाइप ट्रांसफ ार्मर लगाए गए हैं। अन्य सोलर प्लांट उपकरण जैसे पीवी मॉड्यूल, एससीएडीए। सिस्टम और एचटी स्विचगियर की आपूर्ति क्रमश: भेल की विनिर्माण इकाइयों द्वारा की जाती है जो बेंगलुरु और भोपाल में स्थित हैं। यह परियोजना भारतीय रेल और भेल के रेल परिवहन के संयुक्त कार्य का एक अनूठा उदाहरण है। यह विकास रेलवे क्षेत्र में अक्षय ऊर्जा के लाभों को अभूतपूर्व तरीके से विलय करने का एक बड़ा कदम है।

भेल के इस सफल प्रदर्शन के साथ भारतीय रेलवे के अपने विशाल लैंड बैंक को कैप्टिव पावर संयंत्रों में बदलने तथा 2030 तक भारतीय रेलवे के रेलवे ट्रैक्शन ग्रिड को बिना उपयोगिताओं और रेलवे की गो-ग्रीन पहल के उद्देश्य को हकीकत में बदल देगी। भेल ऑफ. ग्रिड और ग्रिड-इंटरएक्टिव ग्राउंड माउंटेड, रूफ टॉप, फ्लोटिंग सोलर और कैनाल टॉप सोलर प्लांट दोनों के लिए ईपीसी समाधान दे रहा है। यह एसपीवी संयंत्रों के 1 गीगा वॉट से अधिक के अपने वर्तमान पोर्टफ ोलियो से स्पष्ट है। भेल उच्च दक्षता कोशिकाओं और अंतरिक्ष ग्रेड बैटरी के साथ अंतरिक्ष-ग्रेड सौर पैनल भी पेश कर रहा है।

भेल पिछले तीन दशकों में नवीकरणीय ऊर्जा के विकास और बढ़ावा देने के लिए देश की हरित पहल में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है। भेल की निरंतर सफलता और क्षेत्र में प्रमुख उपस्थिति एक समर्पित आरएंडडी टीम उत्पाद विकास समूहों और उच्च गुणवत्ता के इन-हाउस विकसित पीवी उत्पादों से लेकर सोलर पीवी सेल और मॉड्यूल के अलावा सौर इनवर्टर और सौर निष्क्रिय ट्रैकर्स से समर्थित है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

डामर शीट का नहीं हुआ टेंडर, आवासों की छतों से टपकता है पानी

भोपाल भेल जैसी महारत्न कंपनी के कर्मचारियों के आवास की छतों पर डामर शीट डालने …

64 visitors online now
22 guests, 42 bots, 0 members
Max visitors today: 79 at 07:31 am
This month: 242 at 08-01-2020 10:14 am
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm