Tuesday , August 4 2020
Home / भेल मिर्च मसाला / भेल में साहब प्रमोशन होगा की नहीं

भेल में साहब प्रमोशन होगा की नहीं

कोविड-19 क्या आया सबको परेशान किये हुए है। यहीं कुछ हाल भेल जैसी महारत्न कंपनी का है। एक तो पर्क व अन्य एलाउंस में कटौती पर कटौती उस पर प्रमोशन से भी मेहरूम। वरिष्ठ प्रबंधक से लेकर अपर महाप्रबंधक स्तर के जिन अफसरों के प्रमोशन 25 जून को होना थे वह अब अक्टूबर में हो सकते हैं। इसमें यह ग्यारंटी नहीं है कि कहीं प्रमोशन पोस्ट पोण्ड न हो जाये। अब डरे सहमें अफसर अपने सीनियर से पूछते नजर आते हैं कि साहब प्रमोशन होगा के नहीं। रही बात जीएम से ईडी पद की तो वह लिस्ट भी इंटरव्यू के इंतजार में अटकी हुई है। चर्चा है कि कोरोना के डर ने कंपनी को प्रमोशन पॉलिसी को ही दर किनार करना पड़ा, वरना हाल में हुई कार्यपालकों के प्रमोशन के बाद ट्रांसफर के आदेश भी देखने को मिलते। खैर जो भी हुआ कोरोना के हिसाब से व कंपनी की बचत, ट्रांसपोर्टेशन का खर्चा तो बचा।

भेल में पहली महिला डायरेक्टर बनी गेरा

भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड भेल के लिए यह खुशी की खबर है कि भेल की स्थापना के बाद पहली बार किसी महिला का डायरेक्टर के लिए चयन किया गया। भेल के बोर्ड आफ डायरेक्टर में 50 साल बाद दिखी महिला सशक्तिकरण की झलक। इंटरव्यू के बाद डायरेक्टर आईएसएंडपी के पद के लिए चयन किया गया। यूं भी दिल्ली कार्पोरेट से लेकर भेल की तमाम यूनिटों में इंटरव्यू के पूर्व ही श्रीमती गेरा का नाम शुरू से ही नंबर वन पर बना हुआ था। अब इस बात की चर्चा है कि दिल्ली में ईडी पद संभालने के बाद वह कितने बेहतर तरीके से डायरेक्टर आईएस एण्ड पी के पद को सुचारू रूप से संचालित कर सकेगी। वह भी ऐसे दौर में जब पूरा देश कोरोना संकट के चलते आर्थिक संकट से जूझ रहा है। भेल को तो वैसे भी ऑर्डरों की जरूरत है तब ही कारखाने चल पायेंगे। खैर बात जो भी हो भेल इंटक यूनियन के अध्यक्ष आरडी त्रिपाठी ने तो उन्हें पहली महिला डायरेक्टर बनने पर बधाई तक दे डाली।

कोरोना का डर सता रहा है

यूं तो पूरे देश में चिकित्सा विभाग ने कोरोना योद्धा के रूप में अपनी अलग ही पहचान बनाई है। आज हर तरफ डॉक्टर, नर्स और मेडिकल स्टाफ की तारीफ करते दुनिया नहीं थक रही है लेकिन एक भेल का कस्तूरबा अस्पताल ऐसा भी है जहां मेडिकल स्टाफ काम तो कर रहा है लेकिन डरा हुआ है। ऐसा भी नहीं कि स्टाफ काम नहीं कर रहा हो लेकिन कोरोना की दहशत के चलते अन्य अस्पतालों के मुकाबले यहां के कर्मी मरीजों से काफी दूरी बनाये हुए हैं। एक्सरे, सोनोग्राफी,ब्लड प्रेशर की जांच तो होती है लेकिन काफी दूरी बनाकर। इससे भेल कर्मचारी खुद बाहर आकर अस्पताल के कर्मियों के बारे बताते हैं। इस डर को कैसे खत्म किया जाये इसको लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

मामला कारखाने में ब्रेजिंग अलाय का

भोपाल भेल कारखाने के ट्रेक् शन मोटर विभाग में लाखों की ब्रेजिंग अलाय चोरी होने …

116 visitors online now
51 guests, 64 bots, 1 members
Max visitors today: 134 at 05:31 pm
This month: 242 at 08-01-2020 10:14 am
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm