कौन बनेगा भेल शिक्षा मंडल का चैयरमेन

भोपाल

भेल भोपाल इन दिनों भेल शिक्षा मंडल के नये चैयरमेन की तलाश है। ट्रेड यूनियन के नेता कौन बनेगा अध्यक्ष इसको लेकर चर्चाएं करते दिखाई दे रहे हैं। दरअसल भेल के महाप्रबंधक व भेल शिक्षा मंडल के चैयरमेन विनय निगम को जीएम हेड बनाकर कार्पोरेट ने जगदीशपुर भेज दिया है इसके बाद से ही इस पद को लेकर कई तरह के कयास लगाये जा रहे हैं। फिलहाल भेल के सीनियर महाप्रबंधक प्रदीप मिश्रा और एके वाष्र्णेय के नाम को लेकर लोगों की ज्यादा निगाहें हैं लेकिन श्री मिश्रा अगले साल फरवरी तो दो साल बाद श्री वाष्र्णेय रिटायर हो जायेंगे। ऐसे में नये सीनियर महाप्रबंधक एसएम रामनाथन की सात साल की सर्विस हैं ऐसे में उन्हें भी चैयरमेन बनाया जा सकता है। यूं तो नये महाप्रबंधक प्रमोशन के बाद भोपाल यूनिट में ज्वाइन कर चुके हैं। महाप्रबंधक मानव संसाधन श्री बेहरा पर भी सबकी नजर हैं। रही बात चैयरमेन बनाने की तो भेल के मुखिया सी आनंदा ही तय करेंगे कि किसे बनाये या न बनाये फिलहाल सबकी नजर भेल शिक्षा मंडल के नये चैयरमेन पर हैं।

डब्ल्यूसीडी में टेक्रिकल बीड खुली, प्राइज बीड बाकी

भेल कारखाने में इन दिनों डब्ल्यूसीडी विभाग में क्रेन ऑपरेटर एंड सिलींगर का बड़ा कॉन्ट्रेक्ट काफी चर्चाओं में है। चर्चा है कि इसमें 22 कॉन्ट्रेक्टर शामिल हुए हैं। इसकी टेक्रिकल बीड तो खुल गई है और प्राइज बीड खुलना बाकी है। कॉन्ट्रेक्ट किसको मिलेगा किसको नहीं यह अलग बात है लेकिन इसमें दो कॉन्ट्रेक्टरों के अनुभव प्रमाण पत्र असली है या फर्जी इसको लेकर चर्चाएं ज्यादा गरम है। कहा तो यह जा रहा है कि जिस कंपनी का अनुभव प्रमाण पत्र लगाया है उनमें से एक तो औद्योगिक क्षेत्र गोविंदपुरा में पांच साल से बंद है और दूसरी मंडीदीप में धीमी रफ्तार से चल रही है लेकिन यह चर्चाएं थमनें का नाम नहीं ले रही हैं कि यह प्रमाण पत्र सही है या नहीं। इस कॉन्ट्रेक्ट में यह भी चर्चाएं हैं कि जिन दो कॉन्ट्रेक्टरों को शामिल किया गया है वह भेल के किसी चहेते अफसर के खासम खास हैं। अब यह तो तब ही पता चलेगा जब टेंडर कमेटी इसकी सही तरीके से जांच कराये। इसमें टेक्निकल बीड तो खुल गई है और प्राइज बीड खुलना बाकी है।

और मामला चिल्ड्रन-आम बाग

भेल नगर प्रशासन के अन्तर्गत चिल्ड्रन व आम बाग कुछ अफसरों की सरपरस्ती के चलते काफी चर्चाओं में है। चिल्ड्रन पार्क तो वैसे भी देखरेख के अभाव में लेबर की कमी के चलते बच्चों के मनोरंजन का केन्द्र नहीं बन पा रहा है। बच्चों की ट्रेन भी बंद है। ऐसे में भेल के एक अफसर ने हरे-भरे इस पार्क में कुछ नहीं तो पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित कर डाला। कोरोना काल के चलते सोशल डिस्टेंसिंग तो दूर उन्होंने इस कार्यक्रम में चाय-नाश्ता का प्रबंध भी कर दिया। कार्यक्रम के बाद कुछ लोग यह कहते नजर आये कि यह तो साहब लोगों को खुश करने वाला आयोजन था। रही बात भेल के आम बाग की तो एक अफसर की सरपरस्ती में एक कर्मचारी मनमाने ढंग से कार्य कर कंपनी को चूना लगाने से नहीं चूक रहा है। चर्चा है कि पहले उसने जो किया सो किया लेकिन हाल ही में उसने प्रबंधन की बिना अनुमति के बाग में पड़ी फर्शी और पाईप को बाग से बाहर भेज दिया। यह सामान कहां और किसके पास गया इसका अता पता ही नहीं। रही बात गोविंदपुरा सिविल के प्रबंधक की तो बेचारे जांच कर और नोटिस दे दे कर परेशान हैं। उनकी सुनने वाला कोई नहीं है क्योंकि टाउनशिप सिविल के एक अफसर की सरपरस्ती जो है। अब मानव संसाधन विभाग के मुखिया जाग जायें तब ही पता चलेगा कि इन दोनों बागों में क्या-क्या गुल खिल रहे हैं। रही बात निर्माण कार्यों की तो इनकी गुणवत्ता तब ही पता चल पायेगी जब भेल की विजिलेंस निष्पक्ष रूप से जांच करेगी।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

साइबर क्राइम कर सकती है जांच

भोपाल भेल कर्मचारी और अधिकारियों के टर्म इंश्योरेंस पॉलीसी का मामला गर्मा गया है। दरअसल …

139 visitors online now
4 guests, 135 bots, 0 members
Max visitors today: 168 at 07:03 am
This month: 227 at 09-18-2020 01:27 pm
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm