Friday , October 23 2020

चेयरमेन ने कहा बीएचईएल ने हासिल किए नए मुकाम

टर्नओवर,लाभ,आर्डर बुक, डिवेडेंट एवं बाजार हिस्सेदारी में अहम बढ़ोत्तरी

नई दिल्ली

गुरूवार को चुनौतीपूर्ण कारोबारी माहौल के बीच भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड बीएचईएल ने वित्तीय वर्ष 2017-18 में अपने लाभ तथा ऑर्डर बुकिंग में उल्लेखनीय वृद्धि दर्ज की है । बीएचईएल के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक अतुल सोबती ने कंपनी की 54वीं वार्षिक आम बैठक में यह  घोषणा की । शेयर धारकों को संबोधित करते हुए श्री सोबती ने कहा कि वित्तीय वर्ष के दौरान बीएचईएल ने 1585 करोड़ रुपये का कर पूर्व लाभ पीबीटी हासिल किया जो कि एक वर्ष पहले 628 करोड़ रुपये था ।

वहीं शुद्ध लाभ पीएटी 63 प्रतिशत बढ़कर 807 करोड़ रुपये हो गया,जो पिछले वित्तीय वर्ष में 496 करोड़ रुपये था । बीएचईएल ने पिछले साल के 27,740 करोड़ रुपये के मुकाबले इस साल 27,850 करोड़ रुपये का कारोबार किया है । वर्ष 2017-18 के लिए बढ़ाए गए इक्विटी शेयर पूंजी पर 91 प्रतिशत का कुल लाभांश घोषित किया गया है जो कि पिछले चार वर्षों में कंपनी द्वारा भुगतान किया गया, सबसे ज्यादा लाभांश है। बीएचईएल द्वारा 1976-77 से निर्बाध रूप से लाभांश भुगतान का रिकॉर्ड इस वर्ष भी बना रहा । श्री सोबती ने कहा कि बीएचईएल ने इस वर्ष अत्यधिक प्रतिस्पर्धी माहौल में 40,932 करोड़ रुपये के नए ऑर्डर हासिल किए जो कि पिछले वर्ष 2016-17 के मुकाबले 74 प्रतिशत अधिक हैं ।

महत्वपूर्ण बात यह है कि बीएचईएल ने इस वर्ष मु य थर्मल पावर प्रोजेक्ट के सभी आर्डर अपने नाम करके अपनी साख को और मजबूत किया है । इसके साथ ही साल की समाप्ति पर बीएचईएल के पास निष्पादन के लिए कुल 1,18,000 करोड़ रुपये से अधिक के ऑर्डर हैं जो कि पिछले पांच वर्षों में सबसे अधिक हैं । श्री सोबती ने बताया कि ज मू-कश्मीर के दूरस्थ इलाके में बीएचईएल द्वारा सफलतापूर्वक निष्पादित 3 गुणा 110 मेगावाट किशनगंगा जलविद्युत परियोजना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उद्घाटन कर देश को समर्पित की जा चुकी है। ज मू-कश्मीर में स्थापित बिजली उत्पादन क्षमता में 40 प्रतिशत से अधिक योगदान बीएचईएल का है।

बीएचईएल ने मुंबई में भारत की पहली वातानुकूलित एसी ईएमयू ट्रेन के लिए स्वदेशी तकनीक पर आधारित अत्याधुनिक 3-फेज ड्राइव प्रोपल्सन उपकरण विकसित किए हैं जिससे ऊर्जा बचत को बढ़ावा मिलेगा । उन्होंने बताया कि सरकार ने इस वर्ष के अंत तक 100 प्रतिशत घरों के विद्युतीकरण का लक्ष्य तय किया है जिससे कंपनी को विभिन्न क्षेत्रों में विकास के नए अवसर प्राप्त होंगे और कल के बीएचईल का निर्माण किया जा सकेगा ।

अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक ने कहा कि वैश्विक तकनीक के साथ तालमेल बिठाने के लिए इसरो तथा कावासाकी जैसे संगठनों के साथ समझौते भी किए गए हैं । उन्होंने कहा कि इन सब प्रयासों की बदौलत मेक इन इंडिया और एक नए भारत के निर्माण का सपना साकार हो सकेगा ।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

भेल के ठेका श्रमिक की उपेक्षा, संघ करेगा आंदोलन

भोपाल भेल प्रबंधन द्वारा पिछले कुछ दिनों से भेल के सोसायटी कर्मचारियों, वक्र्स कॉन्ट्रेक्ट, ब्लु …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!