इस साल भोपाल यूनिट से ईडी सहित पांच महाप्रबंधक होंगे रिटायर

अपर महाप्रबंधकों के प्रमोशन के बाद होगा विभागों का बंटवारा

भोपाल

भेल भोपाल यूनिट मेें इस साल र्ईडी सहित पांच महाप्रबंधक रिटायर होंगे, जबकि जनवरी 19 में एक महाप्रबंधक पहले ही रिटायर हो गये हैं तीसरे का तबादला भेल की जगदीशपुर यूनिट में कर दिया गया है। जून में अपर महाप्रबंधक से महाप्रबंधक पद के दावेदारों के साक्षात्कार होंगे। प्रमोशन पाने वाले अफसरों को विभागों का बंटवारा किया जायेगा। इधर भेल दिल्ली कार्पोरेट बेहतर परफार्मेंस दो और प्रमोशन लो की तर्ज पर प्रमोशन जारी करने का मन बना चुका है। इसके बावजूद भी पिछले साल की तरह इस साल भी भेल के ईडी अपनी मनपसंद के अफसरों को प्रमोशन दिलवाने में सफल हो सकते हैं। पीआरपी यानी रिटायर्ड पूर्व प्रमोशन पाने वालों की भी बल्ले-बल्ले रहेगी।

अक्टूबर 2019 में भेल के ईडी डीके ठाकुर रिटायर होंगे। वहीं वर्ष 2019 के जून 19 में महाप्रबंधक द्वय आरके आर्या, पीसी, पीएमजी, सीएमजी, ईसी व सीएमएस विभाग और एचके निगम, नवंबर 19 में महाप्रबंधक एमएस किनरा क्वालिटी, के माथुर स्वीचगियर, नीलम भोगल, स्वीचगियर एण्ड एमएम भेल की सेवाओं को अलविदा कहेंगे। जनवरी 2019 में महाप्रबंधक फीडर्स एम हलदर पहले ही रिटायर हो चुके हैं। महाप्रबंधक देवदत्त पाठक का तबादला भेल की जगदीशपुर यूनिट में हो चुका हैं, वह भी जून 19 में रिटायर होंगे। उसके बाद भेल के कुछ महाप्रबंधकों फीडर्स और फेब्रीकेशन का अतिरिक्त प्रभार दे रखा है।

इस साल रिटायर होने वाले महाप्रबंधकों की जगह जून 2019 में प्रमोशन पाने वाले अपर महाप्रबंधक लेंगे। सूत्रों की माने तो इस साल भी पांच महाप्रबंधक बनाये जा सकत हैं। स्वीचगियर विभाग के एचओडी एजीएम बीके जैन सितंबर 2019 में रिटायर होंगे। इस विभाग का मुखिया कौन बनेगा इसको लेकर एमएम में अटकलें लगाई जा रही है। जानकारों की मानेे तो इस विभाग के मुखिया के माथुर रिटायर होंगे, ऐसे में ईडी एजीएम शुभ्रा चतुर्वेदी को महाप्रबंधक बनाने की फिराक में है।

हालांकि श्री मलहन और हेमराम पटेल भी कतार में खड़े हैं। इधर साल 2018 में रानीपेट यूनिट में महाप्रबंधक बनकर गये रूपेश तेलंग भी वापस आकर विभाग की कमान संभाल सकते हैं वह श्रीमती चतुर्वेदी से सीनियर भी है। इस हिसाब से श्रीमती चतुर्वेदी एससीआर इंजीनियरिंग की कमान सौंपी जा सकती है। खबर है कि थर्मल ग्रुप से भेल के ईडी काफी नाराज हैं यहां पर मोतीलाल तौरानी को महाप्रबंधक बनाया गया है। यहां भी कॉमर्शियल में एजीएम संजीव गुुप्ता, नीरज दवे, आरबी पाटिल के नामों की चर्चाएं हैं। जून में रिटायर हो रहे श्री निगम के जाने के बाद नये जीएम की तलाश शुरू हो जायेगी।

यह अलग बात है कि जीएम भोपाल का होगा या बाहर का एजीमए विकास खरे और विपुुल अग्रवाल के नामों की चर्चाएं तो हैं लेकिन शिकायतों के चलते इन्हें परेशानी आ सकती है, रही बात इसी विभाग के एजीएम संजय चन्द्रा, राजीव सरना और श्री रेहमान की तो यह प्रमोशन की कतार में खड़े हैं। कुछ अफसरों के खिलाफ विजिलेंस ने शिकायत होने के कारण प्रमोशन में अड़चने आ सकती है। मार्च माह उत्पादन का पीक पीरियड है इसलिए कार्पोरेट हर विभाग के परफार्मेंस को देखने के बाद प्रमोशन देगा।

हालांकि भेल भोपाल यूनिट का टीसीबी और ट्रेक्शन मोटर लगातार बेहतर काम कर रहा है। थर्मल और हाईड्रो आर्डरों की कमी से जूझ रहा है। सूत्र बताते है कि पिछले वित्तीय वर्ष की तरह इस वित्तीय वर्ष में भी यह यूनिट 3600 करोड़ का आंकड़ा पार करने को बेताब है। फरवरी तक 2750 करोड़ का टारगेट पूरा हो चुका है। इस हिसाब से यूनिट के मुखिया इस माह 930 करोड़ का टारगेट पूरा करने में लगे हैं। अब देखना यह है कि 36 के फे र में उलझेंगे या फिर यह आंकड़ा पार करेंगे।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

सक्सेना का तबादला दिल्ली, चार अफसरों के विभागों में फेरबदल

भोपाल भोपाल यूनिट में पदस्थ सीनियर डीजीएम संजीव सक्सेना का तबादला भेल दिल्ली कार्पोरेट आफिस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
183 visitors online now
8 guests, 175 bots, 0 members
Max visitors today: 192 at 02:27 am
This month: 227 at 09-18-2020 01:27 pm
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm