तय जगह और निर्धारित प्रारूप में ही होगा राम मंदिर निर्माण: RSS

ग्वालियर

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में चल रहे तीन दिवसीय अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा के अंतिम दिन राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने राम मंदिर निर्माण का अपना संकल्प दोहराते हुए कहा कि मंदिर निश्चित स्थान पर निर्धारित प्रारूप में ही बनेगा। यहां सभा के बाद मीडिया से बात करते हुए संघ के सरकार्यवाह भय्याजी जोशी ने कहा कि राम मंदिर को लेकर संघ की भूमिका निश्चित है। उन्होंने अपना संकल्प दोहराते हुए कहा कि मंदिर बनने तक आंदोलन जारी रहेगा। बता दें कि संघ के इस तीन दिवसीय सभा मेें हिंदुत्व का मुद्दा बराबर छाया हुआ था।

सुप्रीम कोर्ट द्वारा मंदिर मसले पर मध्यस्थता के लिए बनाई गई समिति के सवाल पर भय्याजी जोशी ने कहा, ‘संघ ऐसे किसी भी प्रयास का स्वागत करता है। न्यायालय और सरकार से संघ की अपेक्षा है कि मंदिर निर्माण की बाधाओं को शीघ्रातिशीघ्र दूर किया जाए। साथ ही अपेक्षा है कि समिति के सदस्य हिंदू भावनाओं को समझकर आगे बढ़ेंगे।’ उन्होंने कहा कि सत्ता संचालन में बैठे लोगों का राम मंदिर को लेकर विरोध नहीं है और उनकी प्रतिबद्धता को लेकर भी कोई शंका नहीं है। जोशी ने पुलवामा हमले के बाद आतंकी शिविरों पर एयर स्ट्राइक को सरकार और वायुसेना का सराहनीय कदम बताया।

जोशी ने कहा, ‘पुरुषार्थी और साहसी देश इसी भाषा में आतंकियों को जवाब देते हैं।’ धारा 370 से जुड़े सवाल पर जोशी ने कहा कि अभी 35A को लेकर मामला कोर्ट में विचाराधीन है। अपेक्षा है कि सरकार अधिक प्रखरता के साथ न्यायालय में पक्ष रखेगी और इस पर निर्णय आने के बाद धारा 370 पर कोई निर्णय होगा। चुनाव में संघ की भूमिका से संबंधित प्रश्न पर भय्याजी ने कहा कि संघ की भूमिका स्पष्ट है। लोकतंत्र में मतदान के प्रति जागरूकता लाना और 100 प्रतिशत मतदान के लिए हम प्रयास करेंगे। उन्होंने कहा कि पिछले वर्षों में समाज की सूझबूझ बढ़ी है और जागृत समाज देशहित में मतदान करेगा। आज सामान्य समाज ये सोचने की स्थित में आ गया है कि देशहित में कौन काम करेगा।

प्रतिनिधि सभा में सबरीमाला मंदिर प्रकरण को लेकर प्रस्ताव पारित किया गया। इसमें कहा गया है कि कुछ ‘अभारतीय शक्तियां’ हिंदू आस्था और परंपराओं को आहत और इनका अनादर करने के लिए योजनाबद्ध षड्यंत्र चला रही हैं। सबरीमाला मंदिर प्रकरण इसी षड्यंत्र का नवीनतम उदाहरण है। सबरीमाला मंदिर प्रकरण में सीपीएम अपने क्षुद्र राजनीतिक लाभ और हिंदू समाज के विरुद्ध वैचारिक युद्ध का एक अन्य मोर्चा खोला है। केरल की मार्क्सवादी सरकार के कार्यकलापों ने अय्यप्पा भक्तों को मानसिक रूप से प्रताड़ित किया।

प्रस्ताव में कहा गया है कि नास्तिक, अतिवादी वामपंथी महिला कार्यकर्ताओं को पीछे के दरवाजे से मंदिर में प्रवेश करवाकर भक्तों की भावनाओं को आहत किया है। जोशी ने कहा कि संघ ने इस बार एक नया विषय हाथ में लिया है। संघ पर्यावरण संरक्षण के लिए देशभर में विभिन्न गतिविधियों के माध्यम से कार्य करेगा। इसमें जलसंवर्धन, वृक्षारोपण और प्लास्टिक, थर्मोकोल मुक्त पर्यावरण के प्रयास में समाज को साथ लेकर कार्य करेगा।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के 2310 नए मामले, 26 और लोगों की मौत

भोपाल, मध्यप्रदेश में रविवार को कोरोना वायरस संक्रमण के 2,310 नए मामले सामने आए और …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
178 visitors online now
13 guests, 165 bots, 0 members
Max visitors today: 233 at 11:52 am
This month: 233 at 09-28-2020 11:52 am
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm