Monday , October 26 2020

पेट्रोल-डीजल की बढ़ी कीमत, लोग कर रहे सीएनजी का रुख

नई दिल्ली

पेट्रोल और डिजल की बढ़ती कीमत भले ही ग्राहकों को परेशान कर रही हो, लेकिन इसकी वजह से लोग दिल्ली और इसके उपनगरीय इलाके में सीएनजी का रुख करने लगे हैं। पिछले साल की तुलना में हर महीने सीएनजी का रुख करने वालों की संख्या 1500 से बढ़कर दोगुनी यानी 3000 हो गई है।

डीजल और दिल्ली में घुसने के लिए लगने वाले ग्रीन टैक्स, दोनों की कीमत में वृद्धि के कारण लोगों के लिए सीएनजी ज्यादा किफायती नजर आ रहा है यहां तक कि लाइट कमर्शल वीइकल और ट्रक भी अब इसका रुख कर रहे हैं। दिल्ली में सीएनजी के एकमात्र आपूर्तिकर्ता आईजीएल से प्राप्त डेटा के अनुसार, पिछले साल की पहली तिमाही के हर महीने जहां 1500 लोग सीएनजी का रुख कर रहे थे, वहीं िस साल की समान तिमाही में हर महीने यह संख्या बढ़कर 3000 हो गई है। सीएनजी से चलने वाले एलसीवी (हल्के वाणिज्यिक वाहन) वाहनों की संख्या में वृद्धि हुई है जबकि फिलहाल 250 ट्रक सीएनजी पर चल रहे हैं।

इसने हर दिन के बिक्री को भी प्रभावित किया है जो कि करीब 15 प्रतिशत बढ़ गई है यानी 27 लाख से बढ़कर 31 लाख किलोग्राम हो गई है। यूपी और हरियाणा के वाहनों में वृद्धि हुई है क्योंकि सीएनसी अपेक्षाकृत दिल्ली में सस्ती है, इस वजह से दिल्ली के कुछ इलाकों में सीएनजी स्टेशनों पर लंबी कतार देखने को मिल रही है। सीएनजी के कारण लोगों को पेट्रोल और डीजल की तुलना में क्रमशः 60 और 40 प्रतिशत की बचत हो रही है।

आईजीएल के एमडी ई एस रंगनाथ ने हमारे सहयोगी टीओआई को बताया, ‘हम हमारे नेटवर्क का विस्तार कर रहे हैं और स्थिति को ठीक करने के लिए कुछ कदम उठाए हैं, विशेषकर जमीन की कमी को देखते हुए।’ आईजीएल ने पिछले साल 30 स्टेशन बढ़ाएं जिससे इसकी संख्या बढ़कर 452 हो गई है। ये स्टेशन दिल्ली, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद और रेवाड़ी में स्थित है। उन्होंने कहा, ‘इस साल हम कम से कम 60 और जोड़ेंगे।’ आईजीएल ने भी फ्रेंचाइजी का रास्ता चुना है जहां योग्य जमीन मालिकों को कमिशन पर डीलरशिप दी जा रही है। ऐसे दो स्टेशन ऑपरेशन में हैं।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

वॉट्सऐप यूज करने के बदले देने होंगे पैसे, कंपनी ने दी जानकारी

नई दिल्ली फेसबुक की ओनरशिप वाले मेसेजिंग प्लैटफॉर्म का इस्तेमाल करने के लिए यूजर्स को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!