Saturday , October 31 2020

एशियन गेम्स में 8वें दिन बरसी चांदी, खिलाड़ियों ने बढ़ाया मान

जकार्ता/पालेमबांग

एशियन गेम्स में आठवें दिन रविवार को भारतीय खिलाड़ी कोई गोल्ड मेडल नहीं जीत पाए लेकिन कुल 5 सिल्वर मेडल देश के नाम करने में कामयाब रहे। स्टार धाविका हिमा दास ने महिला 400 मीटर में नए राष्ट्रीय रेकॉर्ड के साथ सिल्वर मेडल जीता और पुरुष वर्ग में मोहम्मद अनस ने भी क्षेत्रीय स्तर पर अपना दबदबा कायम रखते हुए एशियाई खेलों में दूसरा स्थान हासिल किया। फर्राटा धाविका दुती चंद 100 मीटर में सिल्वर मेडल जीतने में सफल रहीं। इसके अलावा घुड़सवारी में 2 सिल्वर जीतने में कामयाबी मिली।

भारत के अब 36 मेडल
भारत के एशियन गेम्स में अब 36 मेडल हो गए हैं। भारत ने 7 गोल्ड, 10 सिल्वर और 19 ब्रॉन्ज मेडल अभी तक जीते हैं। भारत पदक तालिका में नौवें स्थान पर है। सबसे ज्यादा 9 पदक भारत को शूटिंग में मिले हैं जिनमें 2 गोल्ड और 4 सिल्वर शामिल हैं। इसके अलावा ऐथलेटिक्स में अब तक 4 और वुशू में 4 मेडल भारत के खाते में आए हैं।

हिमा, अनस और दुती को सिल्वर
धाविका हिमा दास ने दो दिन में दूसरी बार महिला 400 मीटर में राष्ट्रीय रेकॉर्ड तोड़कर सिल्वर जीता जबकि अनस भी इसी वर्ग की पुरुष स्पर्धा में दूसरे स्थान पर रहे। लंबे समय तक लिंग विवाद मामले में संघर्ष करने वाली दुती ने महिला 100 मीटर में फोटो फिनिश में सिल्वर पदक जीता। हिमा और अनस को इन स्पर्धाओं में सिल्वर का ही दावेदार माना जा रहा था क्योंकि इन स्पर्धाओं में स्वर्ण पदक जीतने वाले खिलाड़ी शीर्ष पर रहने के प्रबल दावेदार थे। हिमा ने 50.59 सेकंड के समय के साथ सिल्वर जीता और साथ ही दो दिन में दूसरी बार राष्ट्रीय रेकॉर्ड तोड़ा। एशियाई चैंपियन अनस ने 45.69 सेकंड के समय के साथ रजत पदक जीता। दुती ने 11.32 सेकेंड का समय लिया।

गोविंदन का ब्रॉन्ज छिना
ट्रैक ऐंड फील्ड ने हालांकि खुशखबरी के साथ दिल तोड़ने वाली खबर भी आई जब लंबी दूरी के धावक गोविंदन लक्ष्मणन ने पुरुष 10 हजार मीटर दौड़ तीसरे स्थान पर रहते हुए पूरी की लेकिन बाद में उन्हें दूसरी लेन में जाने के कारण आईएएएफ के नियमों के तहत डिस्क्वॉलिफाइ कर दिया गया। उन्होंने 29 मिनट 44.91 सेकंड का समय लिया था।

घुड़सवारी टीम को 2 सिल्वर
हिमा, अनस और दुती अगर आज ट्रैक पर स्टार रहे तो वहीं घुड़सवारी टीम ने दो सिल्वर जीतकर सबको हैरान किया। फवाद मिर्जा ने एशियाई खेलों की घुड़सवारी प्रतियोगिता में 1982 के बाद व्यक्तिगत पदक जीतने वाले पहले भारतीय बने। उनके प्रयासों से टीम भी दूसरा स्थान हासिल करने में सफल रही। ‘सिगनोर मेदिकोट’ नाम के घोड़े पर सवार मिर्जा ने ड्रेसेज और क्रास कंट्री क्वॉलिफायर्स में 22.40 अंक के साथ पहले स्थान पर रहते हुए जंपिंग फाइनल्स में प्रवेश किया।

मिर्जा ने जंपिग फाइनल्स में 26.40 के स्कोर के साथ रजत जीता। जापान के ओइवा योशियाकी ने 22.70 के स्कोर के साथ स्वर्ण जीता। मिर्जा के शानदार प्रदर्शन के सहारे भारत ने टीम स्पर्धा में भी रजत पदक हासिल किया। इस टीम में मिर्जा के अलावा जितेंदर सिंह, आकाश मलिक और राकेश कुमार शामिल थे। भारतीय टीम का कुल स्कोर 121.30 रहा। गौरतलब है कि भारतीय घुड़सवारी महासंघ में आपसी मतभेद के कारण टीम अंतिम समय में यहां प्रतिस्पर्धा के लिए पहुंची थी।

ब्रिज में 2 ब्रॉन्ज
पदार्पण कर रहे खेल ब्रिज में भारत ने पुरुष टीम और मिश्रित टीम स्पर्धा में ब्रॉन्ज मेडल जीते। पुरुष टीम में जग्गी शिवदसानी, राजेश्वर तिवारी, अजय, राजू तोलानी, देवव्रत मजूमदार और सुमित मुखर्जी शामिल थे। वहीं, मिक्स्ड टीम में किरण नादर, हेमा देवड़ा, हिमानी खंडेलवाल, बचीराजू सत्यनारायण, गोपीनाथ मन्ना और राजीव खंडेलवाल रहे।

कंपाउंड में 2 सिल्वर पक्के
भारत की महिला और पुरुष कंपाउंड टीमों ने भी फाइनल में जगह बनाकर कम से कम दो रजत पदक पक्के किए। दोनों टीमों ने सेमीफाइनल में चीनी ताइपे को हराया। गत विजेता पुरुष टीम ने अपनी प्रतिष्ठा के अनुरूप प्रदर्शन करते हुए सेमीफाइनल में चीनी ताइपे को 230-227 से हराया। अभिषेक वर्मा, अमन सैनी और रजत चौहान की भारतीय तिकड़ी ने धीमी शुरूआत के बाद प्रदर्शन में धार लाते हुए चार सेट का मुकाबला 57-57, 57-56, 58-55, 59-59 से जीता। फाइनल में टीम 2014 के एशियाई खेलों की तरह इस बार भी साउथ कोरिया से भिड़ेगी।

इससे पहले भारतीय महिला टीम ने पिछले एशियाई खेलों के अपने प्रदर्शन में सुधार करते हुए फाइनल में जगह बनाई। चार साल पहले इंचियोन में कांस्य जीतने वाली महिला टीम ने भी चीनी ताइपे को ही 225-222 से हराया। सुरेखा ज्योति वेन्नम, मुस्कान किरार और मधुमिता कुमार की तिकड़ी ने धीमा शुरुआत के साथ पहले दो सेट 55-58, 55-57 से गंवा दिए लेकिन वापसी करते हुए अगले दोनों सेट 57-55, 58-52 से जीतकर मुकाबला अपने नाम कर लिया।

हॉकी के सेमीफाइनल में प्रवेश
गत चैंपियन भारतीय पुरुष हाकी टीम ने भी अपना विजयी अभियान जारी रखते हुए पूल मैच में साउथ कोरिया को 5-3 से हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई। भारत के लिए रूपिंदर पाल सिंह (पहले मिनट), चिंगलेनसाना सिंह (चौथे मिनट), ललित उपाध्याय (15वें मिनट), मनप्रीत सिंह (49वें मिनट) और आकाशदीप सिंह (55वें मिनट) ने गोल किए। कोरिया की तरफ से मानजेई जुंग (33वें और 35वें मिनट) और जोंगह्युन जेंग (59वें मिनट) ने गोल दागे।

बैडमिंटन कोर्ट पर इतिहास
बैडमिंटन कोर्ट पर ओलिंपिक मेडलिस्ट पीवी सिंधु और साइना नेहवाल ने महिला एकल सेमीफाइनल में पहुंचकर भारत के लिए ऐतिहासिक दो पदक पक्के किए। लंदन ओलिंपिक की ब्रॉन्ज मेडलिस्ट साइना ने विश्व में पांचवें नंबर की थाइलैंड की खिलाड़ी रत्चानोक इंतानोन से पहले गेम के शुरू में पिछड़ने के बाद शानदार वापसी करके 21-18, 21-16 से जीत दर्ज कर व्यक्तिगत स्पर्धा में भारत के 36 साल का पदक का सूखा खत्म किया। ओलिंपिक और विश्व चैंपियनशिप की सिल्वर मेडलिस्ट विजेता सिंधु ने भी एक अन्य क्वॉर्टर फाइनल में थाइलैंड की ही जिंदापोल को 21-11, 16-21, 21-14 से हराकर पदक पक्का किया।

गोल्फ में अच्छी शुरुआत
भारतीय गोल्फर भी अच्छी शुरुआत को बरकरार नहीं रख सके और पुरूषों की टीम ने अपने अभियान को सातवें स्थान के साथ समाप्त किया। भारतीय टीम पहले दो दौर के बाद दूसरे स्थान पर थी लेकिन कल तीसरे दिन टीम ने निराशाजनक प्रदर्शन किया जिसमें सभी खिलाड़ियों ने पार से ज्यादा के कार्ड खेले। आज अंतिम दौर में भी खिलाड़ियों का प्रदर्शन ऐसा ही रहा।

शूटिंग में निराशा
निशानेबाजी में भारतीय अभियान का समापन निराशाजनक तरीके से हुआ जिसमें स्कीट स्पर्धा में भाग लेने वाले चार निशानेबाजों में से कोई भी फाइनल में जगह पक्की नहीं कर पाया। टीम ओवरऑल निशानेबाजी तालिका में तीसरे स्थान पर रही जो पिछले एशियाई खेलों से काफी बेहतर है। शीराज शेख और अंगद वीर सिंह बाजवा रविवार को स्कीट क्वॉलिफिकेशन में क्रमश: 13वें (120 अंक) तथा 14वें (119 अंक) स्थान पर रहे और फाइनल के लिए क्वॉलिफाइ नहीं कर सके।

बॉक्सिंग में मिश्रित सफलता
भारत को मुक्केबाजी में मिश्रित सफलता हाथ लगी। विश्व चैंपियनशिप की पूर्व सिल्वर मेडलिस्ट सरजूबाला देवी ने क्वॉर्टर फाइनल में जगह बनाई लेकिन अनुभवी मनोज कुमार और शिव थापा प्री-क्वॉर्टर में हार के साथ बाहर हो गए। फ्लाइवेट 51 किग्रा वर्ग में चुनौती पेश कर रहीं सरजूबाला ने ताजिकिस्तान की मदीना घाफोरोवा को 5-0 से हराया। मनोज को हालांकि वेल्टरवेट 69 किग्रा वर्ग के प्री क्वॉर्टर फाइनल में किर्गीस्तान के अब्दुअखमान के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा जबकि शिव को लाइटवेट 60 किग्रा वर्ग में चीन के जुन शान ने एक मिनट के अंदर हरा दिया।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

फ्रांस के खिलाफ मुस्लिम समुदाय में बढ़ा आक्रोश, कई देशों में हिंसक प्रदर्शन

ढाका फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के इस्लामी आतंकवाद के बयान पर पाकिस्तान, बांग्लादेश और …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!