5 राज्यों के चुनाव के नतीजों से बनेगा 2019 का रास्ता?

नई दिल्ली

पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव की तारीख घोषित होने के साथ ही सबसे लंबे और अहम सियासी मौसम का आगाज हो गया है। इन विधानसभा चुनावों के बाद ही आम चुनाव की भी बिसात बिछ जाएगी। जाहिर है, इन राज्यों में जो बेहतर प्रदर्शन करेगा, वह अपने पक्ष में माहौल बनाते हुए आम चुनाव के दंगल में उतरेगा।

बता दें कि चुनाव आयोग ने पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीखों का शनिवार को ऐलान कर दिया। आयोग ने छत्तीसगढ़ में दो चरणों में चुनाव कराने की घोषणा की है। इसके अलावा मध्य प्रदेश, मिजोरम, राजस्थान और तेलंगाना में एक चरण में ही चुनाव कराए जाएंगे। छत्तीसगढ़ में पहले चरण में 18 सीटों पर 12 नवंबर को वोटिंग होगी। इसके बाद दूसरे चरण में 72 विधानसभा क्षेत्रों में 20 नवंबर को चुनाव होंगे। चुनाव आयोग ने मध्य प्रदेश और मिजोरम में एक ही चरण में 28 नवंबर को वोटिंग कराने का ऐलान किया है। राजस्थाना और तेलंगाना में सात दिसंबर को वोटिंग होगी। मतगणना 11 दिसंबर को होगी और उसी दिन परिणाम आ जाएंगे। चुनावों की घोषणा के साथ ही सभी 5 राज्यों में आदर्श आचार संहिता लागू हो गई है।

विपक्षी महागठबंधन को मिलेगी दिशा
इन विधानसभा चुनावों के परिणाम के बाद ही विपक्षी महागठबंधन की दिशा तय होगी। अगर बीजेपी का इन चुनावों में परिणाम बेहतर रहा, तो फिर क्षेत्रीय पार्टी रक्षात्मक मुद्रा में जा सकती है। साथ ही वे सहयोगी दल, जो चुनाव से पहले बीजेपी पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहे हैं, उनके भी तेवर नरम पड़ सकते हैं। लेकिन इसके उलट हुआ, तो फिर न सिर्फ विपक्ष को 2019 में उम्मीद की किरण दिखेगी, बल्कि वे एक मंच पर आने में भी जल्दी दिखाएंगे। बीजेपी के सहयोगी दलों के भी तेवर गरम हो जाएंगे।

कांग्रेस की बारगेन क्षमता तय होगी
विपक्ष के गठबंधन में कांग्रेस की हिस्सेदारी और भूमिका कितनी और कैसी होगी, इसका भी इन 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव के परिणाम से अंदाजा हो जाएगा। चुनाव से पहले बीएसपी और सपा जैसे दलों ने कांग्रेस से गठबंधन करने से इनकार कर दिया है। अगर चुनाव में कांग्रेस ने बेहतर परिणाम दिखाए, तो फिर विपक्षी गठबंधन में कांग्रेस और राहुल गांधी की हैसियत मजबूत होगी और वे अपने हिसाब से चीजें तय कर सकेंगे। लेकिन अगर यहां कांग्रेस कमजोर रही, तो फिर उन्हें क्षेत्रीय दलों के सामने बुरी तरह झुकना होगा।

एंटी इनकंबेंसी से कैसे निबटेगी बीजेपी
वर्ष 2014 के आम चुनाव के बाद सही मायने में बीजेपी के लिए पहली बार असल परीक्षा हो रही है। वर्ष 2014 में बीजेपी की ओर से आम चुनाव में बड़ी जीत हासिल करने के बाद मात्र दो ऐसे राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए हैं, जहां बीजेपी की सरकार पहले से थी। पहला राज्य गोवा था, जहां कांग्रेस सबसे बड़ी पार्टी बनी थी और उसके बाद गुजरात, जहां पीएम मोदी और अमित शाह के गृह राज्य में भी कड़ा मुकाबला हुआ था। इस बार मध्य प्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में बीजेपी की सरकारें हैं। पार्टी एंटी इनकंबेंसी फैक्टर से किस तरह निबटेगी, इसका पता इस चुनाव में चल जाएगा।

ब्रैंड मोदी पर पड़ेगा असर
बीजेपी ने साफ संकेत दे दिया है कि इन विधानसभा चुनावों में वह पीएम मोदी और केंद्र सरकार के कामकाज के साथ उतरेगी। इसका उद्देश्य राज्यों में एंटी इनकंबेंसी को काउंटर करना होगा। ऐसे में एक बार फिर पीएम नरेंद्र मोदी वन मैन आर्मी की तरह मैदान में उतरेंगे। सूत्रों के अनुसार, सभी राज्यों को मिलाकर वह 60 से ज्यादा रैलियां करेंगे। इसके बाद जिस तरह का परिणाम आएगा, ब्रैंड मोदी भी उसी अनुरूप आगामी लोसकभा चुनाव में आगे बढ़ेगा।

कांग्रेस का दक्षिण का गणित हल होगा
यह चुनाव तेलंगाना और कर्नाटक के अलावा आंध्र प्रदेश में भी कांग्रेस का सहयोगी दलों से गठबंधन किस तरह होगा, तय करेगा। कांग्रेस ने तेलंगाना में टीडीपी के साथ गठबंधन किया है। अगर यह प्रयोग सफल रहा, तो आंध्र प्रदेश में लोकसभा और विधानसभा चुनाव में गठबंधन तय हो जाएगा। उसी तरह कर्नाटक में दो लोकसभा के आवा तीन विधानसभा सीट पर उपचुनाव हैं। वहां कांग्रेस का जेडीएस से संबंध किस तरह आगे बढ़ेगा, वह भी इस उपचुनाव से तय हो जाएगा।

मध्य प्रदेश
कुल सीट : 230
वर्ष 2013 का परिणाम
बीजेपी : 165 सीट, वोट शेयर : 44.88%
कांग्रेस : 58 सीट, वोट शेयर : 36.38%
बीएसपी : 4 सीट, वोट शेयर : 6.43%

राजस्थान
कुल सीट : 200
वर्ष 2013 का परिणाम
बीजेपी : 163 सीट, वोट शेयर : 45.2%
कांग्रेस : 21 सीट, वोट शेयर : 33.1%
बीएसपी :3 सीट, वोट शेयर : 3.4%

छत्तीसगढ़
कुल सीट : 90
वर्ष 2013 का परिणाम
बीजेपी : 49 सीट, वोट शेयर : 41%
कांग्रेस : 39 सीट, वोट शेयर : 40.3%
बीएसपी : 1 सीट, वोट शेयर : 4.3%

तेलंगाना
कुल सीट : 119
वर्ष 2014 का परिणाम
टीआरएस : 63 सीट
कांग्रेस : 20 सीट
एआईएमआईएम : 7 सीट
बीजेपी : 5 सीट
एनडीए : 20 सीट
अन्य : 4 सीट

मिजोरम
कुल सीट : 40
वर्ष 2013 का चुनाव परिणाम
कांग्रेस : 34 सीट
मिजो नैशनल फ्रं

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

लाइव फायर ड्रिल, ..तो भारत के खिलाफ बड़ी साजिश रच रहा है चीन?

पेइचिंग लद्दाख सीमा पर भारत के हाथों करारी मात खाने के बाद चीन अब साउथ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
162 visitors online now
14 guests, 148 bots, 0 members
Max visitors today: 195 at 12:10 pm
This month: 227 at 09-18-2020 01:27 pm
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm