Tuesday , September 22 2020

कश्मीर के अनंतनाग में 3 फेज में चुनाव के पीछे है बड़ा संदेश

नई दिल्ली/श्रीनगर

जम्मू-कश्मीर की अनंतनाग संसदीय सीट देश की एकमात्र ऐसी सीट है, जहां चुनाव तीन चरणों में सम्पन्न कराया जाएगा। इस सीट पर तीसरे चरण (23 अप्रैल), चौथे चरण (29 अप्रैल) और पांचवें चरण (6 मई) में वोटिंग होगी। इस सीट पर तीन हिस्सों में चुनाव कराए जाने का मकसद साफ है। यह सीट सुरक्षा के लिहाज से काफी संवेदनशील मानी जाती है।

कई दौर की बैठक के बाद हुआ फैसला
चुनाव आयोग ने जम्मू-कश्मीर सरकार और केंद्रीय गृह मंत्रालय से इस मुद्दे पर चर्चा की। इसके बाद तय किया गया कि अनंतनाग में चुनाव न कराया जाना और बाकी के 5 संसदीय क्षेत्रों में चुनाव कराने पर देश के भीतर और बाहर गलत संदेश जाएगा। यदि ऐसा होता है तो अनंतनाग के लोग इसे बड़ा मुद्दा बना सकते हैं।

आतंकी गतिविधियों का गढ़ अनंतनाग
पुलवामा और शोपियां हाल के दिनों में सबसे ज्यादा आतंकी गतिविधि वाले क्षेत्र माने गए हैं। ये दोनों ही क्षेत्र अनंतनाग में आते हैं। यदि इस इलाके में चुनाव को स्थगित किया जाता है, तो वहां के लोगों के बीच बेहद नकारात्मक संदेश जाएगा। हाल ही में सरकार ने वहां की जमात-ए-इस्लामी को गैर-कानूनी संस्था घोषित किया और पिछले 15 दिन में इसके 400 से ज्यादा नेताओं और काडर गिरफ्तार किया।

2018 में मारे 43 आतंकी
आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद, लश्कर-ए-तैयबा और हिजबुल मुजाहिद्दीन का गढ़ माना जाता है। सरकार को आशंका थी कि जमात की तरफ से इन संगठनों को चुनाव के दौरान अशांति फैलाने में मदद की जा सकती है। स्थानीय प्रशासन ने चुनाव आयोग को इस बारे में जानकारी दी थी। शोपियां में साल 2018 में 43 आतंकवादी मारे गए थे। शोपियां को आतंकी संगठनों का सबसे बड़ा गढ़ माना जाता है। सूत्रों का कहना है कि घाटी में इस समय 336 आतंकी सक्रिय हैं, जिनमें 204 अकेले दक्षिण कश्मीर में हैं।

पीडीपी का सपॉर्ट बेस
सुरक्षा बलों से जुड़े सूत्रों का कहना है कि अनंतनाग परंपरागत रूप से पीडीपी का सपॉर्ट बेस रहा है। पीडीपी के बीजेपी से गठबंधन के बाद यहां के लोग पीडीपी से काफी नाराज हुए थे। 2014 के लोकसभा चुनाव में इस सीट से पीडीपी की महबूबा मुफ्ती ने 53.41 प्रतिशत वोटों चुनाव जीता था। 2016 में पीडीपी नेता मुफ्ती मोहम्मद सईद की मौत के बाद महबूबा सूबे की मुख्यमंत्री बनी और उन्हें यह सीट छोड़नी पड़ी।

2016 के बाद नहीं हो सका उपचुनाव
महबूबा मुफ्ती के सीएम बनने के बाद यह सीट खाली हो गई। इसके बाद जुलाई 2016 में आतंकी बुरहान वानी की मौत के बाद वहां के हालात इतने खराब होते चले गए कि चुनाव आयोग वहां अब तक भी उपचुनाव नहीं करा सका है। यहां तक कि 2017 में उपचुनाव का प्रस्ताव रखा गया था, लेकिन बाद में उसे रद्द करना पड़ा।

1996 के बाद गिरा वोट प्रतिशत
1996 के आम चुनाव में इस सीट पर 50 प्रतिशत से ज्यादा वोटिंग हुई थी। इसके बाद से अब तक यहां वोट प्रतिशत लगातार गिरा है। बाकी राज्य की तुलना में यहां सबसे कम वोटिंग होती है।

Did you like this? Share it:

About editor

Check Also

कोरोना का ग्राफ तय करेगा यूपी, बिहार समेत इन राज्यों में कब खुलेंगे स्कूल?

कोरोना संकट के बीच 5 महीने से भी ज्यादा समय के बाद सोमवार से कई …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Enable Google Transliteration.(To type in English, press Ctrl+g)
116 visitors online now
26 guests, 89 bots, 1 members
Max visitors today: 150 at 12:03 am
This month: 227 at 09-18-2020 01:27 pm
This year: 687 at 03-21-2020 02:57 pm
All time: 687 at 03-21-2020 02:57 pm