आरजेडी नेता सुरेश चौधरी को गोलियों से भूना, गोरखपुर किया गया रेफर

गोपालगंज

बिहार में अपराधी बेखौफ हैं। वे राजनेताओं तक को निशाना बनाने से बाज नहीं आ रहे हैं। अब गोपालगंज जिले में आरजेडी नेता सुरेश चौधरी को अपराधियों ने गुरुवार तड़के गोली मार दी। सुरेश चौधरी मॉर्निंग वॉक के लिए घर से निकल रहे थे उसी दौरान बाइक सवार बदमाशों ने उन्हें गोली मारी। अस्पताल में भर्ती सुरेश चौधरी की हालत गंभीर बताई जा रही है।

इलाके में सुरेश चौधरी की पहचान अपराध जगत से जुड़े शख्स की है। अपराधियों की ओर से की गई फायरिंग में सुरेश के सीने में तीन गोलियां लगी हैं। गोपालगंज सदर अस्पताल के डॉक्टरों ने प्रारंभिक जांच करने के बाद सुरेश चौधरी को मेडिकल कॉलेज गोरखपुर रेफर कर दिया है।प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि सुरेश चौधरी गुरुवार सुबह अपने दरवाजे पर टहल रहे थे। इसी दौरान बाइक पर आए एक युवक ने पिस्टल से अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। सुरेश चौधरी को सीने पर तीन गोलियां लगी है।

पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार तिवारी ने बताया कि इस घटना की जांच की जा रही है। वारदात कैसे हुई पुलिस घटनास्थल पर पहुंचकर जांच कर रही है। इलाके लोग बताते हैं कि सुरेश चौधरी करीब दो दशक से अपराध जगत से जुड़े हैं। सुरेश के खिलाफ कई गंभीर मुकदमे दर्ज हैं। ट्रिपल मर्डर और इंस्पेक्टर को गोली मारने समेत कई आपराधिक मामलों में जेल भी जा चुके हैं। वे राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता भी हैं।

मई में भी आरजेडी नेता के घर पर हमला
इससे पहले इसी साल मई में गोपालगंज जिले में ही आरजेडी नेता के परिवार पर हमला किया गया था। गोपालगंज ट्रिपल मर्डर केस में आरोप है कि इस वारदात को कुचायकोट विधानसभा क्षेत्र के बाहुबली जेडीयू विधायक अमरेंद्र पांडेय उर्फ पप्पू पांडेय के इशारे पर अंजाम दिया गया है। आरोप है कि गोपालगंज के हथुआ थानांतर्गत रुपनचक गांव में आरजेडी नेता के घर में घुसकर अपराधियों ने जेपी यादव समेत उनके चार परिजनों को गोलियों से भून दिया था। अपराधियों की ओर से ताबड़तोड़ की गई फायरिंग की वजह से आरजेडी नेता जेपी यादव की माता-पिता की मौत हो गई थी, जबकि गंभीर रूप से घायल उनके एक भाई ने गोरखपुर के एक अस्पताल में दम तोड़ दिया था। वहीं आरजेडी नेता जेपी यादव और उनके एक भाई भी गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

About bheldn

Check Also

यूपी चुनाव : तीसरी सूची के वो ‘दलबदलू’, जिन्हें बीजेपी ने इस बार दिया है टिकट

नई दिल्ली, चुनावी मौसम में नेताओं का एक पार्टी से दूसरी पार्टी में पलायन होता …