चीन के दुश्‍मन ताइवान से छिपकर दोस्‍ती करने में लगा पाकिस्‍तान, खुली पोल

इस्‍लामाबाद

चीन को अपना ‘आयरन ब्रदर’ बताने वाला पाकिस्‍तान अब पेइचिंग के दुश्‍मन ताइवान से चुपके-चुपके दोस्‍ती बढ़ाने में जुट गया है। पाकिस्‍तान ताइवान के साथ व्‍यापार बढ़ाने की फिराक में लगा है। गत दो सितंबर को मिस्र की राजधानी काहिरा में पाकिस्‍तान की व्‍यापार अधिकारी स‍िदरा हक ने स्‍थानीय ताइवानी ट्रेड सेंटर के दौरे की तस्‍वीर पोस्‍ट की थी। इसमें ट्रेड सेंटर के डायरेक्‍टर माइकल येन भी नजर आ रहे हैं।

स‍िदराह ने कहा कि उनके और माइकल के बीच पाकिस्‍तान और ताइवान व्‍यापारिक संबंधों को मजबूत बनाने और स्‍थानीय बिजनस मार्केट के बारे में सूचनाएं साझा करने पर बातचीत हुई। सिदरा हक ने उत्‍साह में आकर यह पोस्‍ट तो कर दिया लेकिन बहुत जल्‍द ही उन्‍होंने इसे डिलीट भी कर दिया। माना जा रहा है कि चीन के डर से पाकिस्‍तानी अधिकारी ने अपनी पोस्‍ट को डिलीट कर दिया।

सिदरा ने यह तस्‍वीर तो डिलीट कर दी लेकिन इससे साफ हो गया कि पाकिस्‍तान चीन पर अपनी अत्‍यधिक निर्भरता के बाद भी ताइवान के साथ व्‍यापारिक संबंधों को बढ़ाने में जुटा हुआ है। बता दें कि 21 करोड़ की आबादी वाला पाकिस्‍तान चावल, कॉटन, कपडे़ आदि का निर्यात करता है। पाकिस्‍तान के मुख्‍य आयात में पेट्रोलियम प्रॉडक्‍ट, मशीनें, प्‍लास्टिक, लोहा और स्‍टील शामिल है। वर्ष 2019 के आंकड़ों के मुताबिक पाकिस्‍तान ने ताइवान से 62 करोड़ 60 लाख डॉलर का आयात किया वहीं 10 करोड़ डॉलर का निर्यात किया।

बता दें कि चीन के राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग ने अपना पाकिस्‍तान दौरा रद्द कर दिया है। चीनी राष्‍ट्रपति शी जिनपिंग इस साल के आखिर में पाकिस्‍तान आने वाले थे। शी के दौरे को देखते हुए इमरान खान सरकार उनके स्‍वागत के लिए जोरदार तैयारियां कर रही थी। पाकिस्‍तान में चीन के राजदूत याओ जिंग ने कहा कि कोरोना वायरस संकट को देखते हुए यह दौरा रद्द किया गया है। उन्‍होंने कहा कि जल्‍द ही नई तिथियों का ऐलान किया जाएगा। बता दें कि इमरान खान ने अपनी चीन यात्रा के दौरान चीनी राष्‍ट्रपति को पाकिस्‍तान दौरे का न‍िमंत्रण दिया था। राष्ट्रपति बनने के बाद जिनपिंग की यह दूसरी पाकिस्तान यात्रा होगी। इससे पहले वे 2015 में इस्लामाबाद का दौरा कर चुके हैं।

About bheldn

Check Also

अफगानिस्तान में किडनी बेच भूख मिटा रहे लोग, गरीबी से हालात भयावह

नई दिल्ली अफगानिस्तान की दिन-प्रतिदिन खराब होती आर्थिक हालत से यहां आम लोगों की जिंदगी …