महाराष्ट्र में टूटे सारे रेकॉर्ड, एक दिन में कोरोना के 23 हजार मरीज

मुंबई

महाराष्ट्र में कोरोना महामारी के नए मामलों ने फिर से रेकॉर्ड तोड़ दिया है। रविवार को प्रदेश में 24 घंटों के भीतर कोरोना के 23 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आए। वहीं 328 मरीजों की घातक वायरस की चपेट में आने से मौत हो गई। रिपोर्ट के मुताबिक, 7 हजार 826 कोरोना मरीज ठीक होने के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज किए गए।

बता दें कि भारत में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है। कोरोना मामलों के सामने आने के शुरुआती दौर से ही प्रदेश में वायरस के सबसे ज्यादा मरीज हैं। राजधानी मुंबई में भी कोरोना का कहर भयानक स्तर पर जारी है। अनलॉक-4 की प्रक्रिया शुरू होने के बाद से प्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या और बढ़ी है। बताया गया कि 31 अगस्त के बाद से ही राजधानी मुंबई में एक बार फिर से हर दिन एक हजार से ज्यादा मामले सामने आने लगे।

रेकॉर्ड! 24 घंटे में 23 हजार नए मरीज
रविवार को सामने आई स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के मुताबिक, 24 घंटों के भीतर पूरे महाराष्ट्र में 23 हजार 350 नए मरीज सामने आए हैं। वहीं, 328 लोगों की कोरोना से जान चली गई। इसके साथ ही प्रदेश में कोरोना के कुल मामलों की संख्या 9 लाख 7 हजार 212 हो गई। प्रदेश में अब तक कुल 6 लाख 44 हजार 400 लोगों को ठीक होने के बाद अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है। वहीं प्रदेश में फिलहाल, 26 हजार 604 ऐक्टिव कोरोना केसेज हैं।

दिसंबर तक हर्ड इम्युनिटी?
इस बीच टाटा इंस्टिट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च (TIFR) की ओर से एक राहत भरी खबर भी सामने आई। TIFR ने कोरोना प्रॉजेक्शन पर अपनी रिपोर्ट में बताया है कि दिसंबर या फिर जनवरी तक मुंबई के अधिकांश हिस्से में हर्ड इम्युनिटी डिवेलप हो जाएगी। स्लम पॉकेट्स में रह रहे 75 फीसदी लोग और नॉन-स्लम पॉकेट की 50 फीसदी आबादी में ऐंटीबॉडी डिवेलप हो जाएगी। हालांकि इस मॉडल में फिर से इन्फेक्शन के खतरे को नहीं शामिल किया गया है। इसमें धीरे-धीरे करके मुंबई को एक नवंबर से पूरी तरह खोल देने का प्रस्ताव भी रखा गया है।

About bheldn

Check Also

बड़ों के लिए वर्क फ्रॉम होम तो बच्‍चे क्‍यों जा रहे स्‍कूल? प्रदूषण पर दिल्‍ली सरकार को SC से फटकार

नई दिल्ली दिल्ली में स्कूल खोलने के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट राज्य सरकार को फटकार …