ज्योतिरादित्य सिंधिया के गढ़ में कमलनाथ ने की सेंधमारी, दिया बड़ा झटका

भोपाल

पूर्व सीएम कमलनाथ ने सुबह-सुबह बीजेपी को बड़ा झटका दिया है। उन्होंने ज्योतिरादित्य सिंधिया के गढ़ में सेंधमारी की है। 2018 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी के प्रत्याशी रहे सतीश सिकरवार ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की है। पूर्व सीएम कमलनाथ की मौजूदगी में सैकड़ों की संख्या में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस की सदस्यता ग्रहण की है। ये बीजेपी के लिए ग्वालियर-चंबल में बड़ा झटका माना जा रहा है।

दरअसल, सतीश सिकरवार ग्वालियर के बड़े नेता माने जाते हैं। ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ उनके लोगों के आने से सतीश नाराज चल रहे थे। पिछले चुनाव में कांग्रेस के मुन्नालाल गोयल से चुनाव हार गए थे। उपचुनाव में ग्वालियर पूर्व से मुन्नालाय गोयल ही बीजेपी के उम्मीदवार होंगे। अंदरूनी कलह से ग्वालियर-चंबल में जूझ रही बीजेपी के लिए बड़ा झटका माना जा रहा है। चर्चा है कि बीजेपी के कई असंतुष्ट लोग कांग्रेस के संपर्क में हैं।

सतीश सिकरवार की पारिवारिक पृष्ठभूमि बीजेपी की है। उनके पिता गजराज सिंह और भाई सत्यपाल सिंह भी बीजेपी से विधायक रह चुके हैं। लेकिन ज्योतिरादित्य सिंधिया के लोगों के आने से बीजेपी के पुराने नेताओं की पार्टी में अनदेखी हो रही है। वहीं, ग्वालियर-चंबल में लगातार बीजेपी के दिग्गज नेता अपने नेताओं को मनाने में जुटे हैं।

18 हजार वोट से हारे थे
2018 के विधानसभा चुनाव में सतीश सिकरवार कांग्रेस के मुन्नालाल गोयल से 17,819 वोटों से हार गए थे। एक बार फिर से इस सीट पर गोयल और सिकरवार में ही मुकाबला है। गोयल अब बीजेपी में हैं, तो सिकरवार कांग्रेस में हैं। चर्चा है कि ग्वालियर पूर्व से मुन्नालाल गोयल के खिलाफ कांग्रेस सतीश सिकरवार को ही मैदान में उतारेगी।

अंसतुष्टों पर है नजर
दरअसल, कांग्रेस लगातार ग्वालियर-चंबल में बीजेपी के असंतुष्टों पर नजर रख रही है। बीजेपी के तमाम पुराने नेताओं में असंतोष हैं। केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा, ज्योतिरादित्य सिंधिया और सीएम खुद भी उस इलाके में कैंप कर रूठे लोगों को मनाने की कोशिश कर रहे हैं। उसके बावजूद भी असंतोष नहीं थम रहा है। वहीं, गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा है कि सतीश सिकरवार के जाने बीजेपी को कोई झटका नहीं लगा है।

पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि अब कांग्रेस में महलों का दखल खत्म हो गया है। अब कांग्रेस में कोई महल नहीं है , आप सभी लोग आज कमलनाथ के घर में आए हैं। आज आप कांग्रेस पार्टी के परिवार से जुड़ गए हैं। उन्होंने कहा कि हमारा देश देवी-देवताओं , विभिन्न संस्कृतियों का देश है। यहां जोड़ने की बात होती है, तोड़ने की नहीं। कांग्रेस सदैव जोड़ने की राजनीति करती है।

About bheldn

Check Also

मास्क पर सिंधिया ने टोका, इमरती देवी कान पकड़कर बोलीं-सॉरी महाराज

ग्वालियर कोरोना संक्रमण काल में पहली बार केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया अपने एक दिवसीय दौरे …