चीन ने फिर बदला रंग, कहा- सीमा पर शांति बहाली की जिम्मेदारी सिर्फ भारत पर

नई दिल्ली

लगता है चीन सीमा पर तनाव खत्म करना ही नहीं चाहता है, तभी तो वह किसी भी बात पर टिक ही नहीं रहा है। अब उसने सीमा पर शांति बहाली की पूरी जिम्मेदारी अकेले भारत पर डाल दी है। चीन ने कहा कि यह भारत के जिम्मे है कि वह अपनी ‘गलती’ सुधारते हुए जमीन पर सैन्य संघर्ष के हालात दूर करे और तनाव खत्म करने की दिशा में कदम उठाए।

उसने ऐसा तब कहा जब कुछ दिन पहले ही दोनों देशों के विदेश मंत्रियों ने तनाव खत्म करने के पांच बिंदुओं की एक रूपरेखा पर सहमति जताई थी। मॉस्को में विदेश मंत्री एस. जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी की तरफ से इसे हरी झंडी दिए एक सप्ताह ही बीते ही चीन ने रंग बदल दिया।

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन (Wang Wenbin) ने कहा, ‘चीन-भारत सीमा विवाद की जिम्मेदारी चीन के ऊपर नहीं है। भारत की तरफ से समझौते और दोनों पक्षों के बीच बनी महत्वपूर्ण सहमतियों का उल्लंघन हुआ। भारत ने उकसाने के लिए पहले अवैध तरीके से सीमा का अतिक्रमण किया, सीमाई इलाके में जमीनी हालात बदले और सीमा पर तैनात चीनी सैनिकों के सामने खतरा पैदा किया।’

चीनी प्रवक्ता का यह बयान लोकसभा में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की तरफ से चीनी सीमा को लेकर विस्तृत जानकारी दिए जाने के बाद आया है। उन्होंने मंगलवार को संसद में कहा कि चीन एलएसी पर अपने हिंसक व्यवहार से द्विपक्षीय समझौतों का उल्लंघन कर रहा है। बहरहाल, दोनों देशों के बीच सीनियर कमांडर लेवल की बातचीत भी चल रही है। इनकी अगली मीटिंग की तारीख नहीं हुई है। वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर तत्काल दोनों सेनाएं अपनी-अपनी पॉजिशन पर डटी हुई है। वो न आगे बढ़ रही हैं और न पीछे।

सूत्रों के मुताबिक, संयुक्त सैन्य एवं कूटनीतिक बातचीत को लेकर चर्चा हो रही है लेकिन दोनों पक्षों को मीटिंग की अगली तारीख तय करनी है। चीनी प्रवक्ता ने बुधवार को यह भी कहा कि चीन ने हमेशा संबंधित समझौतों का पालन किया है और हम भारत से सटी सीमा पर शांति और स्थिरता कायम रखने को प्रतिबद्ध हैं।

About bheldn

Check Also

भारत समेत दुनिया के इन देशों में फैल चुका है COVID का नया वैरियंट ओमीक्रोन

जिनेवा/नई दिल्ली कोरोना वायरस का नया वैरियंट ओमीक्रोन अब भारत में भी दस्तक दे चुका …