बेरोजगारी पर ट्वीट, तेजस्वी सूर्या बोले- ट्विटर ट्रोल से ज्यादा कुछ नहीं हैं राहुल

नई दिल्ली

पीएम मोदी के 70वें जन्मदिन के मौके पर जहां भारतीय जनता पार्टी ‘सेवा सप्ताह’ मना रही है, वहीं विपक्ष ने इस दिन को राष्ट्रीय बेरोजगारी दिवस के रूप में मनाया। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी गुरुवार सुबह पीएम मोदी को शुभकामनाएं देने के बाद ट्वीट कर बेरोजगारी के मुद्दे पर मोदी सरकार की खिंचाई की। इसके बाद बीजेपी नेता तेजस्वी सूर्या ने राहुल को ट्रोल करार दिया।

तेजस्वी ने गुरुवार को कहा, ‘राहुल गांधी ट्विटर ट्रोल से ज्यादा कुछ नहीं हैं। उनकी राजनीति उनके ट्वीट तक ही सीमित है। वह संसद, सड़कों, पार्टी बैठकों से अनुपस्थित रहते हैं। वह किसी गुमनाम ट्रोल्स की तरह हैं। ऐसा नहीं है कि उनके ट्वीट का ट्विटर से परे कुछ भी मतलब है।’ उन्होंने आगे कहा कि यह समझना मुश्किल है कि जिस व्यक्ति ने जिंदगी में एक दिन भी नौकरी नहीं की, वह बेरोजगारी को कैसे समझ सकता है।

बेरोजगारी का दर्द नहीं जानते राहुल: सूर्या
सूर्या ने कहा कि वह (राहुल गांधी) बेरोजगार युवाओं का दर्द नहीं जानते। उन्हें इस मुद्दे पर बोलने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है। उन्होंने कहा, ‘यह सच है कि दुनिया की अर्थव्यवस्था ने कोरोना और आर्थिक स्थिति की वजह से गिरावट देखी है।’ उन्होंने कहा, ‘सरकार ने इस तथ्य का संज्ञान लिया है और रोजगार, निवेश बढ़ाने की कोशिश में लगी है। साथ ही सरकार यह भी सुनिश्चित करने की कोशिश कर रही है कि भारत के युवा को देश में स्थायी रोजगार मिले।’

किसानों के मुद्दे पर हमलावर हुए राहुल गांधी
इससे पहले गुरुवार शाम राहुल गांधी ने किसानों के मुद्दे पर एकबार फिर मोदी सरकार को घेरने की कोशिश की। राहुल ने ट्वीट किया, ‘मोदी जी ने किसानों की आय दोगुनी करने का वादा किया था। लेकिन मोदी सरकार के ‘काले’ क़ानून किसान-खेतिहर मज़दूर का आर्थिक शोषण करने के लिए बनाए जा रहे हैं। ये ‘ज़मींदारी’ का नया रूप है और मोदी जी के कुछ ‘मित्र’ नए भारत के ‘ज़मींदार’ होंगे।’ राहुल ने आगे कहा कि कृषि मंडी हटी, देश की खाद्य सुरक्षा मिटी।

सुबह बेरोजगारी को लेकर राहुल ने बोला था हमला
आपको बता दें कि कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को उनके 70वें जन्म दिन पर बधाई देने के बाद एक और ट्वीट किया। ट्वीट में लिखा था, ‘भारी बेरोजगारी के चलते युवा आज राष्‍ट्रीय बेरोजगारी दिवस मनाने पर मजबूर हैं। रोजगार सम्मान है। सरकार कब तक ये सम्मान देने से पीछे हटेगी?’

About bheldn

Check Also

कांग्रेस बिना विपक्षी मोर्चा संभव नहीं: ममता-पवार की बैठक से पहले मलिक

नई दिल्ली पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस की मुखिया ममता बनर्जी दो दिन …