अस्पताल में कोविड पीड़ित महिला से रेप, एक महीने बाद आरोपी अरेस्ट लेकिन परिवार को नहीं दी जानकारी

भोपाल

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के एक अस्पताल में कोविड मरीज के साथ दुष्कर्म और एक दिन बाद उसकी मौत का मामला अब सुप्रीम कोर्ट की निगरानी वाली कमेटी के पास चला गया है। 6 अप्रैल को हुई इस घटना का खुलासा करीब एक महीने बाद हुआ जब पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया। हालांकि, पीड़िता के परिवार को तब भी इसकी जानकारी नहीं दी गई।

घटना भोपाल के निशातपुरा इलाके में स्थित भोपाल मेमोरियल अस्पताल की है। रेप के बाद महिला की तबीयत बिगड़ गई और उसे वेंटिलेटर पर शिफ्ट किया गया। अगले दिन महिला की मौत हो गई। परिवार के लोग सामान्य मौत ही मानकर चल रहे थे। महिला ने घटना के बारे में अस्पताल में तैनात नर्स को जानकारी दी थी।

रेप की घटना के बारे में अस्पताल प्रबंधन और पुलिस ने परिवार को नहीं बताया। परिवार के लोगों से रेप की बात छिपाते हुए पुलिस ने आरोपी वार्ड बॉय को जेल भेज दिया था। बताया जा रहा है कि आरोपी वार्ड बॉय पर नर्सिंग की एक छात्रा ने भी रेप का आरोप लगाया था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार आरोपी ने चेकअप के नाम पर महिला के साथ ज्यादती की थी। अस्पताल प्रबंधन ने अपनी शिकायत में पुलिस को यही जानकारी दी। तभी से सवाल उठ रहे थे कि पुलिस और अस्पताल के लोगों ने घटना की जानकारी उसके परिवार के लोगों को क्यों नहीं दी। अब सुप्रीम कोर्ट की निगरानी वाली कमेटी मामले की जांच पर नजर रखेगी।

About bheldn

Check Also

रानी कमलापति हिंदू थीं या मुसलमान, ये मोदीजी से पूछिए- हबीबगंज के नामकरण पर कांग्रेस सांसद ने उठाए

रीवा अपने बयानों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाले कांग्रेस के राज्यसभा सांसद राजमणि …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *