अब देश के इन राज्यों में कोरोना के पीक का खतरा, वैज्ञानिकों ने चेताया

नई दिल्ली,

देशभर में कोरोना के चलते बुरे हालात हैं. कई राज्यों में कोरोना का पीक बीत चुका है लेकिन अब भी कई ऐसे राज्य हैं जहां कोरोना का पीक आना बाकी है. इस बात को लेकर आईआईटी के वैज्ञानिकों ने चेताया है.मैथमैटिकल प्रोजेक्शन में इस बात की तस्दीक की गई है कि तमिलानाडु, पंजाब और असम में कोरोना का पीक अभी बाकी है. यह अंदेशा SUTRA मॉडल के तहत लगाया गया है. SUTRA मॉडल का ही कहना है कि अगले छह से आठ महीने के दौरान कोरोना के मामलों में तीसरी बार उछाल आ सकता है. आईआईटी कानपुj के प्रोफेसर मनिंदर अग्रवाल ने भी आने वाले पीक को लेकर जवाब दिया.

इस गणितीय मॉडल में कहा गया है कि दिल्ली, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, मध्य प्रदेश में कोरोना का चरम बीत चुका है लेकिन तमिलनाडु, पंजाब, हिमाचल प्रदेश और असम में पीक बाकी है. मॉडल में बताया गया है कि तमिलनाडु में 29-31 मई के दौरान कोरोना का पीक आ सकता है.

वहीं, पुडुचेरी में 19 से 20 मई के दौरान कोरोना का पीक आ सकता है. असम में 20-21 मई के दौरान कोरोना के पीक के आने का अनुमान जताया गया है.उत्तरी राज्यों की बात करें तो हिमाचल प्रदेश और पंजाब में कोरोना के मामलों में इजाफा देखा गया है. पंजाब में 22 मई से और हिमाचल में 24 मई से कोरोना का पीक देखा जा सकता है.

प्रोफेसर मनिंदर अग्रवाल ने बताया कि देशभर में कोरोना के आंकड़े मई के अंत तक कम होने लगेंगे.मई के अंत तक भारत में रोजाना 1.5 लाख नए मामले ही सामने आएंगे. जून के अंत तक यह मामले 20 हजार हो जाएंगे. जुलाई के अंत तक कोरोना की दूसरी लहर खत्म हो जाएगी. छह महीने बाद कोरोना की तीसरी लहर आ सकती है जिसके बाद कोरोना के मामलों में इजाफा होने के आसार हैं.

इन राज्यों में बीत चुका है पीक
महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, झारखंड, राजस्थान, केरल, सिक्किम, उत्तराखंड, गुजरात, हरियाणा,दिल्ली और गोवा में कोरोना का पीक बीत चुका है. बात दें कि हाल ही में स्वास्थ्य मंत्रालय की प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान यह कहा गया था कि उत्तर प्रदेश, दिल्ली, बिहार, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में कोरोना के मामलों में लगातार कमी देखी जा रही है.बता दें कि डिपार्टमेंट ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी ने एक वैज्ञानिकों का एक ग्रुप बनाया था जो गणितीय मॉडल के जरिए कोरोना के मामलों को लेकर जानकारियां देता है. इस गठन के बाद ही SUTRA मॉडल अस्तित्व में आया है.

About bheldn

Check Also

अपनापन नहीं… कांग्रेस नेता ने बताया क्यों ओवैसी की ओर जा रहे मुस्लिम

नई दिल्ली कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री के. रहमान खान ने पार्टी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *