ब्लैक फंगस कई राज्यों में महामारी घोषित, महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा केस

नई दिल्ली ,

कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे हिंदुस्तान में अब ब्लैक फंगस भी आ चुका है. राज्यों में ब्लैक फंगस के केस लगातार बढ़ रहे हैं. ये बीमारी धीरे धीरे महामारी का रूप ले रही है. यूपी, गुजरात, झारखंड, राजस्थान, महाराष्ट्र आदि राज्यों की कोरोना के बीच ब्लैक फंगस की दस्तक से मुश्किलें और बढ़ सकती हैं. देश में अबतक इस बीमारी के 7 हजार से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं. इनमें से 200 से ज्यादा मरीज अपनी जान गंवा चुके हैं.

गौरतलब है कि कोरोना के जख्म अभी भरे भी नहीं, लड़ाई जारी है, इसकी तीसरी लहर का खौफ भी है लेकिन ये कोरोना अब अपने साथ ब्लैक फंगस का खतरा लेकर आ चुका है. कोरोना की तरह ये भी अब धीरे धीरे अपने पैर फैला रहा है. इसे हल्के में लेना कोरोना जैसी मुश्लिलें पैदा कर सकता है. यही वजह है कि आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी वाराणसी में स्वास्थकर्मियों से बातचीत में इस बीमारी से सावधान रहने की सलाह दी. कई राज्यों ने तो इसे बाकायदा महामारी घोषित कर दिया है.

यूपी में बढ़ रहा ब्लैक फंगस का खतरा
लखनऊ में ब्लैक फंगस के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं. कोविड -19 को लेकर बैठक में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ब्लैक फ़ंगस को लेकर निर्देश दिए. जिसमें कहा गया है कि पोस्ट कोविड अवस्था में यूपी में ब्लैक फंगस के संक्रमण की समस्या बढ़ रही है. स्वास्थ्य विशेषज्ञों के परामर्श के हिसाब से प्रदेश सरकार सभी मरीजों के समुचित उपचार की व्यवस्था कर रही है. केंद्र सरकार के निर्देशों के बाद कोविड की तर्ज पर ब्लैक फंगस को भी ‘अधिसूचित बीमारी’ घोषित किया गया है.

लखनऊ के किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में अभी तक ब्लैक फंगस के 96 रोगी भर्ती हुए हैं. 23 रोगी तो पिछले 24 घंटे में ही भर्ती हुए हैं. कई मरीजों की इससे जान जा चुकी है. उधर, गौतमबुद्ध नगर में 21 मरीज़ों में ब्लैक फंगस की पुष्टि हुई है. यहां भी लगातार ब्लैक फंगस के मरीजों का आंकड़ा बढ़ रहा है. बाराबंकी जिले में पहला ब्लैक फंगस का मरीज सामने आया है. जांच में एक रिटायर्ड प्रिंसिपल के पेट में ब्लैक फंगस पाया गया है. ऐसे में कोरोना के बाद जिले में बलैक फंगस बीमारी के बढ़ने की आशंका बढ़ गई.

दिल्ली में ब्लैक फंगस चिंता का सबब
दिल्ली सरकार भी ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों को लेकर चिंता जता चुकी है. सीएम केजरीवाल पहले ही साफ कर चुके हैं कि अगर दिल्ली में हालात बिगड़े तो ब्लैक फंगस को महामारी घोषित कर दिया जाएगा. दिल्ली में ब्लैक फंगस को लेकर अलग से अस्पतालों में व्यवस्था की जा रही है. यहां करीब 200 ब्लैक फंगस के केस सामने आ चुके हैं. गौरतलब है कि यूपी, गुजरात, राजस्थान, पंजाब, तेलंगाना, तमिलनाडु, चंडीगढ़ में ये बीमारी महामारी घोषित हो चुकी है.

सबसे ज्यादा ब्लैक फंगस के मामले महाराष्ट्र में
आपको बता दें कि देश में जानलेवा ब्लैक फंगस का संकट गहरा रहा है. अबतक इस बीमारी के 7 हजार से ज्यादा केस सामने आ चुके हैं. इनमें से 200 से ज्यादा मरीज अपनी जान गंवा चुके हैं.

सबसे ज्यादा ब्लैक फंगस के मामले महाराष्ट्र में आए हैं. इतनी संख्या में फंगस इन्फेक्शन पहले कभी नहीं देखा गया था, जितना कोरोना की दूसरी लहर के दौरान अभी देखा गया है. इस बीमारी के चपेट में आने से आंखों की रोशनी के साथ साथ जबड़ा भी खोना पड़ सकता है. मरीज की जान भी जा सकती है.

उधर, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से महामारी रोग अधिनियम, 1897 के तहत ब्लैक फंगस को महामारी घोषित करने का आग्रह कर चुका है. इसमें कहा गया है कि ब्लैक फंगस को नोटिफाइड डिजीज श्रेणी में डाला जाए. ये कोरोना मरीजों की मौत की वजह बन रहा है.

अहमदाबाद से चौंकाने वाला ब्लैक फंगस का केस
इस बीच अहमदाबाद से चौंकाने वाला ब्लैक फंगस का केस आया है. जहां 13 साल के बच्चे को ब्लैक फंगस हुआ है. ये पहला मामला है जब इतनी कम उम्र का बच्चा इस बीमारी की चपेट में आया है. ब्लैक फंगस के बाद अहमदाबाद की चांदखेडा के अस्पताल में बच्चे का ऑपरेशन किया गया. बच्चा इससे पहले कोरोना संक्रमित हुआ था, इस बच्चे की मां का कोरोना से निधन हो चुका है.

जमशेदपुर में ब्लैक फंगस
झारखंड के जमशेदपुर में ब्लैक फंगस का हमला काफी तेज हो चुका है. जमशेदपुर के टी एमएच अस्पताल में 3 लोगों की मौत हो चुकी है. अस्पताल की ओर से बताया गया कि ब्लैक फंगस के 7 मरीज आये थे, जिसमें से एक मरीज ने खुद से छुट्टी ली थी, जिसमें से 6 लोगों का इलाज चल रहा है. इसमें से 3 लोगों की मौत हो चुकी है.

एम्स ऋषिकेश में भी ब्लैक फंगस के केस
शुक्रवार शाम 6 बजे तक एम्स ऋषिकेश में ब्लैक फंगस के कुल 61 मरीज आ चुके हैं. जिनमें से तीन लोगों की मौत पहले ही हो चुकी है और एक मरीज को इलाज के बाद डिस्चार्ज किया जा चुका है. शुक्रवार को इलाज के दौरान एक अन्य रोगी मेरठ निवासी 64 वर्षीय शख्स की मौत हो गई. अब एम्स में ब्लैक फंगस के 56 रोगी भर्ती हैं. 4 मरीजों की मौत हो चुकी है.

जम्मू-कश्मीर में ‘ब्लैक फंगस’ से हुई पहली मौत
ब्लैक फंगस से संक्रमित एक 40 वर्षीय मरीज जो हाल ही में कोरोना से ठीक हुआ था, ने जम्मू के अस्पताल में ब्लैक फंगस से दम तोड़ दिया. यह जम्मू-कश्मीर में ब्लैक फंगस से मौत का पहला केस है. मृतक पिछले दो दिनों से डॉक्टर्स की निगरानी में था और बाद में आज दोपहर में उसने दम तोड़ दिया.

About bheldn

Check Also

Omicron वैरिएंट भारत तक पहुंचा, पहली बार कर्नाटक में 2 लोग पॉजिटिव मिले

नई दिल्ली, सरकार की लाख कोशिशों के बावजूद भी देश में कोरोना वायरस के नए …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *