मोदी-लालू फैमिली पर साथ निशाना, जीतनराम मांझी के मन में क्या है?

नई दिल्ली,

बिहार में नीतीश कुमार की अगुवाई वाली एनडीए सरकार के सहयोगी हिंदुस्तान अवाम मोर्चा के मुखिया व पूर्व मुख्यमंत्री जीतनराम मांझी ने बिना नाम लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला है. वहीं, दूसरी ओर जीतनराम मांझी की बहू दीपा संतोष मांझी ने ठेठ अंदाज में आरजेडी प्रमुख लालू प्रसाद यादव के परिवार के खिलाफ ट्विटर पर मोर्चा खोल रखा है. दीपा मांझी और लालू की बेटी रोहिणी आचार्य के बीच ट्विटर वॉर छिड़ गई है. ऐसे में सवाल उठ रहा है कि नीतीश की पिच पर उतरकर पीएम मोदी और लालू यादव परिवार के खिलाफ बैटिंग कर रहे जीतनराम मांझी के मन में आखिर क्या है?

जीतनराम मांझी ने सोमवार को ट्वीट कर कहा, ‘वैक्सीन के सर्टिफिकेट पर यदि तस्वीर लगाने का इतना ही शौक है तो कोरोना से हो रही मृत्यु के डेथ सर्टिफिकेट पर भी तस्वीर लगाई जाए. यही न्याय संगत होगा.’ जीतन राम मांझी ने रविवार (23 मई) को कोरोना वैक्सीन की दूसरी डोज लगवाई थी. उस दौरान उन्होंने कोरोना टीकाकरण के प्रमाण पत्र पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर होने पर आपत्ति जताई थी.

मांझी ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘कोवैक्सीन की दूसरी डोज के उपरांत मुझे प्रमाणपत्र दिया गया, जिसमें प्रधानमंत्री की तस्वीर लगी है. देश में संवैधानिक संस्थाओं के सर्वेसर्वा राष्ट्रपति हैं. इस नाते उसमें राष्ट्रपति की तस्वीर होनी चाहिए. वैसे तस्वीर ही लगानी है तो राष्ट्रपति के अलावा पीएम और स्थानीय सीएम की भी तस्वीर हो.’

जीतनराम मांझी की ओर से पीएम के साथ सीएम की तस्वीर लगाने की वकालत के बाद माना जा रहा है कि वो नीतीश की पिच से खेल रहे हैं. हालांकि, मांझी भले ही एनडीए का हिस्सा हों, लेकिन वो नीतीश कुमार के जरिए गठबंधन में शामिल हुए हैं और जेडीयू कोटे से ही उन्हें सीटें और उनके बेटे को मंत्री पद दिया गया है. ऐसे में मांझी लगातार नीतीश के बचाव में खड़े नजर आते हैं तो बीजेपी को आंख दिखाते नजर आते हैं.

लॉकडाउन पर भी जताई थी नाराजगी
दरअसल बिहार में लॉकडाउन लगाने पर भी मांझी ने अपनी नाराजगी जाहिर की थी. उन्होंने कहा था कि लॉकडाउन लगाने से पहले राज्य सरकार को गरीबों के लिए मुफ्त राशन और खाने-पीने की व्यवस्था करनी चाहिए. इसके अलावा उन्होंने सीएम नीतीश कुमार से बेरोजगार युवाओं को नौकरी मिलने तक पांच हजार रुपये बेरोजगारी भत्ता देने की मांग भी उठाई थी. इसके अलावा जनअधिकार पार्टी के मुखिया पप्पू यादव की गिरफ्तारी को लेकर भी जीतन राम मांझी ने खुलकर विरोध जताया था.

मांझी की बहू का लालू परिवार पर हमलावर
वहीं, लालू प्रसाद यादव की बेटी रोहिणी आचार्य ने नीतीश कुमार से लेकर सुशील मोदी और पीएम नरेंद्र मोदी पर हमलावर हैं तो जीतनराम मांझी की बहू दीपा मांझी ने लालू परिवार पर निशाना साधना शुरू कर दिया. ऐसे में रोहिणी और दीपा मांझी के बीच ठेट अंदाज में ट्विटर वॉर छिड़ गई है. दीपा ने सोमवार को ट्वीट कर लिखा, हम तो मुसहर हैईयें हैं, लेकिन मुसहरिन टाईप ई सिंगापुरिया काहे लड़ रही है. करोड़ों के फार्म हाउस में रहकर गरीबी पर लेक्चर देना कोई इनके से सीखे.

रोहिणी बनाम दीपा मांझी की ट्विटर जंग
रोहिणी ने 21 मई को ट्वीट करते हुए लिखा था, ’15 वर्षों से सत्ता में बैठकर. क्या मक्खी मार रहे थे ? एक भी लिक्विड ऑक्सीजन प्लांट नहीं लगा सके! क्या समुद्र को भी? बिहार लाने का इरादा था! या बिहार को ही प्रवासी मजदूरों की तरह समुद्र के किनारे भेजने का इरादा था. जवाब दो कुर्सी कुमार नहीं तो कुर्सी छोड़ दो.’

रोहिणी आचार्य के इस ट्वीट का जवाब देते हुए दीपा मांझी ने लिखा, ’15 साल में तहार अम्मा-पप्पा कौ गो प्लांट लगईलन है हो सिंगापुरिया जाली डाक्टर? चोरी-डकैती करके डाक्टर बनलू आउर दूसर के ज्ञान सिखा रहल बाडू, ठीक से रहा ना तो ठीक हो जईबू, ई बिहार हा बुझाईल.’

रोहिणी आचार्य ने ट्वीट करते हुए लिखा, ‘सिस्टम के साझीदार ने, एक मां की इज्जत लूटी है! बिटिया इंसाफ मांग रही है. जनमत चोरों की सरकार से ! मोनी बाबा बना हुआ है! धृष्तराष्ट बनकर बैठा हुआ है ! इंसाफ दो कुर्सी कुमार नहीं तो कुर्सी छोड़ दो !’ तो जवाब देते हुए दीपा मांझी ने लिखा, ‘बिहार में एक और बेटी इंसाफ़ मांग रही है जिसकी जिंदगी लालू परिवार ने बर्बाद कर दी, क्या गलती थी ऐश्वर्या की जो तुम सब ने मिलकर उसे जलील किया, मारा-पीटा? जब अपने घर शीशे के बने हों तो दूसरों के घर पर पत्थर नहीं मारा करते.’

दरअसल, रोहिणी आचार्य हाल के दिनों में नीतीश सरकार को लेकर लगातार हमलावर हैं. वो एक के बाद एक ट्वीट करके बिहार सरकार पर सवाल खड़े कर रही हैं. ऐसे में दीपा मांझी ने नीतीश सरकार की ओर से मोर्चा संभाल रखा है और एक के बाद एक करारा हमला कर रही हैं. जीतनराम मांझी सीएम नीतीश की ओर से बीजेपी पर निशाना साध रहे हैं तो बहू दीपा मांझी नीतीश सरकार की ढाल बनकर लालू परिवार से दो-दो हाथ कर रही हैं. ऐसे में सवाल उठ रहा है कि मांझी के मन में आखिर क्या है?

About bheldn

Check Also

प्रयागराज हत्याकांडः मां और नाबालिग बेटी दोनों की हत्या से पहले रेप

प्रयागराज प्रयागराज के फाफामऊ में दलित परिवार के चार लोगों की हत्या से पहले किस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *