कोरोना वायरस की आ रही सिंगल डोज वैक्सीन, भारत में मॉडर्ना का पूरा प्लान समझिए

नई दिल्ली

मॉडर्ना को कोरोना की अपनी सिंगल डोज वैक्सीन के अगले साल भारत में लॉन्च हो जाने की उम्मीद है। मॉडर्ना इसके लिए सिप्ला (Cipla) सहित कई भारतीय कंपनियों से बातचीत कर रही है। फाइजर (Pfizer) भी भारत में 2021 में 5 करोड़ डोज सप्लाई करने के लिए तैयार है। लेकिन इसके लिए वह नियमों में थोड़ी रियायत चाहती है। मॉडर्ना और फाइजर अमेरिकी फार्मा कंपनियां हैं।

मॉडर्ना की वैक्सीन 12 के बच्चों पर भी असरदार! कोरोना के तीसरी लहर के खौफ के बीच अच्छी खबर

मॉडर्ना (Moderna) ने भारत में अधिकारियों को स्पष्ट कर दिया है कि उसके पास 2021 में भारत को देने के लिए अतिरिक्त वैक्सीन नहीं है। उधर, जॉनसन एंड जॉनसन (jhonson and jhonson) के दूसरे देशों को वैक्सीन निर्यात करने की फिलहाल कम उम्मीद है। जॉनसन एंड जॉनसन भी अमेरिकी कंपनी है।

पिछले हफ्ते दुनिया और देश में वैक्सीन की उपलब्धता को लेकर कैबिनेट सेक्रेटरी (Cabinet secretary) की अगुवाई में दो दौर की उच्च-स्तरीय बैठक हुई थी। इसमें इस बात पर चर्चा हुई कि देश जब कोरोना की दूसरी लहर (second wave of corona) का सामना कर रहा है, तब जल्द वैक्सीन की उपलब्धता बढ़ाने की जरूरत है। अभी देश में वैक्सीन की मांग उसकी सप्लाई के मुकाबले बहुत ज्यादा है।

अभी भारत में देश में बनी दो वैक्सीन-कोविशील्ड (covishield) और कोवैक्सीन (covaccine) लोगों को लगाई जा रही है। इस साल जनवरी के मध्य में देश में टीकाकरण अभियान शुरू हुआ था. तब से करीब 20 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। इस महीने से देश में रूस में बनी स्पुतनिक वी भी लगाई जा रही है। हालांकि, इसकी उपलब्धता कम होने से इसका सीमित इस्तेमाल हो रहा है।

पिछले हफ्ते कैबिनेट सेक्रेटरी की अध्यक्षता में हुई उच्च-स्तरीय बैठक में विदेश मंत्रालय, नीति आयोग, बायोटेक्नोलॉजी विभाग, विधि मंत्रालय और स्वास्थ्य मंत्रालय के अधिकारी मौजूद थे। इस बैठक में इस बात पर भी चर्चा हुई कि मॉडर्ना के पास 2021 में भारत को सप्लाई करने के लिए अतिरिक्त वैक्सीन नहीं है। इस बात पर भी चर्चा हुई कि मॉडर्ना ने भारत में अपनी सिंगल डोज वाली वैक्सीन लॉन्च करने की योजना बनाई है। लेकिन, यह 2022 में ही लॉन्च हो पाएगी।

 

About bheldn

Check Also

चुनाव जीतने को फ्री-फ्री के ऑफर्स और निकल जाती है इकॉनमी की चीख, ऐसे नेताओं का क्या करें?

नई दिल्ली भारत में जब भी चुनाव जीतने की बात आती है, राजनीतिक दल इकनोमी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *