सागर हत्याकांडः क्या सुशील ने फ्लैट पर किया था कब्जा, जांच में खुलेगा राज़

नई दिल्ली,

रेसलर सुशील कुमार जिस फ्लैट की वजह से इस पूरे मामले में फंस गए, उस फ्लैट की कीमत करीब 3 करोड़ रुपये बताई जा रही है. अब अगर ये फ्लैट सुशील कुमार ने जबरन कब्ज़ाया है तो ज़ाहिर है, पुलिस की जांच में ये बात सामने आ जाएगी. क्योंकि फ्लैट के असली कागजात अगर सुशील की पत्नी के नाम पर नहीं है, तो फिर असली मालिक और उस मालिक के ज़रिए फ्लैट कब्जाने की सारी कहानी सामने होगी.

लेकिन इस कहानी से एक और चीज भी साफ हो जाती है और वो ये कि सागर धनखड़ भी अपने गुरु सुशील कुमार की तरह अखाड़े से बाहर निकल कर शायद गलत रास्ते पर चल पड़ा था. दिल्ली के गैंगस्टर के साथ उसका भी उठना-बैठना था. सोनू महाल का उसके फ्लैट में आना इस बात का सबूत है. सूत्रों का ये भी कहना है कि गुरुग्राम पुलिस ने ये अंदेशा जताया है कि सागर धनखड़ की मौत और सोनू महाल की पिटाई के बाद दिल्ली में काला जठेड़ी और नीरज बवाना गैंग के बीच कभी भी गैंगवार शुरू हो सकता है.

दिल्ली पुलिस सूत्रों के मुताबिक उनके पास इस बात के पुख्ता सबूत हैं कि सागर धनखड़ की हत्या के पीछे गैंगवार ही है. इतना ही नहीं दिल्ली के अलग-अलग गैंगस्टर के साथ सुशील कुमार की नज़दीकियों के भी उनके पास पुख्ता सबूत हैं. यानी जो कहानी एक मारपीट से शुरू हुई, जिसमें एक क़त्ल हुआ. वो अब एक ओलंपियन गैंगस्टर बनने और गैंगस्टर के साथ दोस्ती पर जाकर ख़त्म होनेवाली है.

ओलिंपियन रेसलर सुशील कुमार ने शायद ही कभी सोचा होगा कि वो अपनी ज़िंदगी का 38वां बर्थ डे यूं हवालात में बंद होकर मनाएंगे. जहां केक और फूलों के हार नहीं, बल्कि पुलिसवालों की लानत और सख्त सवाल उनका स्वागत कर रहे होंगे. लेकिन सुशील की एक गलती ने अब उन्हें उस मुकाम तक पहुंचा दिया, जहां उसका लौट कर वापस सामान्य ज़िंदगी में आना नामुमकिन नहीं तो मुश्किल जरूर है.

छह दिनों के पुलिस रिमांड में क्राइम ब्रांच के एक से बढ़ कर एक धाकड़ पुलिस अफ़सर सुशील कुमार और उसके साथ गिरफ्तार उसके साथी अजय बक्करवाला से लगातार पूछताछ कर रही है. लेकिन खबर यही है कि सुशील पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहे हैं. सुशील ने बार-बार वही रट लगाना शुरू कर दिया है कि उसने इरादतन अपने जूनियर सागर धनखड़ की जान नहीं ली, बल्कि वो तो सिर्फ़ उसे और उसके साथियों को डराना चाहता था. हालांकि सुशील को तब सांप सूंघ गया, जब पूछताछ के दौरान पुलिस ने सुशील को उसी का शूट करवाया गया, वो वीडियो दिखाया जिसमें सुशील कुमार हॉकी स्टिक लेकर सागर धनखड़ को पीटते दिखाई दे रहे हैं. एक फुटेज में सागर सुशील की पिटाई से ज़मीन पर लहूलुहान पड़ा है और सुशील वहीं स्टिक लेकर खड़े हैं.

पुलिस ने इस सिलसिले में अब तक सुशील और उनके साथी अजय बक्करवाला समेत कुल सात लोगों को गिरफ्तार किया है. गिरफ्त में आए चार आरोपी गैंगस्टर काला असौधा और नीरज बवानिया के लिए काम करते हैं. हालांकि उस रात स्टेडियम में इतने गुंडे गैंगस्टरों के मौजूद होने और उनके लगातार गैंगस्टरों के संपर्क में होने के संबंध में पूछे जा रहे तमाम सवालों को सुशील गोल-गोल घुमा रहे हैं. सीधा और साफ जवाब नहीं दे रहे. ऐसे में पुलिस के सामने एक रास्ता मुल्ज़िमों को आमने-सामने बिठा कर पूछताछ करने की भी है, ताकि झूठ सच का पता लगाया जा सके.

पुलिस यह भी पता लगा रही है कि 18 दिनों तक फरार सुशील इस दौरान किन लोगों के साथ था. कितने अलग अलग तरीके के सिम का इस्तेमाल किया. इस पूरे मामले में सुशील की मदद करने वालों से सवाल जवाब किए जाएंगे. वहीं खबरों की माने तो पुलिस सुशील को हरिद्वार भी ले जा सकती हैं. जहां सुशील के छिपे होने की खबर थी. दिल्ली पुलिस मामले की जांच के लिए जेल में बंद लॉरेंस विश्नोई और संपत नेहरा जैसे कुछ बदमाशों को कोर्ट की इजाजत के बाद प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आई है. इनसे सागर हत्याकांड के साथ-साथ सुशील के दूसरे गैंगस्टर खास कर नीरज बवाना और काला जठेड़ी से रिश्तों को लेकर पूछताछ की जानी है.

गिरफ्तार सुशील ने अब खुल कर गैंगस्टर काला जठेड़ी से अपनी धमकी की बात कही है. सुशील ने पूछताछ में कहा है कि सागर की मौत और सोनू महाल की पिटाई की बाद अब काला उसे धमका रहा है. पुलिस फिलहाल जिस लारेंस विश्नोई को पूछताछ के लिए लेकर आई है, वो भी काला जठेड़ी का ही खास गुर्गा बताया जाता है. ये वही गैंगस्टर है, जिसने एक्टर सलमान खान के नाम की सुपारी दी थी. बहरहाल, अब इस वारदात ने दिल्ली एनसीआर में पहलवानों और गैंगस्टरों के बीच पनपते नेक्सस को उजागर कर दिया है और हालात देख कर लगता है, मानों इस हमाम में सारे नंगे हैं.

About bheldn

Check Also

कानपुर टेस्ट: चौथे दिन का खेल खत्म, मजबूत स्थिति में टीम इंडिया, जीत से 9 विकेट दूर

कानपुर भारतीय टीम ने कानपुर टेस्ट के चौथे दिन दूसरी पारी 7 विकेट के नुकसान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *