UP में करीब दो महीने बाद 3 हजार से कम केस, मरने वालों का आंकड़ा 20 हजार पार

लखनऊ

उत्तर प्रदेश में कोरोना के नए मामलों में लगातार कमी आती जा रही है। शुक्रवार को कोरोना के 2,402 नए मरीज सामने आए। इस तरह 55 दिनों बाद कोरोना के मामले तीन हजार के आंकड़े से नीचे आए हैं। शुक्रवार से पहले 2 अप्रैल को यूपी में 2953 मामले दर्ज किए गए थे। शुक्रवार को कोरोना से 159 और मरीजों की मौत होने के बाद इस बीमारी से जान गंवाने वालों की संख्या 20 हजार से अधिक हो गई है। 2,402 नए मामलों के साथ कुल संक्रमितों की संख्या 16,86,138 तक पहुंच गई है।

अपर मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) अमित मोहन प्रसाद ने शुक्रवार को बताया कि पिछले 24 घंटों में प्रदेश में कोविड-19 के 2,402 नए मामले सामने आए जबकि 8,145 मरीज बीमारी से उबर गए। उन्होंने बताया कि राज्य में कुल 16,13,841 कोरोना संक्रमित अब तक संक्रमण से मुक्त हो चुके हैं।

सक्रिय मामले 52,244
प्रसाद के अनुसार कोविड-19 से कुल 159 और मरीजों की मौत के बाद अब तक मरने वाले संक्रमितों की संख्या 20,053 हो गई। प्रसाद ने कहा कि राज्य में ठीक होने की दर अब 95.7 प्रतिशत है जबकि 30 अप्रैल से सक्रिय मामलों की संख्या में 83 प्रतिशत की कमी आई है। उन्होंने बताया कि राज्य में कोविड-19 के सक्रिय मामले 52,244 हैं जिनमें 38,055 मरीज घर पर आइसोलनेशन में हैं।

कुल 4.84 करोड़ टेस्‍ट
प्रसाद ने दावा किया कि पिछले 24 घंटों में राज्य में कोरोना के 3.58 लाख से अधिक नमूनों का परीक्षण किया गया, जबकि अब तक कुल 4.84 करोड़ से अधिक नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है। प्रसाद ने कहा कि राज्य में अब तक कोविड-19 टीकों की 1.73 करोड़ से अधिक खुराक दी जा चुकी हैं जिनमें 1.39 करोड़ लाभार्थियों ने पहली खुराक ली है और 34 लाख लोगों ने दोनों खुराक ली हैं।

महोबा, कासगंज में एक भी नया केस नहीं
शुक्रवार को जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार पिछले 24 घंटे में लखनऊ में 172, सहारनपुर में 154, मेरठ में 121 और गोरखपुर में 116 नए संक्रमित पाए गए बाकी सभी जिलों में नए मिलने वाले संक्रमितों की संख्या 100 से कम हो गई है। महोबा, कासगंज जिलों में एक भी नए संक्रमित नहीं मिले हैं। पिछले 24 घंटे में आगरा में 12, मेरठ में 10, लखनऊ व झांसी में 9-9 तथा गोरखपुर, कुशीनगर व एटा में आठ-आठ कोरोना मरीजों की मौत हो गई।

About bheldn

Check Also

कार में रखी पानी की बोतल बनी मौत की वजह, इंजीनियर की गई जान

ग्रेटर नोएडा, एक छोटी सी गलती भी कभी कभी इंसान की जान पर भारी पड़ती …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *