आगरा : ऑक्सिजन की मॉक ड्रिल, 5 मिनट में 22 कोरोना मरीजों की मौत! डॉक्टर ने कबूली करतूत

आगरा

यूपी के आगरा जिले में कोरोना महामारी को लेकर दिल दहलाने वाली बात सामने आई है। जिले के एक बड़े अस्पताल पारस हॉस्पिटल पर 22 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत के आरोप लग रहे हैं। दरअसल अस्पताल के कातिल डॉक्टर ने मरीजों का लोड कम करने के लिए उनका मेडिकल मर्डर करना शुरू कर दिया। इसमें वह गंभीर मरीजों की ऑक्सिजन पांच मिनट के लिए बंद कर देता था। ऐसा करने से अस्पताल में 22 मरीजों की मौत हो गई थी। पूरे मामले का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें डॉक्टर खुद अपनी घिनौनी करतूत को कबूल करता दिख रहा है।

आगरा स्थित पारस हॉस्पिटल के डॉक्टर आरिंजय जैन के अस्पताल में 26 अप्रैल तक 96 मरीज भर्ती थे। अस्पताल में मरीजों की बढ़ती संख्या से डॉक्टर बेचैन थे। ऑक्सिजन की व्यवस्था नहीं होने पर डॉक्टर ने 26 अप्रैल की सुबह सात बजे अपने अस्पताल में पांच मिनट का ऑक्सिजन मॉकड्रिल कर दिया। ऐसे में गंभीर हालत वाले 22 मरीजों की मौत हो गई।

बॉस ने कहा था डिस्चार्ज करो
वायरल वीडियो में डॉक्टर कह रहा है कि 25 और 26 अप्रैल को आगरा में हालात बेकाबू थे। अपने बॉस से बात की। उन्होंने कहा कि मरीजों को डिस्चार्ज शुरू करो। ऑक्सिजन कही नहीं है, तब मैंने कई मरीजों से जाने के लिए कहा, लेकिन चार या पांच लोग ही माने बाकी तो पेंडुलम बने रहे, नहीं जाएंगे-नहीं जाएंगे। जब नहीं माने तो बॉस की बात मान ली और ऑक्सिजन बंद कर दी। मॉकड्रिल करने की सोचा, जिसमें पता चल जाएगा कि कौन मरेगा या नहीं मरेगा। मॉकड्रिल करते ही मरीज छटपटा गए और शरीर नीला पड़ने लगा। जब ऑक्सिजन रोकी तो 22 मरीज दम तोड़ चुके थे।

क्या कहता है डॉक्टर
डॉक्टर आरिंजय जैन का कहना है कि उसका वीडियो तोड़ मरोड़कर पेश किया है। उनके अस्पताल में 26 अप्रैल को चार लोगों की मौत हुई है और 27 अप्रैल को तीन लोगों की मौत हो गई। हालांकि जब डॉक्टर से सस्पेक्ट मरीजों के बारे में पूछा गया तो वे चुप्पी साथ गए। इसका मतलब वे आंकड़ों को छिपा रहे हैं।

About bheldn

Check Also

BJP का डर? कोलकाता निगम चुनाव में TMC ने 6 विधायकों और एक MP को उतारा

कोलकाता पश्चिम बंगाल में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच इस साल दूसरी बार बड़ी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *