मोदी-शाह का तोड़ कोई है तो गांधी परिवार ही है, इसीलिए बदनाम करना चाहती है भाजपा

नई दिल्ली

कांग्रेस के आचार्य प्रमोद कृष्णन ने टीवी डिबेट में कहा कि नरेंद्र मोदी और अणित शाह का तोड़ कोई है तो गांधी परिवार ही है, इसीलिए भाजपा बदनाम करना चाहती है। दरअसल. आचार्य ने ये बात बीजेपी की तरफ से डिबेट में आए शहज़ाद पूनावाला की उस बात पर कही जिसमें गांधी परिवार पर निशाना साधा गया था।

आचार्य ने कहा कि पूनावाला का निशाना गांधी परिवार ही है। उनका कहना था कि वो ऐसा क्यों कह रहे हैं ये चीज आप भी जानते हैं और हम भी। उन्होंने कहा कि नरसिंह राव, बाबू जगजीवन राम, नीलम संजीव रेड्डी, सीताराम केसरी क्या गांधी परिवार के थे। ये सारे नेता पार्टी के अध्यक्ष रहे। उनका कहना था कि बीजेपी गांधी परिवार को बदनाम करे तो समझ में आता है पर पूनावाला कर रहे हैं, ये बात अखऱती है। उनका कहना था कि सारे आरोप राजनीति से प्रेरित हैं।

आचार्य ने कहा कि बीजेपी जानती है कि कांग्रेस में शक्ति का आधार है तो गांधी परिवार ही है। वो समझ रहे हैं कि उन्हें देश में अगर कोई टक्कर दे सकता है तो वो सोनिया और उनका परिवार ही है। इसी वजह से ये लोग सोनिया, राहुल और प्रियंका को बदनाम कर रहे हैं।

एंकर के एक सवाल पर उन्होंने कहा कि बीजेपी वाले निशाना साधें तो समझ में आता है लेकिन आप ऐसा क्यों कर रहे हैं। एंकर का जवाब था कि आपका सवाल उनके लिए कांप्लीमेंट है। क्योकि पत्रकार वो ही अच्छा होता है जिसके सवाल चुभते हुए तीर की तरह से लगें।

आचार्य का जवाब था कि उन पर हमला करने के लिए बहुत से लोग हैं। आप ऐसा क्यों कर रहे हैं। कांग्रेस नेता ने एंकर से कहा कि बीजेपी के तीर जहर में बुझे होते हैं पर आपके साथ ये बात नहीं है पर आपके तीर भी चुभते तो हैं ही। उनका कहना था कि पैनलिस्ट सुहैल सेठ ने गांधी परिवार को सत्ता भोगी कहा, लेकिन उनसे सत्ता छिनी भी तो। नीतियां गलत थीं तो ही तो कांग्रेस सरकार को जाना पड़ा।

उनका कहना था कि बीजेपी के पास 2014 से लेकर आज तक सत्ता है। लेकिन एक बात तय है कि जब भी मोदी सरकार जाएगी तो ये परिवार ही उसका कारक बनेगा। इस परिवार का ही माद्दा है जो मोदी को सत्ता के शीर्ष पायदान से बेदखल कर सके।

About bheldn

Check Also

‘कांग्रेस-मुक्त भारत’ अभियान में बीजेपी की हमराह बनती क्यों दिख रही हैं ममता

नई दिल्ली पहले अलग-अलग राज्यों में कांग्रेस के असंतुष्ट नेताओं को टीएमसी में शामिल कराना …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *