मदरसा विस्फोट पर बिहार में सियासी ‘बमबार्डिंग’, पार्टियां बरसा रहीं ‘गोले’, BJP की नजर ‘दूर’ तक

पटना

बिहार के बांका में विस्फोट की वजह से मदरसा गिर गया। शुरुआती जांच में बम की पुष्टि हुई है। जांच चल रही है। अब बिहार में सियासी ‘बमबार्डिंग’ हो रही है। सबसे ज्यादा गोले सत्ताधारी पार्टियां एक-दूसरे पर बरसा रहीं हैं। माना जा रहा है कि बीजेपी की नजर ‘दूर’ तक है।

बिहार बीजेपी अध्यक्ष ने की थी शुरुआत
बिहार बीजेपी अध्यक्ष ने 6 जून को लंबा-चौड़ा पोस्ट लिखरकर सीधे-सीधे नीतीश कुमार को टारगेट किया था। संजय जायसवाल का सीधा आरोप था कि नीतीश राज में दलितों पर अल्पसंख्यक समुदाय जुल्म ढा रहा रहा। ज्यादातर जगहों पर पुलिस-प्रशासन दोनों समुदाय के लोगों को या फिर निर्दोषों को जेल भेज दे रहा है। जायसवाल ने अपनी बातों को सही साबित करने के लिए कई उदाहरण भी दिए थे। संजय जायसवाल के बयान के बाद बिहार के सियासत में बवंडर मचा था।

संजय जायसवाल ने जिस तूफान को उठाया था अब तक वो थमा भी नहीं था कि बांका में विस्फोट से मदरसा धाराशायी हो गया। मौलवी की मौत हो गई और चार घायलों का अब तक कुछ आता-पता नहीं चल पाया है। पुलिस सिर्फ पड़ताल कर रही है। कुछ खास नहीं बता रही है। मगर सियासत को सबकुछ पता है। राजनेताओं को पता है कि मदरसे में क्या हो रहा था और वहां क्या साजिश रची जा रही थी?

बांका के बहाने टारगेट पर कोई और?
बांका से पौन तीन सौ किलोमीटर दूर मधुबनी के बिस्फी से बीजेपी विधायक हरिभूषण ठाकुर बचौल ने कहा कि इन जगहों (मदरसों) पर सिर्फ आतंकवाद की शिक्षा दी जाती है। जिस तरह से बांका के मदरसे में ब्लास्ट हुआ है, उससे यह बात साबित होती है। मदरसों में दलित और पिछड़े वर्ग के लोगों को प्रताड़ित करने की शिक्षा दी जाती है।

पथ निर्माण मंत्री और बीजेपी नेता नितिन नवीन ने भी मदरसा की भूमिका पर सवाल खड़ा किया। उन्होंने कहा कि इस मामले की पूरी जांच होनी चाहिए। मदरसा में विस्फोटक क्यों रखा गया था, विस्फोट कैसे हुआ, ये जांच होनी चाहिए। सरकार उच्चस्तरीय जांच कर भी रही है।

बिहार बीजेपी अध्यक्ष संजय जायसवाल ने विधायक हरिभूषण ठाकुर बचौल या फिर किसी दूसरे नेता के बयान पर कोई सफाई नहीं दी। बल्कि कई सुलगते सवाल छोड़ दिए। उन्होंने कहा कि इस घटना को किसी और मुद्दे के साथ जोड़कर नहीं देखा जाना चाहिए। आखिर क्या कारण है कि घटना में हुए घायलों को अस्पताल पहुंचाने के बजाए उन्हें गायब कर दिया गया? इमाम की बॉडी को लाकर फेंक दिया गया।

JDU और HAM की ओर से मोर्चाबंदी
अब भला जेडीयू का खेमा कैसे चुप रहनेवाला था। जदयू विधान पार्षद गलाम रसूल बलियावी ने भाजपा विधायक बचौल के बयान पर कहा कि ऐसे लोगों को पागलखाने भेज देना चाहिए। ऐसे लोग चुनाव के समय क्यों जाते हैं मस्जिद-मदरसों के दरवाजे पर वोट मांगने?

वहीं, राज्य के अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री जमा खान ने भी भाजपा विधायक के बयान पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि पता नहीं भाजपा विधायक ने इस तरह का बयान क्यों दिया। वे मेरे भाई जैसे हैं, उन्हें कहना चाहूंगा कि मस्जिद और मदरसों में भाईचारे को बढ़ावा मिलती है।

जबकि, हम प्रवक्ता दानिश रिजवान को लगता है कि भाजपा के कुछ नेता लगातार अपने बयानबाजी से सरकार को अस्थिर करने की कोशिश कर रहे हैं। सरकार के खिलाफ निरंतर बयानबाजी करके विपक्ष को सरकार के खिलाफ बोलने का मौका दे रहे हैं।

2024 और 2025 के एजेंडे पर काम कर रही BJP?
दरअसल बिहार की मौजूदा सरकार में संख्या बल के लिहाज से बीजेपी, एनडीए में सबसे बड़ी पार्टी है। चुनाव से पहले हुए कमिटमेंट की वजह से कम सीट होने के बावजूद नीतीश कुमार मुख्यमंत्री हैं। लंबे समय से मुख्यमंत्री होने की वजह से एक-एक चीज पर उनकी प्रशासनिक पकड़ भी है। बिहार बीजेपी से जुड़े बड़े नेताओं का मन हमेशा कचोटता रहता है कि उनकी पार्टी से अब तक कोई सीएम की ओहदा तक नहीं पहुंच पाया।

बिहार का समाज जातीय ताना-बाना में इतना उलझा है कि बीजेपी के लिए उसे सुलझा पाना मुश्किल है। बीजेपी का मानना है कि सत्ता दिलानेवाले वोट, जातीय दुश्चक्र में फंसा पड़ा है। जिसकी वजह से उसे कामयाबी तो मिल जाती है, मगर सीएम कुर्सी हाथ से छूट जा रही है।

जानकारों का मानना है कि भारतीय जनता पार्टी आगामी लोकसभा चुनाव 2024 और बिहार विधानसभा चुनाव 2025 के एजेंडे पर आगे बढ़ रही है। जिस महादलित वोट बैंक की नीतीश कुमार अपनी सभाओं में दुहाई देते हैं, उसी पर इस बार बीजेपी का दांव है। हालांकि अभी समय है। फिर भी निशाना सही लगा तो जातीय बेड़ियां भी टूट जाएंगी और बीजेपी की लॉटरी भी लग सकती है।

About bheldn

Check Also

नासिक में कोरोना विस्फोट, जिले में एक दिन में मिले 34 नए केस; 3 की मौत

नासिक महाराष्ट्र के नासिक में कोरोना बम फूटा है। ताजा घटनाक्रम के मुताबिक, जिले में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *