देश में कोरोना वैक्सीन की चोरी क्यों बढ़ने लगी है….इन घटनाओं से उठ रहे कई सवाल

नई दिल्ली

कोरोना महामारी के बीच इससे बचाव के लिए कोरोना वैक्सीन ही सबसे प्रभावी बचाव है। ऐसे में एक्सपर्ट जल्द से जल्द अधिक लोगों को वैक्सीन लगवाने की बात कह रहे हैं। इन सब के बीच अब देश के कुछ हिस्सों से कोरोना वैक्सीन चोरी की घटनाएं सामने आ रही हैं। राजस्थान के जयपुर से कोरोना वैक्सीन की चोरी का सबसे पहला मामला सामने आया था।

सरकारी अस्पताल से चोरी हुई वैक्सीन को लेकर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। एक के बाद एक चोरी की घटनाओं को बाद लोगों के मन में यह सवाल उठ रहा है कि कहीं वैक्सीन अवैध रूप से लगाने वाला रैकेट तो सक्रिय नहीं हो गया जो कोरोना वैक्सीन की कालाबाजारी कर रहा हो। वहीं, अस्पताल से वैक्सीन की चोरी की घटनाओं में वहां के कुछ कर्मचारियों की मिलीभगत की भी आशंका जताई जा रही है।

जयपुर अस्पताल से वैक्सीन चोरी, शिकायत हुई थी दर्ज
राजस्थान में कोरोना वैक्सीन की कमी के बाद वैक्सीन चोरी की घटना सामने आई थी। कोरोना वैक्सीन की चोरी का ये देशभर में संभवतः पहला मामला था। 14 अप्रैल को जयपुर के एक सरकारी अस्पताल से कोवैक्सीन की 320 डोज चोरी हो गई। जब सीसीटीवी फुटेज की प्रड़ताल की गई तो जहां से वैक्सीन चोरी हुई वहां का सीसीटीवी कैमरा काम ही नहीं कर रहा था। ऐसे अस्पताल के किसी कर्मचारी की मिलीभगत का भी शक जताया गया था। घटना सामने आने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने अज्ञात चोरों के खिलाफ केस दर्ज कराया था।

जींद में अस्पताल से चोरी हुई थी 1710 डोज
इस साल 22 अप्रैल को हरियाणा के जींद में सिविल अस्पताल से कोरोना वैक्सीन चोरी का मामला सामने आया था। चोर अस्पताल के स्टोर रूम का ताला तोड़ वैक्सीन की 1710 डोज चुरा ले गए। वैक्सीन की डोज चोरी की खबर फैलते ही अस्‍पताल प्रशासन में हड़कंप मच गया। शाम होते- होते एक बाइक सवार सिविल लाइन थाने के सामने चाय की दुकान पर प्‍लास्टिक बैग में वैक्सीन की 622 डोज छोड़कर चला गया। चोर ने इसके साथ एक नोट भी रखा था जिसमें लिखा था- ‘मुझे माफ कर दीजिए। पता नहीं था कि इसमें कोरोना वैक्‍सीन है।’

अलीगढ़ में कचरे में मिली थी भरी हुई सीरिंज
अलीगढ़ के जमालपुर अर्बन पीएचसी में कचरे में कोरोना वैक्सीन से भरी हुई 29 सिरिंज मिलने का मामला सामने आया था। इसके बाद थाना गांधी पार्क इलाके के अर्बन पीएचसी नौरंगाबाद के वैक्सीनेशन सेंटर से कोवैक्सीन गायब होने का मामला सामने आया। यहां से 32 खाली वॉयल कोविड वैक्सीन की गायब हैं। पुलिस ने मामला दर्ज करते हुए जांच शुरू कर दी है।

बेंगलुरू में वैक्सीन चोरी के आरोप में डॉक्टर अरेस्ट
बेंगलुरु में प्राइमरी हेल्थ सेंटर में वैक्सीन चोरी के मामले में पुलिस ने महिला डॉक्टर को अरेस्ट किया था। आरोप था कि डॉक्टर अपनी सहयोगी के साथ मिलकर पीएचसी से वैक्सीन चुरा कर 500-500 रुपये में लोगों को लगा रही था। इसके लिए वह अपनी सहकर्मी के घर का प्रयोग करती थी। यह वैक्सीन मंजूनाथनगर पीएचसी में लोगों को मुफ्त में लगाने के लिए दी गई थीं। पुलिस ने डॉक्टर के पास से कोविशील्ड की 20 वायल्स और 12 हजार रुपये भी जब्त किए थे। पुलिस ने इस मामले में दो अन्य लोगों को भी गिरफ्तार किया गया था।

कोरोना वैक्सीन के चक्कर में चुरा ली बच्चों की वैक्सीन
महाराष्ट्र के उल्हासनगर में चोरो ने कोरोना वैक्सीन के चक्कर में बच्चों की 300 अन्य वैक्सीन चुरा ली। पुलिस ने इस मामले में अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया था। घटना पिछले महीने की है। चोरों ने सबूत मिटाने के लिए सीसीटीवी की डीवीआर और मॉनिटर भी चुरा ले गए। रिपोर्ट के अनुसार चोर बाथरूम की खिड़की के रास्ते पीएचसी में घुसे। इसके बाद स्टोर रूम में टीबी, काली खांसी, टेटनस, पोलिया, रूबेला और रोटावायरस की वैक्सीन चुरा ले गए। चोरों को लगा कि ये कोरोना वायरस की वैक्सीन हैं।

एमपी में कोविशील्ड के 10 हजार डोज गायब,
मध्य प्रदेश में कोविशील्ड वैक्सीन के एक हजार डोज गायब हो गए हैं। जबलपुर के जिस अस्पताल ने सीरम इंस्टीट्यूट से यह डोज खरीदी है, उस नाम का कोई अस्पताल जबलपुर में नहीं है। दो दिन से जबलपुर का स्वास्थ्य विभाग इस अस्पताल के बारे में पता कर रहा है, लेकिन कोई जानकारी नहीं मिल पाई है। इसके बाद से जबलपुर से लेकर भोपाल तक हड़कंप मचा हुआ है।

कोविशील्ड डिस्ट्रीब्यूशन की लिस्ट दो दिन पहले जबलपुर में स्वास्थ्य विभाग को मिली। इसके बाद से मैक्स हेल्थ केयर के बारे में पता लगाने की कोशिशें हो रही हैं। जिला टीकाकरण अधिकारी का कहना है कि वैक्सीनेशन ऐप पर दो दिन पहले उन्हें इसकी जानकारी मिली। उन्होंने सीएमएचओ के माध्यम से अस्पताल का पता लगाया, लेकिन अब तक कोई सूत्र हाथ नहीं लगा है।

एमपी में केवल छह प्राइवेट अस्पतालों ने सीरम इंस्टीट्यूट से सीधे कोविशील्ड खरीदी है। इसमें इंदौर के तीन और जबलपुर, भोपाल और ग्वालियर के एक-एक अस्पताल शामिल हैं। इन छह अस्पतालों को कोनिशील्ड की 43 हजार डोज सीरम इंस्टीट्यूट ने आपूर्ति की है। इसमें से 10 हजार डोज कहां गई, इसका पता नहीं चल पा रहा है।

About bheldn

Check Also

मां के पैर छूए फिर गले लगाया…हरि कुमार ने संभाला नेवी चीफ का पदभार, देखें VIDEO

नई दिल्ली एडमिरल आर. हरि कुमार ने मंगलवार को नौसेना प्रमुख का पदभार संभाल लिया। …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *