कोरोना से जान गंवाने वाले लोगों का फिर से आंकड़ा जुटाए बिहार सरकार, केंद्र का निर्देश

दिल्ली/पटना

कोरोना से मृतकों के आंकड़ों को लेकर केंद्र ने राज्यों को चिट्ठी लिखी है। बिहार और महाराष्ट्र को फिर से जानकारी जुटाने के लिए पत्र भेजा गया है। जिसमें कहा गया है कि अस्पताल में भर्ती किए गए मरीजों का आंकड़ा और मौत की तारीख जिलेवार क्रम में जुटाएं।

मृतकों के बारे में फिर से जानकारी जुटाने के लिए चिट्ठी
बिहार पर कोरोना से जुड़े आंकड़ों में बाजीगरी का आरोप लगा था। अचानक एक दिन (बुधवार) में ही मृतकों का आंकड़ा 5,458 से 9,429 हो गया था। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि जिलों से उनके पास गलत डेटा भेजा गया था। जिसकी वजह से ये गड़बड़ी हुई थी। अब केंद्र सरकार ने बिहार और महाराष्ट्र की तरफ से कोरोना के लेकर जारी किए गए रिवाइज्ड आंकड़ों के संबंध में पत्र लिखा है। केंद ने बिहार से फिर से जानकारी जुटाने के लिए कहा है। महाराष्ट्र ने भी हाल ही में बताया था कि 15 दिन में 7,535 मौतें हुई थी जबकि इससे पहले मौत की संख्या कम बताई गई थी।

बिहार की वजह से टूट गया था मृतकों का वर्ल्ड रिकॉर्ड
बिहार के आंकड़ों की वजह से कोविड-19 महामारी से एक दिन में हुई मौतों का वर्ल्ड रिकॉर्ड टूट गया। बुधवार को 6,148 कोविड मौतों के साथ यह रिकॉर्ड फिर से भारत ने ही बनाया। हैरत की बात है कि कोरोना की दूसरी लहर लगातार कमजोर पड़ रही लेकिन एक दिन में ही मौतों का आंकड़ा ढाई गुना से भी ज्यादा हो गया। ऐसा अचंभा इसलिए हुआ था क्योंकि इन मौतों में अकेले बिहार से 3,951 मौतें गिनाई गई थी, जो देश के कुल आंकड़े का करीब दो-तिहाई थी। केंद्र ने बिहार और अन्य राज्यों से रोजाना के जिलेवार आंकड़े मांगे हैं।

बिहार, महाराष्ट्र और उत्तर प्रदेश से डेटा की डिमांड
केंद्र ने बिहार और महाराष्ट्र को फिर से जानकारी जुटाने के लिए पत्र लिखा है। जिसमें कहा गया है कि अस्पताल में भर्ती किए गए मरीजों का आंकड़ा और मौत की तारीख जिलेवार क्रम में जुटाएं। केंद्र सरकार ने यूपी से भी आंकड़े मांगे हैं। उत्तर प्रदेश से इस बात के आंकड़े मांगे गए हैं कि नदी से निकाले गए शवों में कितनों की मौत कोरोना से हुई थी और कितने मरीजों की मौत कोरोना की वजह से नहीं हुई थी।

About bheldn

Check Also

उद्धव सरकार का बड़ा फैसला, पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह को किया सस्पेंड

नई दिल्ली मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह को महाराष्ट्र सरकार ने गुरुवार को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *