यूपी: नकली व नशीली दवाओं का सिंडीकेट बनता जा रहा आगरा का दवा बाजार

आगरा

नकली और नशीली दवाओं का मंडी बन चुके आगरा में कई ऐसे ड्रग माफिया पनप रहे हैं जो कि पूरा सिंडीकेट चलाते हैं। 19 दिसंबर 2020 की कार्रवाई में पंकज गुप्ता की फर्म पर छापा डाला था तब करीब सात करोड़ नशीली दवाएं और प्रतिबंधित गर्भपात की किट मिली थीं। जांच में सामने आया था कि ये सब राजस्थान और हरियाणा में सप्लाई की जाती थीं। वहीं शुक्रवार को दवा बाजार फुव्वारा में ड्रग विभाग ने छापा मारा, जिसमें 2600 नकली डेका ड्यूरोबोलिन 50 एमजी इंजेक्शन की खरीद की गई थी।

फुव्वारा बाजार में आए दिन पड़ रहे छापे
फुव्वारा बाजार दवाओं की बड़ी मंडियों में शामिल है। पंजाब, दिल्ली, हरियाणा की पुलिस ने कई बार यहां छापेमारी की है। पंजाब पुलिस ने आगरा में दो ड्रग माफियाओं पर कार्रवाई की जिसमें विक्की अरोड़ा और कपिल अरोड़ा को जेल भेजा गया था। एनसीबी (नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो) ने कमला नगर के रहने वाले पंकज गुप्ता ठिकानों से करोड़ों की प्रतिबंधित व नशीली दवाएं जब्त की थीं।

एडीजी की टीम ने पकड़ी थी फैंसीड्रिग की खेप
नौ मार्च को 2021 को मथुरा में एक बड़ी खेप एनसीबी और पुलिस की हाथ लगी थी। जिसकी अगुवाई एडीजी आगरा जोन राजीव कृष्ण ने की थी। पुलिस के खुफिया तंत्र की सक्रियता से 76 लाख की फैंसीड्रिल पकड़ में आयीं थीं। इस बार भी ड्रग ड्राइवर और ट्रांसपोर्ट कर्मचारी पर गाज गिरी। ड्रग निरीक्षक नरेश मोहन दीपक ने बताया था कि आगरा के दो बड़े ड्रग कारोबारी जयपुर हाउस के सैंटी (सरदार) और अमित गोयल का नाम प्रकाश में आया था। कार्रवाई आगे नहीं बढ़ी और दोनों सुरक्षित हो गए।

कर्नाटक से मंगवाई गई दवा
शुक्रवार को ड्रग और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में फुव्वारा दवा बाजार स्थित राजू ड्रग हाउस पर रेड की गई। राजू ड्रग हाउस ने नकली डेका ड्यूरोलोबिन 50 एमजी के चार इंजेक्शन मिले थे। बुकी राहुल कुमार सिंह निवासी नोबस्ता लोहामंडी ने बताया कि उसने कर्नाटक से 2600 बोइल मंगवाई थीं जिन्हें दवा कारोबारियों को बेचा था।

बुकियों को जेल भेज दिया फर्म मालिक छोड़े गए
पूछताछ में पुलिस ने फर्म मालकिन रेखा भगत्यानी और एक अन्य हिमांशु अग्रवाल को हिरासत में लिया। फर्म मालकिन ने कहा था कि उसकी फर्म को रंजीत शर्मा नामक व्यक्ति संभालता है वह दुकान पर भी नहीं जाती है। इसके एवज में रंजीत को 25 हजार रुपये माहवार देती है। ड्रग विभाग ने रंजीत और राहुल को जेल भेज दिया। हिमांशु अग्रवाल और रेख भगत्यानी को पूछताछ के बाद छोड़ दिया।

मालवा ट्रांसपोर्ट पर पकड़ा गया था कप सीरप
एत्मादुद्द्वौला थाना क्षेत्र की मंडी समिति में मालवा ट्रांसपोर्ट कंपनी पर ड्रग निरीक्षक जुनाब अली ने रेड की थी। यहां से उन्हें प्रतिबंधित कप सीरप की खेप बरामद हुई थी।

About bheldn

Check Also

दिल के मरीज का इलाज कर रहे डॉक्टर को आया हार्ट अटैक, दोनों की गई जान

हैदराबाद तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद के एक अस्पताल में हार्ट के मरीज का इलाज करते …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *