2022 में CM चेहरे पर बोले केशव मौर्य- BJP लोकतांत्रिक पार्टी…कोई प्राइवेट कंपनी नहीं

बरेली

उत्तर प्रदेश आगामी विधानसभा चुनाव में बीजेपी का मुख्यमंत्री चेहरा कौन होगा, इस सवाल पर बुधवार को उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि इसका जवाब उनके पास नहीं है। बीजेपी लोकतांत्रिक पार्टी है। एसपी , बीएसपी और कांग्रेस की तरह कोई प्राइवेट लिमिटेड कंपनी नहीं है। संसदीय बोर्ड तय करेगा कि मुख्यमंत्री कौन होगा और चुनाव किसके नेतृत्व में लड़ा जाएगा। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि अभी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हैं और उनके मार्गदर्शन में सरकार चल रही है, कहीं कोई दिक्कत नहीं है।

मुंगेरी लाल के सपने देखने वालों के मंसूबे पूरे नहीं होंगे
केशव प्रसाद मौर्य बुधवार शाम को आगरा का दौरा करने के बाद बरेली पहुंचे थे। यहां सर्किट हाउस में पत्रकारों से बातचीत करते हुए उन्होंने दावा किया कि 2022 में भी 2017 का इतिहास दोहराया जाएगा और बीजेपी 300 से ज्यादा सीट जीतकर उत्तर प्रदेश में सरकार बनाएगी। उन्होंने एसपी, बीएसपी और कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि जो लोग मुंगेरी लाल के हसीन सपने देख रहे हैं, उनके सपने चकनाचूर हो जाएंगे।

अयोध्या पर रामविरोधी कर रहे दुष्प्रचार
अयोध्या में राम जन्म भूमि मंदिर के लिए जमीन के विस्तार को लेकर खड़े हुए विवाद पर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य (keshav prasad maurya) ने कहा कि दो दिनों से राम जन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण करने के लिए खरीदी गई जमीन को लेकर राम विरोधियों की ओर से दुष्प्रचार किया जा रहा। जिस पार्टी ने कारसेवकों पर गोलियां चलवाईं, उसके अध्यक्ष और जिस कांग्रेस ने राम के आस्तित्व पर ही सवाल खड़े किए, उसके और छुटभैया पार्टी के नेता राम मंदिर के नाम पर जनता को गुमराह कर रहे हैं। अफवाह फैलाई जा रही है, लेकिन राम भक्त अपनी जगह पर अडिग हैं।

केशव प्रसाद मौर्य ने गाजियाबाद में चर्चित और आपत्तिजनक वीडियो वायरल होने के मामले में कहा कि इस मामले में साफ हो चुका है कि विरोधी तत्व बीजेपी सरकार को बदनाम करने के साथ-साथ समाज में जहर घोलने का काम कर रहे हैं। इस मामले को बेहद गंभीरता से लेकर मुकदमा दर्ज कर लिया गया है।

बरेली में विधायक के नाम पर घोषित की सड़क
उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने बरेली में करीब 800 करोड़ की विभिन्न निर्माण परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि बरेली में जनप्रतिनिधियों ने 500 करोड़ की परियोजना की और मांग की है, जिन्हें पूरा किया जाएगा। इस दौरान उन्होंने बरेली शहर की 100 फुटा नाम से पहचाने जाने वाली लगभग दो किलोमीटर लंबी प्रमुख सड़क का नामकरण स्वर्गीय विधायक केसर सिंह गंगवार के नाम पर करने की घोषणा की। बता दें कि जिले की नवाबगंज सीट से विधायक रहे केसर सिंह गंगवार का मई माह में कोरोना संक्रमण के चलते निधन हो गया था।

About bheldn

Check Also

ओवैसी की पार्टी के विधायक का राष्ट्रगीत गाने से इनकार, BJP MLA ने कहा- पाकिस्तान जाएं

पटना। अख्तरुल इस्लाम ने कहा कि राष्ट्रगीत गाना जरूरी क्यों है, कोई यह बता दे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *