वैक्सीन लेने के बाद संक्रमित होने पर अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम 75-80% कम

नई दिल्ली

कोरोना की वैक्सीन लेने के बाद संक्रमण का खतरा भले ही पूरी तरह न खत्म होता हो, लेकिन संक्रमण की स्थिति में अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम जरूर बहुत ही कम हो जाता है। सरकार ने शुक्रवार को कहा कि अध्ययनों से पता चला है कि टीकाकरण के बाद कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर हेल्थकेयर वर्कर्स के बीच अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम 75-80 प्रतिशत कम हो जाता है और ऑक्सिजन की जरूरत घटकर 8 प्रतिशत रह जाती है।

इसलिए जरूरी है वैक्सीन लगवाना
ध्यान देने वाली बात यह है कि ये नतीजे हेल्थकेयर वर्कर्स पर किए गए अध्ययन के हैं, जिनके कोरोना वायरस के संपर्क में आने का जोखिम आम लोगों के मुकाबले काफी ज्यादा होता है। वे कोरोना मरीजों के इलाज और देखभाल की भी जिम्मेदारी निभाते हैं लिहाजा वायरस के प्रति उनका एक्सपोजर हाई होता है। अगर वैक्सीन से उनके अस्पताल में भर्ती होने का जोखिम 75-80 प्रतिशत कम हो रहा है तो इसी से समझा जा सकता है कि आम लोगों को यह कितनी ज्यादा सुरक्षा देती है और इसे लगवाना क्यों जरूरी है।

तीसरी लहर में बच्चों के ज्यादा प्रभावित होने की आशंकाओं में दम नहीं
कोरोना की तीसरी संभावित लहर में बच्चों के सबसे ज्यादा प्रभावित होने की बातें कही जा रही हैं। हालांकि, सरकार ने हालिया सीरो सर्वे के आधार पर कहा है कि इन आशंकाओं में कोई दम नहीं दिख रहा। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के जॉइंट सेक्रटरी लव अग्रवाल ने कहा, ‘इस बात में कोई सच्चाई नहीं दिख रही कि तीसरी लहर में बच्चे सबसे ज्यादा प्रभावित होंगे क्योंकि सीरो सर्वे में सभी आयुवर्ग में तकरीबन एक समान सीरोपॉजिटिविटी पाई गई। लेकिन सरकार तैयारियों के लिहाज से कोई भी कसर नहीं छोड़ रही है।’

दूसरी लहर के पीक के मुकाबले 85% घट गए डेली केस
सरकार ने कहा कि देश में सात मई को सामने आए कोरोना के सबसे ज्यादा मामलों के बाद से दैनिक मामलों में लगभग 85 प्रतिशत की कमी दर्ज की गई है। उसने कहा कि देश में 10 मई को दर्ज सर्वाधिक उपचाराधीन मरीजों के मुकाबले कोविड-19 के ऐसे मरीजों की संख्या में करीब 78.6 प्रतिशत की गिरावट आई है।

साप्ताहिक आधार पर संक्रमण दर 81 प्रतिशत घटी
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कोविड-19 के मामलों की साप्ताहिक संक्रमण दर में 81 प्रतिशत की तीव्र कमी दर्ज की गई और यह 30 अप्रैल से छह मई के बीच सर्वाधिक 21.6 प्रतिशत थी। उसने कहा कि देश के 513 जिलों में कोविड-19 संक्रमण दर पांच प्रतिशत से कम है।

About bheldn

Check Also

सिर्फ ओमीक्रोन नहीं कोरोना वायरस के रोज बढ़ते मामले पूरे विश्व के लिए चिंता का विषय

एकबारगी तो लगा कि अब कोरोना वायरस से पूरी दुनिया को निजात मिल जाएगा मगर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *