क्या धरती को खा जाएगा सूरज? भविष्य में अनहोनी की आशंका से डरे वैज्ञानिक

वॉशिंगटन

सूरज से हमारे सौरमंडल को प्रकाश और गर्मी मिलती है। इसी के कारण धरती पर जीवन संभव हो पाया। प्राचीनकाल से लेकर अबतक धरती के अलग-अलग हिस्सों में लोग सूरज की देवता के रूप में पूजा भी करते रहे हैं। अब वैज्ञानिकों को आशंका है कि आज से अरबों साल बाद सूरज का खात्मा हमारी धरती को सौरमंडल की सबसे खराब जगह में बदल देगा। इस दौरान सूरज का आकार इतना बढ़ जाएगा कि वह बुध, शुक्र और हमारी पृथ्वी तक को अपने अंदर समेट लेगा।

आधी उम्र जी चुका हमारा सूरज
वैज्ञानिकों का मानना है कि सूरज की वर्तमान उम्र 4.6 अरब साल हो गई है। जो इसके अनुमानित 10 अरब साल के जीवनकाल का लगभग आधा है। आज से इतने ही साल बाद जब सूरज का हाइड्रोजन ईंधन खत्म हो जाएगा तो वह ऊर्जा पैदा करने के लिए भारी तत्वों का सहारा लेगा। उस समय सूरज का अनुक्रम चरण समाप्त हो जाएगा। उस समय सूरज के आकार में अजीबोगरीब परिवर्तन भी देखने को मिलेंगे।

हीलियम कोर के सिकुड़ने से बढ़ेगा आकार
भारी तत्वों से ऊर्जा उत्पन्न करने के दौरान सूरज का हीलियम कोर सिकुड़ कर और गर्म हो जाएगा। इससे सूरज का आकार 100 गुना से भी अधिक बढ़ने की आशंका है। सूजा हुआ सूरज हमारे सौर मंडल के बुध, शुक्र और पृथ्वी को निगल जाएगा। तब अगर किसी दूसरे सोलर सिस्टम में कोई मौजूद रहा तो उसे हमारा सूरज लाल रंग के बड़े तारे के रूप में दिखाई देगा।

सूरज में शुरू होंगे अलग तरह के फ्यूजन रिएक्शन
इतने बड़े आकार में परिवर्तन के साथ ही सूरज के अंदर अलग तरह के फ्यूजन रिएक्शन शुरू हो जाएंगे। इसका बाहरी आवरण हाइड्रोजन को ईंधन के रूप में जलाएगा और इससे पैदा हुए दूसरे प्रॉडक्ट सूरज के अंदर कोर को ऊर्जा प्रदान करेंगे। इससे सूरज का कोर और अधिक संकुचित और गर्म होगा। जब कोर 180 मिलियन डिग्री फॉरेनहाइट (100 मिलियन डिग्री सेल्सियस) तक पहुंच जाएगा, तो इसका हीलियम जलने लगेगा और कार्बन और ऑक्सीजन में फ्यूज होना शुरू हो जाएगा।

जीवन के अंतिम चरण में पहुंच जाएगा सूर्य
इससे सूर्य कुछ लाख साल के लिए सिकुड़ तो जाएगा, लेकिन बाद में फिर से 100 मिलियन साल के लिए फुल जाएगा। जब इसके कोर का हीलियम खत्म होने के कगार पर पहुंचेगा तब सूरज की चमक और बढ़ जाएगी। उस दौरान बाहर की तरफ बह रही स्टेलर विंड सूरज के बाहरी आवरण को हटा देगी। यह सूरज को अपने जीवन चक्र के अंतिम चरण की ओर ले जाएगी।

सूरज की गर्मी से राख हो जाएंगे कई ग्रह
नासा के साइंस मिशन डॉयरेक्ट्रेट के खगोलशास्त्री एस एलन स्टर्न कहते हैं कि सूजा हुआ सूर्य हमारे सौरमंडल के कई ग्रहों को जलाकर राख कर देगा। पूरे सोलर सिस्टम में जहां-जहां भी पानी या बर्फ मौजूद होगा सब गायब हो जाएगा। सबसे दूर स्थित प्लूटो ग्रह जहां का तापमान हमेशा माइनस में रहता है वह भी किसी उष्णकटिबंधीय समुद्र तट के तापमान जितना गर्म हो जाएगा।

About bheldn

Check Also

वैज्ञानिकों ने कहा- दुनिया में तबाही 2.0 ला सकता है ओमीक्रोन, न्यूयॉर्क में आपातकाल

वॉशिंगटन न्यूयॉर्क की गवर्नर ने शुक्रवार को ‘आपातकाल की स्थिति’ घोषित कर दी क्योंकि अप्रैल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *